नियमित योगासन करने से जड़ से ख़त्म हो सकते हैं पिंपल्स

04 read
chaltapurza.com

भाग-दौड़ भरी ज़िंदग़ी में लगभग हर तीसरा शख़्स पिंपल्स से परेशान है। इनमें से ज्यादातर युवा डॉक्टर से रेगुलर ट्रीटमेंट लेने के बाद भी इनसे छुटकारा नहीं पा रहे हैं। यहां त​क कि चेहरे पर पिंपल्स होने से बहुत से युवा स्ट्रेंस में होते हैं। इसके कारण ही कई रिश्ते टूट जाते हैं या नकार दिए जाते हैं। कई तरीके अपनाने के बाद ही लड़के-लड़की मुहांसों मुक्ति नहीं पा सके। लेकिन हम आपको कुछ ऐसे योगासन बता रहे हैं जिनके नियमित अभ्यास से मुंहासों से हमेशा के लिए छुटकारा पाया जा सकता है।

chaltapurza.com

त्रिकोणासन

त्रिकोणासन करने से ब्लड सर्कुलेशन तेज हो जाता है। यह आसन चेहरे के नैचुरल ग्लो और आकर्षण को बरकरार रखने का काम करता है। इसे करने के लिए सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं, फिर अपने पैरों को एक मीटर की दूरी तक फैलाए और अंदर की ओर सांस लें। अपनी दोनों भुजाओं को कंधे की सीध में ले जाएं। फिर कमर से आगे की ओर झुकें और इसी बीच सांस को छोड़े। अब बाए हाथ से दाएं पैर के पंजे को छुएं और दूसरा हाथ आसमान की ओर रखें। इस अवस्था में 2-3 सेकेंड तक रुकें। इसके बाद शरीर को सीधा रखें। सांस भरते हुए ऊपर की तरफ उठें। अब दोबारा इसी विधि को दूसरे हाथ से करें। इस तरह 5-6 बार इस अभ्यास को प्रतिदिन दोहराएं।

chaltapurza.com

उत्तानासन

उत्तानासन करते वक़्त सीधे खड़े हो जाएं और अपने हाथ अपने शरीर के साइड में रखें। इसके बाद सांस छोड़ते हुए कूल्हे के जोड़ों से नीचे की ओर झुके। इस दौरान यह ध्यान रखें कि कमर के जोड़ों से नहीं झुकना है। नीचे झुकते समय सांस छोड़ें। सभी आगे झुकने वाले आसनों की तरह उत्तानासन में उद्देश्य धड़ को लंबा करना होता है। अगर इसमें इतना लचीलापन हो कि उंगलियां या हथेली ज़मीन पर टीका सकें, तो टिकाने की कोशिश करें। अगर आपके लिए यह करना संभव ना हो तो ज़बरदस्ती ऐसा करने की कोशिश ना करें। ऐसी स्तिथि में अपने फॉरार्म्स को क्रॉस करें और अपनी कोहनी पक्कड़ लें। आसन में रहते हुए सांस ना रोकें, जब सांस अंदर लें, तब धड़ को थोड़ा सा उठायें और लंबा करने की कोशिश करें। जब साँस को छोड़ें, तब आगे की तरफ और गहराई से झुकने की कोशिश करें। ऐसा कम से कम पांच बार करें।

कपालभाती प्रणायाम

कपालभाती आसन को ऐसा योगासन माना जाता है जिसमें सभी योगासनों का फायदा मिलता है। इसे करने के लिए सिद्धासन, पद्मासन या वज्रासन में बैठकर सांसों को बाहर छोड़ें। यह करते वक्त अपने पेट को अंदर की तरफ धक्का दें और ज्यादा से ज्यादा सांस बाहर फेंके। इस आसन को प्रतिदिन आधे घंटे तक करने से बहुत जल्द मुंहासों से राहत मिलेगी।

Read More: महाराष्ट्र के पूर्व सीएम के बेटे की पत्नी हैं एक्ट्रेस जेनेलिया डिसूजा

ये सभी योगासनों से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन तेज हो जाता है और रक्त संचार से चेहरे की डेड स्किन, टॉक्सिन, दूषित कण आदी दूर हो जाते हैं और पिंपल्स जड़ से ख़त्म हो जाते हैं।

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.