डीसीजीआई ने 6 से 12 साल के बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन की दी मंजूरी

Views : 608  |  3 minutes read
DCGI-Approves-for-Children-Vaccine

देश में एक बार फिर कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते दिख रहे हैं। कई बच्चे भी कोरोना ग्रस्त हो चुके हैं। इसकी वजह से एनसीआर क्षेत्र दिल्ली में कई स्कूलों को बंद कर दिया गया है। इस बीच ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने 6 से 12 साल के बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। डीसीजीआई ने 6 से 12 साल तक के बच्चों के लिए कोवाक्सिन को इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दी है। इसके अलावा 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों के लिए Zycov-D वैक्सीन को भी इमरजेंसी यूज की मंजूरी दी गई है।

तीन वैक्सीन को आपात इस्तेमाल की अनुमति

डीसीजीआई ने बच्चों के लिए कोरोना की तीन वैक्सीन को आपात इस्तेमाल (ईयूए) के लिए मंजूरी दे दी है। जहां 6 से 12 साल तक के बच्चों के लिए कोरोना वैक्सीन ‘कोवाक्सिन’ और 5 से 12 वर्ष के बच्चों के लिए बायोलॉजिकल-ई की कोरोना वैक्सीन कॉर्बेवैक्स को मंजूरी मिली है। वहीं, 12 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों के लिए जायकॉव-डी (Zycov-D) वैक्सीन को भी मंजूरी मिली है। आपको जानकारी के लिए बता दें कि 12 साल से अधिक उम्र के बच्चों को पहले से ही वैक्सीन लगाई जा रही थी। अब डीसीजीआई ने 5 से 12 साल तक के बच्चों के वैक्सीनेशन का रास्ता भी साफ कर दिया है।

इसलिए इमरजेंसी यूज टर्म का होता है इस्तेमाल

मालूम हो कि अब तक जितनी भी कोरोना वैक्सीन आई हैं और जिनका इस्तेमाल हो रहा है, उन सबके इमरजेंसी इस्तेमाल को ही मंजूरी दी गई है। महामारी के दौरान किसी भी वैक्सीन को फुल ऑथराइजेशन नहीं मिलती है। दरअसल, ये सारी वैक्सीन एक्सीलेरेट प्रोसेस से बनी हैं, इसलिए इनके लिए इमरजेंसी यूज टर्म का इस्तेमाल किया जाता है।

6 से 12 साल तक के बच्चों को वैक्सीन की मंजूरी को लेकर यह समझने की जरूरत है कि अभी वैक्सीन को सिर्फ मंजूरी दी गई है। जब तक केंद्र सरकार अनुमति नहीं देती, तब तक बच्चों को वैक्सीन नहीं लगाई जाएंगी। अनुमति देते वक्त सरकार ही यह फैसला करेगी कि सारे बच्चों को वैक्सीन लगेगी या सिर्फ उन बच्चों को जो गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं।

​​​​​वैक्सीन लगवाने के लिए रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी

आपको बता दें कि अगर आपके घर में 12 से 14 साल के बच्चे हैं तो उन्हें कोरोना वैक्सीन लगवाई जा सकती है। इसके लिए आपको सबसे पहले कोविन पोर्टल पर जाकर रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। इसके बाद ही स्लॉट बुकिंग के हिसाब से नजदीक के सेंटर्स पर बच्चों को वैक्सीन लगाई जा सकती है।

गृह मंत्रालय ने दो एनजीओ का एफसीआरए लाइसेंस किया रद्द, अब नहीं ले पाएंगे विदेशी चंदा

COMMENT