श्राइन बोर्ड ने कोरोना के कारण अमरनाथ यात्रा रद्द करने का किया ऐलान

Views : 952  |  3 minutes read
Amarnath-Yatra-Cancellation

इस साल होने वाली अमरनाथ यात्रा को अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का ऐलान किया है। इससे बाबा बर्फानी के भक्तों को बड़ा झटका लगा है। हालांकि, श्राइन बोर्ड ने यह फैसला कोरोना वायरस महामारी के कारण लिया है। जम्मू और कश्मीर सरकार के राजभवन से जारी आदेश में कहा गया है कि वर्तमान परिस्थितियों के आधार पर श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड ने निर्णय लिया कि इस वर्ष की श्री अमरनाथजी यात्रा को आयोजित करना और संचालन करना उचित नहीं है। इस आदेश में यात्रा को रद्द करने की घोषणा करने पर खेद भी व्यक्त किया गया है।

पूर्व में 21 जुलाई से यात्रा शुरू करने का लिया गया था निर्णय

गौरतलब है कि इस साल होने वाली अमरनाथ यात्रा पहले 23 जून और उसके बाद 21 जुलाई से शुरू करने का निर्णय लिया गया था। लेकिन कोरोना वायरस महामारी के कारण यात्रा का संचालन करना संभव नहीं हो पाया। हालांकि, अमरनाथ यात्रा शुरू करने को लेकर प्रशासन तैयारियों में जुटा था। कई बार मार्ग में बदलाव करने की योजना बनाई गई थी। यात्रियों को हेलीकॉप्टर से बाबा बर्फानी के दर्शन कराने पर भी विचार किया गया था।

जानकारी के अनुसार, सावन पूर्णिमा यानी तीन अगस्त तक पवित्र गुफा में सुबह-शाम की आरती चलती रहेगी। इसके साथ ही छड़ी मुबारक समेत सभी परंपराओं का निर्वहन होगा। कोरोना संकट को देखते हुए 21 जुलाई से हेलिकाप्टर से बालटाल ट्रैक से यात्रा शुरू कराने पर विचार चल रहा था। इस बीच लगातार प्रदेश सरकार स्थिति पर नजर रखे हुए था। बढ़ते मामलों को देखते हुए इस महीने पवित्र गुफा में सुबह और शाम की आरती का शुभारंभ किया गया। इसका दूरदर्शन से सीधा प्रसारण किया जा रहा है।

Read More: कोरोना संक्रमण के 90 दिन तक प्लाज्मा दान किया जा सकता है: स्टडी

अमरनाथ यात्रा के लिए कई तैयारियां भी पूरी कर ली गई थी

आपको जानकारी के लिए बता दें कि इस साल अमरनाथ यात्रा पर आने वाले यात्रियों के लिए दो हॉल में लगभग 200 बेड तैयार कर दिए गए थे। सुरक्षा जांच तथा सैनिटाइजेशन की प्रक्रिया भी पूरी कर ली गई थी। इसके अलावा जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर सुरक्षाकर्मियों को तैनात कर दिया गया था। इससे पहले पिछले साल जम्मू-कश्मीर राज्य को विशेष दर्ज़ा देने वाले अनुच्छेद 370 हटाने की प्रक्रिया के दौरान बीच में ही यात्रा को स्थगित करना पड़ा था।

COMMENT