एसबीआई के ग्राहकों को एटीएम और चेकबुक जैसी सेवाओं के लिए एक जुलाई से देने होंगे नए चार्ज

Views : 813  |  3 minutes read
SBI-New-Charges-Announcement

देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने अपने लाखों ग्राहकों को बड़ा झटका देने जा रहा है। दरअसल, बैंक अपने ग्राहकों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए कई तरह की सेवाएं उपलब्ध कराता है। उसके बदले वह कई बार चार्ज भी वसूलता है। अब एसबीआई एक जुलाई, 2021 से नए सर्विस चार्ज लागू करने जा रहा है। SBI ग्राहकों को एटीएम से पैसे निकालने और चेक के जरिए लेन-देन करने के लिए नए सर्विस चार्ज का भुगतान करना होगा। हालांकि, यह बेसिक सेविंग्स बैंक डिपॉजिट (बीएसबीडी) खाताधारकों पर लागू होगा। एसबीआई द्वारा साझा की गई जानकारी के अनुसार, एक जुलाई से बेसिक सेविंग्स बैंक डिपॉजिट खातों के लिए अतिरिक्त वैल्यू एडेड सर्विसेज लागू कर दी जाएगी।

एटीएम से मुफ्त में चार बार ही पैसे निकाल सकेंगे

एसबीआई के अनुसार, एक जुलाई से बेसिक सेविंग्स बैंक डिपॉजिट खाताधारकों को बैंक के ब्रांच से या फिर एटीएम से मुफ्त में पैसे निकालने की सुविधा महीने में सिर्फ चार बार ही मिलेगी। यदि ग्राहक चार बार से ज्यादा निकासी करते हैं, तो बैंक इस पर चार्ज वसूलेगा। ब्रांच चैनल या एटीएम में प्रति कैश निकासी पर 15 रुपये के साथ जीएसटी वसूला जाएगा। एसबीआई के एटीएम के अलावा अन्य बैंकों के एटीएम से निकासी पर भी इतना ही चार्ज लागू है। चार बार की निकासी में एटीएम और ब्रांच भी शामिल हैं।

वरिष्ठ नागरिकों को चेकबुक पर नए सर्विस चार्ज से छूट

एसबीआई अपने बेसिक सेविंग्स बैंक डिपॉजिट खाताधारकों को एक वित्त वर्ष में 10 चेक मुफ्त देगा। इसके बाद 10 चेक वाली चेकबुक के लिए ग्राहक को 40 रुपये के साथ जीएसटी वसूला जाएगा। वहीं, 25 चेक वाली चेकबुक के लिए ग्राहक से 75 रुपये के साथ जीएसटी का भुगतान करना होगा। इसके साथ ही 10 चेक वाली इमरजेंसी चेकबुक के लिए 50 रुपये के साथ जीएसटी चार्ज देने होंगे। हालांकि, बैंक ने वरिष्ठ नागरिकों को चेकबुक पर नए सर्विस चार्ज से छूट दी है। एसबीआई और गैर-एसबीआई बैंक शाखाओं में बीएसबीडी खाताधारकों द्वारा गैर-वित्तीय लेन-देन पर कोई शुल्क नहीं लगेगा। इसके अलावा बैंक ब्रांच व अल्टरनेट चैनल्स के माध्यम से मनी ट्रांसफर ट्रांजेक्शंस पर भी किसी तरह का चार्ज नहीं वसूला जाएगा।

Read More: केंद्र सरकार को 99,122 करोड़ रुपये का अधिशेष हस्तांतरित करेगा आरबीआई

COMMENT