जानिए.. कोरोना संक्रमण से ठीक होने वालों के लिए टूथब्रश बदलना क्यों है जरूरी?

Views : 1125  |  3 minutes read
After-Corona-Toothbrush-Change

देश में कोरोना के मामले दुनियाभर में सक्रिय मामलों के करीब 40 फीसदी है। यहां दूसरी लहर में संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। महामारी की एक बुरी बात ये है कि इस बीमारी से ठीक हुआ व्यक्ति दोबारा भी इससे संक्रमित हो सकता है। हालांकि, कोरोना से बचाव में इसकी वैक्सीन काफी प्रभावी साबित हुई है, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना के टीके हर समय सभी स्थितियों में 100 प्रतिशत सुरक्षा की गारंटी नहीं दे सकते हैं। ऐसे में संक्रमित व्यक्ति को ध्यान देना होगा कि एक बार कोरोना से ठीक होने के बाद दोबारा इससे संक्रमित न हो जाएं। इस बारे में विशेषज्ञों की सलाह है कि संक्रमण से ठीक होने के बाद सबसे पहले अपना टूथब्रश बदल देना चाहिए। ऐसा न करने से दोबारा संक्रमित होने का खतरा काफी बढ़ जाता है।

दोबारा संक्रमित कर सकता है टूथब्रश

कोरोना संक्रमितों में कई ऐसे व्यक्ति है जो दोबारा संक्रमित पाए गए हैं, यानि ये पूर्व में भी हो चुके थे। इनमें से कई लोग कोरोना की वैक्सीन भी ले चुके हैं। ऐसे में जहां देश में कोविड-19 की दूसरी के बाद तीसरे लहर आने की भी बात चल रही है तो लोगों को विशेषज्ञों की बात मानकर विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। दंत चिकित्सकों का कहना है कि लोगों का टूथब्रश न केवल उन्हें दोबारा संक्रमित कर सकता है, बल्कि उनके परिवार वालों को भी इससे नुकसान हो सकता है, क्योंकि ज्यादातर भारतीय घरों में लोग कॉमन वॉशरूम का ही इस्तेमाल करते हैं।

Toothbrush-Change-Corona-

गर्म पानी में नमक मिलाकर गरारे करना अच्छा उपाय

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानि डब्ल्यूएचओ के अनुसार, कोरोना वायरस की छोटी बूंदें संक्रमित व्यक्ति के मुंह से खांसी, छींक आदि के माध्यम से निकलकर आसपास की सतहों को दूषित कर देती है। इसे लेकर कहा गया है कि कोविड-19 के लक्षण मिलने के 20 दिनों के बाद अपने टूथब्रश व जीभ क्लीनर को बदलना चाहिए। गर्म पानी में नमक की कुछ मात्रा मिलाकर गरारे करना, मुंह में छिपे वायरस या बैक्टीरिया को खत्म करने का सबसे अच्छा उपाय है। इसके लिए आजकल कई प्रकार के माउथवॉश और बीटाडीन गार्गल बाजार में आसानी से मिल जाते हैं।

अपना टूथब्रश और जीभ क्लीनर बदल लेना चाहिए

एक डेंटल सर्जरी विशेषज्ञ का कहना है कि केवल टूथब्रश ही नहीं जीभ क्लीनर आदि को भी समय पर बदल लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी तरह के मौसमी फ्लू, खांसी व सर्दी से उबर चुके लोगों को अपना टूथब्रश और जीभ क्लीनर बदल लेना चाहिए। ऐसा करने से दोबारा संक्रमण का खतरा कम हो जाता है। डॉक्टरों का कहना है कि बाथरूम में रखे उस सामान को बदल देना चाहिए, जिससे व्यक्ति में संक्रमण का खतरा पैदा हो सकता है।

Read More: इम्यूनिटी मजबूत करने का भी काम करती है लौंग, सेवन करने से होते हैं ये फायदे

COMMENT