टोक्यो ओलिंपिक गेम्स में मुस्लिमों के नमाज़ पढ़ने के लिए होगी यह ख़ास व्यवस्था

Views : 2287  |  3 minutes read
Mobile-Mosque-

इसी साल जापान में होने वाले टोक्यो ​ओलिंपिक में अब कुछ माह ही शेष रह गए हैं। खेलों के इस महाकुंभ के लिए सभी तरह की तैयारियां करीब-करीब अंतिम दौर में है। साल 2020 में 24 जुलाई से 9 अगस्त तक जापान में ग्रीष्मकालीन ओलिंपिक गेम्स का आयोजन होगा। इस दौरान ओलिंपिक में जाने वाले मुस्लिम एथलीट, अधिकारी और समर्थकों को नमाज़ पढ़ने के लिए विशेष व्यवस्था की है। मुस्लिम धर्म के अनुयायियों के लिए टोक्यो में मस्जिद ऑन व्हील्स की व्यवस्था की गई है। खेलों की शुरुआत से पहले ए​थलीटों को खेल गांव में प्रार्थना कक्ष उपलब्ध होंगे। हालांकि, कुछ स्थानों में यह नहीं भी हो सकता है।

Mobile-Mosque-

मस्जिद ऑन व्हील्स में होगी यह व्यवस्था

दरअसल, जापान की राजधानी टोक्यो में होटल और सार्वजनिक क्षेत्रों में प्रार्थना स्थलों की कमी है। इन्हीं कारणों को ध्यान में रखते हुए मोबाइल मस्जिद की व्यवस्था की गई है। ओलिंपिक गेम्स के दौरान बड़ी संख्या में मुस्लिम एथलीट, अधिकारी और उनके समर्थक टोक्यो पहुंचेंगे। मस्जिद ऑन व्हील्स में नमाज़ पढ़ने के लिए 48 वर्ग मीटर की जगह रहेगी। ख़ास बात यह है कि मोबाइल मस्जिद के पिछले हिस्से को सेकंडों में चौड़ा किया जा सकता है। इसमें नमाज से पहले हाथ-पैर की सफाई के लिए पानी के नल लगे होंगे। इस प्रोजेक्ट को पूरा करने वाली कंपनी यासु के सीईओ यासुहारु इनुओ को उम्मीद है कि खिलाड़ी और समर्थक समान रूप से ट्रक का उपयोग करेंगे।

Mobile-Mosque-

कंपनी के सीईओ यासुहारु इनुओ ने कहा, ‘मैं चाहता हूं कि टोक्यो ओलिंपिक गेम्स में एथलीट्स अपनी पूरी प्रेरणा के साथ प्रतिस्पर्धा करें। इसी वजह से हमने इसे बनाया है। मुझे उम्मीद है कि यह इस बात की जागरूकता लाने में सफल रहेगा कि दुनिया में अलग-अलग लोग हैं। इससे गैर-भेदभावपूर्ण, शांतिपूर्ण ओलिंपिक और पैरालिंपिक गेम्स को बढ़ावा मिलेगा। हम सभी धर्म के लोगों की सुविधा के लिए व्यवस्था करने में लगे हैं।’ इनुओ ने कहा कि हमने एथलीट्स की सुविधाओं के लिए कई ओलिंपिक समितियों से बात की है। इनमें इंडोनेशिया भी शामिल है।

Read More: ब्रांड वैल्यू के मामले में विराट कोहली टॉप पर, कई दिग्गज सेलिब्रिटीज को छोड़ा पीछे

पूरे जापान में 100 से ज्यादा मस्जिदें, लेकिन दूर

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि जापान में वर्ष 2018 के अंत तक 105 मस्जिदें थीं। लेकिन, ये मस्जिदें देश के अलग-अलग शहर, कस्बे और गांवों में हैं। इनमें से कई आकार में काफ़ी छोटे और राजधानी टोक्यो से बाहर हैं। इससे ग्रीष्मकालीन ओलिंपिक गेम्स के दौरान मुस्लिम धर्मावलंबियों को दिन में 5 बार नमाज़ पढ़ने में परेशानी हो सकती है। हालांकि, मस्जिद ऑन व्हील्स से इसका समाधान हो जाएगा।

 

COMMENT