पुडुचेरी चुनाव: दक्षिण भारत के एक और राज्य में भाजपा नीत एनडीए की सरकार, कांग्रेस ने गंवाई सत्ता

Views : 658  |  3 minutes read
Puducherry-Election-2021

पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को कोई बड़ी सफलता तो नहीं मिली, लेकिन उसके लिए अच्छी बात ये है कि पार्टी ने कोई राज्य गंवाया भी नहीं है, बल्कि एक और राज्य में गठबंधन की सरकार बनाने के लिए तैयार है। कर्नाटक के बाद दक्षिण के एक और राज्य पुडुचेरी में भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार बनाने जा रहा है। वहीं, कांग्रेस को यहां सत्ता गंवानी पड़ी। इस केंद्र शासित प्रदेश में भाजपा, एनआर कांग्रेस और एआईएडीएमके के गठबंधन को बहुमत से अधिक सीटें मिली हैं।

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री एन रंगास्वामी की पार्टी एनआर कांग्रेस ने जिन 16 सीटों पर चुनाव लड़ा, उनमें से उसने 10 सीटों पर जीत दर्ज की। वहीं, 9 सीटों पर पर चुनाव लड़ने वाली भाजपा ने 6 सीटों पर जीत दर्ज की। जबकि उनकी सहयोगी पार्टी एआईएडीएमके को किसी भी सीट पर बढ़त नहीं मिली। अन्नाद्रमुक को पिछले चुनाव में 16 प्रतिशत वोट मिले थे और चार सीटों पर विजय प्राप्त की थी।

रंगास्वामी की लोकप्रियता के सामने सत्ता पक्ष हुआ ढेर

पुडुचेरी में एन रंगास्वामी की लोकप्रियता के सामने कांग्रेस और द्रमुक का गठबंधन कहीं भी टिक नहीं पाया। उधर, इस विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने निवर्तमान मुख्यमंत्री वी नारायणसामी को कांग्रेस ने टिकट ही नहीं दिया था। बता दें कि कांग्रेस के खेमे से कुछ विधायकों के पाला बदलने की वजह से नारायणसामी की सरकार चुनाव से महज एक महीने पहले गिर गई थी। उन्हें लोगों की सहानुभूति मिल सकती थी, लेकिन कांग्रेस ने नारायणसामी को पूरे चुनाव से दूर ही रखा। वहीं, दूसरी तरफ एन रंगास्वामी की बात करें तो उनकी लोकप्रियता ज्यादा है। वह साइकिल पर चलते हैं। सड़क के किनारे किसी भी चाय की दुकान पर लोगों के बीच बैठकर बात करते नज़र आते हैं।

पुडुचेरी में 30 सीटों पर होता है विधानसभा चुनाव

आपको जानकारी के लिए बता दें कि पिछले विधानसभा चुनाव में एआईएडीएमके ने सभी 30 सीटों पर चुनाव लड़ा था और उसे केवल 4 पर जीत मिली थी। एनआर कांग्रेस ने भी 30 में से सिर्फ 8 पर ही जीत हासिल की थी, जबकि भाजपा और पीएमके को एक भी सीट नहीं मिली थी। पिछली बार कांग्रेस ने 21 सीटों पर चुनाव लड़ा और 15 पर जीत दर्ज की थीं, जबकि डीएमके ने 9 में से केवल दो ही सीटें जीती थीं। इस बार कांग्रेस को केवल दो सीटें मिल पाई है, जबकि उसके सहयोगी डीएमके को पांच सीटों पर विजय मिली है। गौरतलब है कि पुडुचेरी में विधानसभा की कुल 33 सीटें है, जिसमें से राज्य विधानसभा की तीन सीटें पर उपराज्यपाल सदस्य मनोनीत करते हैं। वहीं, बाकी की 30 सीटों पर विधानसभा का चुनाव होता है।

Read: केंद्रीय गृह मंत्रालय ने नई कोरोना गाइडलाइंस जारी की, पूरे देश में सख्ती लागू करने पर जोर

COMMENT