भारत: रूसी कोरोना टीके स्पूतनिक-वी की कीमत तय, अगले हफ्ते से बाजार में उपलब्ध होगी वैक्सीन

Views : 1427  |  3 minutes read
Sputnik-V-Price-India

देश में कोरोना महामारी को मात देने के लिए फिलहाल दो वैक्सीन भारत बायोटेक की कोवाक्सिन और ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविशील्ड लोगों को लगाई जा रही है। अब इनके अलावा रूस की कोरोना वैक्सीन स्पूतनिक-वी का टीका भी लोगों को लगाया जाएगा। अगले सप्ताह से ये वैक्सीन बाजार में उपलब्ध हो जाएगी। हालांकि, ये वैक्सीन पहले से मौजूद दोनों वैक्सीन से महंगी होगी। देश में स्पूतनिक-वी टीके की एक खुराक की कीमत 995.40 रुपये होगी। आरडीआईएफ यानि रूसी प्रत्यक्ष निवेश फंड के सीईओ किरिल दिमित्रीव ने कहा कि स्पूतनिक वी एक रूसी-भारतीय वैक्सीन है। इसके एक बड़े हिस्से का उत्पादन भारत में होगा। हमें भारत में इस साल वैक्सीन की 850 मिलियन खुराकों के उत्पादन की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि हम उम्मीद कर रहे हैं कि भारत में जल्द ही स्पूतनिक लाइट वैक्सीन भी लाई जाएगी।

भारत में डॉ. रेड्डी लैब बनाएगी स्पूतनिक वैक्सीन

ऐसा कहा जा रहा है कि स्पूतनिक-वी का निर्माण भारत में होगा, इसलिए फिलहाल के लिए उसकी इतनी कीमत रखी गई है। बाद में देश में निर्माण होने लगेगा तो वैक्सीन की कीमत कम कर दी जाएगी। भारत में कंपनी के लिए वैक्सीन बनाने जा रही डॉ. रेड्डी लैब ने इसकी जानकारी दी। कंपनी ने बताया कि गुरुवार को इस टीके को सेंट्रल ड्रग्स लेबोरेटरीज से मंजूरी मिल गई थी। आपको बता दें, भारत में अभी स्पूतनिक-वी वैक्सीन के 1.5 लाख डोज उपलब्ध हैं। वहीं, देश में फिलहाल कोवाक्सिन और कोविशील्ड वैक्सीन को टीकाकरण में इस्तेमाल किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार, केंद्र सरकार इन दोनों टीकों को 250 रुपये की कीमत में खरीदती है, लेकिन इन दोनों वैक्सीन के निर्माताओं ने खुले बाजार और निजी अस्पतालों में वैक्सीन की अलग-अलग कीमत तय की हुई है।

एक मई को भारत पहुंची थी स्पूतनिक-वी की पहली खेप

गौरतलब है कि इस साल फरवरी में रूसी वैक्सीन के ट्रायल परिणामों को दि लांसेट में प्रकाशित किया गया था, इस कोरोना वैक्सीन को सुरक्षित और प्रभावशाली बताया गया। शुक्रवार को हैदराबाद में स्पूतनिक-वी टीके की पहली खुराक एक व्यक्ति को लगाई गई। डॉ. रेड्डी लैब ने जानकारी दी कि स्पूतनिक वी वैक्सीन की पहली खेप 1 मई को ही भारत पहुंची गई थी। कंपनी ने बताया कि अभी टीके की और खेप देश में मंगाई जाएगी। हालांकि, आगे इसे भारतीय साझेदार कंपनियों के द्वारा ही उत्पादित किया जाना है। डॉ. रेड्डी लैब ने कहा कि जब यह रूसी टीका भारत में बनने लगेगा तो इसके दाम कम हो सकते हैं। देश में जल्द ही कंपनी इस वैक्सीन का उत्पादन शुरू करेगी।

Read More: देश में दिसंबर तक कोरोना टीके की 216 करोड़ खुराक उपलब्ध होंगी: केंद्र सरकार

COMMENT