‘जब तक इन रेपिस्ट लोगों को अपुन पुलिस लोग ठोकते नहीं, तब तक कुछ नहीं बदलेगा’

Views : 1727  |  0 minutes read

ये डॉयलाग जो हैडिंग में लगा है ये रणवीर सिंह की मूवी ‘सिम्बा’ से लिया गया है। मगर ये डॉयलॉग नहीं आज के समय की डिमांड है। हैदराबाद पुलिस ने शुक्रवार सुबह रेप के आरोपियों का उसी जगह पर एनकाउंटर किया जहां पर ये घटना हुई थी। शुक्रवार सुबह हुए इस एनकाउंटर के बाद से हैदराबाद पुलिस की तारीफें हो रही हैं। कहीं एनकाउंटर करने वाले पुलिसवालों पर फूलों की बारिश हो रही है। तेलांगना में पब्लिक दिवाली बना रही है। महिलाएं पुलिस को राखी बांध रही है।

जिस जगह पर रेप हुआ उसी जगह मारे गए आरोपी

पीड़िता दिशा बदला हुआ नाम को करीब 9 दिन पहले इन चारों ने जिस हाइवे पर रेप के बाद जिंदा जलाया था ठीक उसी जगह पर एनकाउंटर किया गया है। शमशाबाद के डीसीपी प्रकाश रेड्डी ने बताया कि पुलिस आरोपियों को लेकर इस घटना को रिक्रि​एट करने पहुंची थी। यहां आरोपियों ने भागने की कोशिश की। साइबराबाद पुलिस कमिश्नर वीसी सज्जनर ने बताया कि चारों आरोपी शुक्रवार तड़के 3 से 6 बजे के बीच शादनगर स्थित चतनपल्ली में एनकाउंटर में मारे गए।

ना अरेस्ट, ना लंबा केस, फैसला ताबड़तोड़

सिंघम और सिम्बा जैसी बहुत सी फिल्मों ने ये मैसेज दिया था कि अब ऐसे दरिंदों को बिना लंबे केस के सीधे सजा मिलनी चाहिए। पता नहीं रेप के कितने केस कोर्ट में पेडिंग है। 7 साल पहले हुए निर्भया कांड के आरोपियों अभी तक फांसी नहीं हुई। हैदराबाद पुलिस को चारों रेप आरोपियों का एनकाउंटर करने के लिए शा​बाशी मिलनी चाहिए। हैदराबाद पुलिस ने इस एनकाउंटर पर यही बात दिल में आ रही है ‘ नो अरेस्ट, नो लंबा केस, फैसला ताबड़तोड़’।

दिशा की आत्मा को आज शांति मिली

हैदराबाद रेप केस की पीडिता दिशा को आज सही मायनों में न्याय मिला है। वैसे इन आरोपियों को बहुत आसान मौत मिली है मगर तसल्ली इस बात की है फटाफट न्याय हुआ है। इतने घिनौने काम के लिए हाथों—हाथ सजा दी जानी चाहिए। इस एनकाउंटर के बाद पीड़िता के घरवाले भी संतुष्ट हैं कि उनकी बेटी को न्याय मिला है।

भले ही मानव अधिकार वाले कुछ भी बोलते रहें मगर आज पूरा देश हैदराबाद की पुलिस को सैल्युट करता है। जय हिन्द!

COMMENT