इंडियन आर्मी की मदद से कारगिल के ‘शेरशाह’ बनेंगे सिद्धार्थ मल्होत्रा

Views : 1821  |  0 minutes read
chaltapurza.com

भारतीय सेना अपनी ग्लोरी से कोई समझौता नहीं करती। हर चीज की स्क्रूटनी के बाद ही वह किसी को उस पर आधारित या उसके किसी सैनिक पर फिल्म बनाने के लिए हरी झंडी देती हैं। भारतीय सेना और इसके बहादुर जांबाज सैनिकों पर कई फिल्में बनी हैं। बॉलीवुड एक्टर सिद्धार्थ मल्होत्रा की अपकमिंग फिल्म ‘शेरशाह’ भी कारगिल हीरो कैप्टन विक्रम बत्रा की ज़िंदग़ी पर आधारित है। फिल्म ‘शेरशाह’ आर्मी की मदद से पूरी होगी। इस फिल्म के लिए कारगिल में डेढ़ माह लंबे अगले शेड्यूल में इंडियन आर्मी शूटिंग में पूरी मदद करेगी। फिल्म की शूटिंग में मदद करने के अलावा सेना इस पर निगरानी भी रखेगी।

chaltapurza.com

आसानी से नहीं मिलती है डिफेंस मिनिस्ट्री से फिल्म की परमिशन

भारतीय सेना से जुड़ी किसी भी फिल्म की शूटिंग से पहले रक्षा मंत्रालय की स्वीकृति जरूरी है और यह आसानी से नहीं मिलती। फिल्म ‘शेरशाह’ की पिछले महीने ही करगिल में शूटिंग की जानी थी, पर डिफेंस मिनिस्ट्री से जरूरी परमिशन न मिलने के चलते फिल्म की टीम को अगस्त का ही स्लॉट मिल पाया। गौरतलब है कि डिफेंस मिनिस्ट्री बहुत जांच परखकर ही सेना से जुड़ी किसी फिल्म को हरी झंडी देती है। यही कारण है कि उसके पास बॉलीवुड की कई फिल्मों की स्वीकृति पेंडिंग चल रही है। मिनिस्ट्री उससे जुड़ी सभी फिल्मों के कंटेंट परखने के बाद ही स्वीकृति देती है। बता दें, इमरान हाशमी स्टारर फिल्म ‘कैप्टन नवाब’ की परमिशन पेंडिंग में है।

chaltapurza.com

ऐसे रहेगा फिल्म में भारतीय सेना का इंवॉल्मेंट

सिद्धार्थ मल्होत्रा स्टारर फिल्म ‘शेरशाह’ में आर्मी के अत्याधुनिक वैपन्स ‘टी-90 भीष्म टैंक’ से लेकर ‘ड्रैगुनोव स्नाइपर रायफल’ का इस्तेमाल किया जा सकता है। आर्मी के बड़े वैपन्स बोफोर्स तोप और एंटी टैंक गाइडेड मिसाइलों को भी एक्शन सीक्वेंसेज में शामिल करने की कोशिश होगी। आर्मी ऑफिसर ही कलाकारों को वॉर सीन्स के लिए तैयार करेंगे। यहां शूटिंग के दौरान प्लाटून और ट्रूप्स के सीन्स में रियल जवान भी मौजूद रहेंगे। इसके अलावा शूटिंग के दौरान आर्मी अपने जवान तैनात करेगी। बंकरों में भी सैनिक मौजूद होंगे। बता दें, इस फिल्म की टीम को आर्मी के रिस्ट्रिक्टेड एरिया में भी शूटिंग की इजाजत मिली है।

Read More: दुनिया का सबसे सुरक्षित घर, जिस पर परमाणु बम का भी नहीं होगा असर!

सेना की गरिमा का रखा जाता है पूरा ख़्याल

भारतीय सेना खुद से जुड़ी किसी भी फिल्म में अपने प्रतीक चिन्हों, वर्दी, स्टार्स के सही इस्तेमाल और उनके गरिमामय प्रदर्शन को लेकर लगातार मॉनिटरिंग भी करती रहती है। सेना यह सुनिश्चित करती है कि उस फिल्म में आर्मी के सीन्स को मापदंडों के अनुरूप ही दिखाया जाए। इससे कम पर सेना कोई समझौता नहीं करती है। कबता दें, शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा पर बन रही फिल्म ‘शेरशाह’ के लिए आर्मी एक्टर सिद्धार्थ मल्होत्रा को हथियार चलाने की ट्रेनिंग, बॉडी लैंग्वेज, डेली रुटीन, डिसिप्लीन, डायलेक्ट और फिजिकल ट्रेनिंग भी सिखाएगी। सिद्धार्थ इससे पहले फिल्म ‘अय्यारी’ में मेजर जय बक्शी का किरदार निभा चुके हैं।

COMMENT