आरबीआई ने IMPS के जरिए पैसे भेजने की सीमा को दो से बढ़ाकर पांच लाख रुपये की

Views : 626  |  3 minutes read
IMPS-RBI-New-Limit

भारत में ​विगत कुछ वर्षों में ऑनलाइन लेन-देन का चलन काफी बढ़ा है। ख़ासकर युवा वर्ग के बीच डिजिटल पेमेंट्स बेहद पॉपुलर माध्यम बन गया है। इसे ध्यान में रखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक यानि आरबीआई ने आईएमपीएस (IMPS) की सीमा को दो लाख रुपये से बढ़ाकर 5 लाख रुपये करने की घोषणा की है। केंद्रीय बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने मौद्रिक समीक्षा नीति की घोषणा करते हुए यह बात कही। जानकारी के लिए बता दें, आईएमपीएस के जरिए किसी भी खाता धारक को कहीं से भी कभी भी पैसे भेजे जा सकते हैं। अब तक इसकी लिमिट 2 लाख रुपये थी, जिसे बढ़ाकर अब 5 लाख रुपये कर दिया गया है।

डिजिटल पेमेंट्स में तेजी आएगी, ग्राहकों को मिलेगी सुविधा

आरबीआई द्वारा आईएमपीएस की सीमा बढ़ाए जाने से डिजिटल पेमेंट्स में तेजी आएगी। साथ ही ग्राहकों को भी 2 लाख रुपये से अधिक डिजिटल पेमेंट्स करने के लिए अतिरिक्त सुविधा मिलेगी। इसके लिए केंद्रीय बैंक जल्दी ही अलग से जरूरी दिशा-निर्देश जारी करेगा। आईएमपीएस यानि इमीडिएट पेमेंट सर्विस एक तत्‍काल इंटरबैंक इलेक्‍ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सर्विस है। मालूम हो कि इसे मोबाइल फोन के जरिए किया जाता है। साथ ही इसके लिए एटीएम, इंटरनेट बैंकिंग आदि माध्‍यमों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

जानिए क्या होती है तत्काल भुगतान सेवा (IMPS)

आपको जानकारी के लिए बता दें कि यह मुफ्त सेवा है। इसके जरिए कोई भी बैंक ग्राहक अपने अकाउंट से दूसरे व्‍यक्ति के बैंक खाते में पैसा ट्रांसफर कर सकता है। इससे देश में ऑनलाइन बैंकिंग के माध्यम से कहीं भी, कभी भी पैसे भेजे जा सकते हैं। ऑनलाइन बैंकिंग से पैसे ट्रांसफर करने के भी तीन तरीके होते हैं। इसमें आईएमपीएस (IMPS), एनईएफटी (NEFT), आरटीजीएस (RTGS) शामिल है। आईएमपीएस एक रियल टाइम पेमेंट सर्विस है। इसके जरिए किसी भी खाता धारक को कहीं भी कभी भी पैसे भेज सकते हैं। इसमें पैसे भेजने के वक्त को लेकर कोई पाबंदी नहीं है। कोई भी व्यक्ति 24 घंटे में कभी भी आईएमपीएस के जरिए पैसे ट्रांसफर कर सकता है।

आरबीआई गवर्नर दास ने घोषणा करते हुए कहा कि आईएमपीएस सिस्टम की अहमियत को देखते हुए इसकी लिमिट प्रति ट्रांजैक्शन 2 लाख से बढ़ाकर 5 लाख करने का प्रस्ताव है। गौर करने वाली बात ये है कि 15 मार्च, 2021 से इनवार्ड आईएमपीएस ट्रांसफर पर किसी तरह की कोई फीस नहीं लगती है।

Read Also: UIDAI ने सभी सेवाओं के लिए आधार सत्यापन फीस 20 रुपये से घटाकर इतनी की

COMMENT