सीबीएसई स्कूलों में कक्षा एक से लेकर 10वीं तक के स्टूडेंट्स के लिए शुरू होंगे कला आधारित प्रोजेक्ट कार्य

Views : 728  |  3 minutes read
CBSE-Board

सीबीएसई यानी केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने 10वीं कक्षा तक के विद्यार्थियों के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। दरअसल, सीबीएसई इस शैक्षणिक सत्र से कक्षा प्रथम से लेकर दसवीं तक के विद्यार्थियों के लिए कला आधारित प्रोजेक्ट कार्य शुरू करने जा रहा है। सीबीएसई ने कला आधारित प्रोजेक्ट कार्य को इसलिए शुरू करने का निर्णय लिया है, ताकि छात्रों के सीखने की क्षमता को और ज्यादा आनंदपूर्ण बनाया जा सके। कक्षा प्रथम से लेकर 10वीं तक के विद्यार्थियों को अब शैक्षणिक सत्र 2020-2021 से प्रत्येक विषय में कम से कम एक कला आधारित प्रोजेक्ट कार्य लेना पड़ेगा। कला आधारित प्रोजेक्ट कार्य लेना सभी विद्यार्थियों के लिए अनिवार्य होगा।

केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री ने शेयर की जानकारी

इतना ही नहीं, कक्षा पहली से लेकर आठवीं तक के छात्रों को भी नए शैक्षणिक वर्ष में कम से कम एक कला आधाारित प्रोजेक्ट कार्य (ट्रांस-अनुशासनात्मक परियोजना) लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। सीबीएसई ने स्कूलों को लिखे पत्र में यह बात कही है। केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने भी अपने ट्विटर अकाउंट पर बोर्ड की अधिसूचना के साथ यह जानकारी साझा की है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की इस अधिसूचना के साथ ही अब पहली से लेकर 10वीं कक्षा तक के लिए सीबीएसई के सिलेबस में मामूली ही सही मगर बदलाव हो गया है।

Read More: सीबीएसई 10वीं व 12वीं की बोर्ड एक्जाम एक से 15 जुलाई के बीच होगी

सीबीएसई ने पहली से लेकर दसवीं कक्षा तक के विद्यार्थियों के लिए कम से कम एक विषय कला प्रोजेक्ट कार्य के रूप में शामिल कर दिया है। बता दें, कला-आधारित विषय कक्षा प्रथम से लेकर दसवीं कक्षा तक के छात्रों के लिए अनिवार्य रूप से लागू किया गया है। इसका मतलब है कि विद्यार्थियों को इसे लेना ही पड़ेगा। प्रत्येक छात्र को एक कला आधारिक कार्य लेना ही होगा। इससे स्कूली विद्यार्थियों में सीखने की नई क्षमता विकसित होगी।

COMMENT