दिल्ली हिंसा: दंगाइयों को देखते ही गोली मारने का आदेश, अजित डोभाल ने संभाला मोर्चा

Views : 2799  |  3 minutes read

दिल्ली में फैली हिंसा पर नियं​त्रण करने के लिए केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल को जिम्मेदारी सौंप दी हैं। डोभाल अब दिल्ली हिंसा मामले में सीधे पीएम मोदी व कैबिनेट को रिपोर्ट सौंपेंगे। इसके साथ ही दंगाईयों को देखते ही गोली मारने के आदेश भी दिए गए हैं। हिंसा में मरने वालों की संख्या 20 हो गई है।

डोभाल अब पीएम व कैबिनेट को देंगे जानकारी

दिल्ली में पिछले 3 दिनों से जारी हिंसा व हुई मौतों के बाद केंद्र सरकार को आखिरकार एनएसए अजित डोभाल को जिम्मेदारी देनी पडी। डोभाल ने दिल्ली में मोर्चा संभालते ही मंगलवार रात जाफराबाद,सीलमपुर व उत्तरी पूर्वी दिल्ली के कई क्षेत्रों का दौरा किया और विभिन्न लोगों से बातचीत कर मामले की जानकारी ली। अजित डोभाल अब दिल्ली हिंसा मामले में सीधे पीएम मोदी व कैबिनेट को रिपोर्ट सौंपेंगे।

पुलिस को मिली खुली छूट

दिल्ली हिंसा पर नियंत्रण करने की प्रमुख जिम्मेदारी मिलते ही एनएसए अजित डोभाल मंगलवार देर रात को ही सीलमपुर स्थित दिल्ली के डीसीपी कार्यालय पहुंच गए जहां उन्होंने पुलिस के आला अधिकारियों के साथ मीटिंग कर वर्तमान स्थिति पर चर्चा की। इस दौरान पुलिस को स्थिति काबू में करने के लिए खुली छूट भी दी गई।

Read More: दिल्ली हिंसा पर तुरंत काबू के लिए उच्चस्तरीय मंथन, शाह ने बुलाई आपात बैठक

हालात नियंत्रण के लिए 67 कंपनियां की तैनात

हिंसा पर तुरंत प्रभाव से काबू पाने के लिए गृह मंत्रालय ने करीब 67 कंपनी तैनात कर दी हैं। इनमें सीआरपीएफ,आरएएफ व एसएसबी की कंपनियां हैं जो ​दंगाईयों से निपटेंगी।

मरने वालों की संख्या बढी

इधर दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 20 तक पहुंच गई है और 200 के लगभग घायल होने की जानकारी सामने आ रही हैं। हालांकि बुधवार को हालात सामान्य बताए जा रहे हैं।

केजरीवाल ने सेना बुलाने की मांग की

इधर दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली के हालातों को देखते हुए केंद्र सरकार से सेना भेजने की मांग की है। केजरीवाल ने बुधवार को एक ट्वीट कर कहा कि वह पूरी रात्रि लोगों से संपर्क में रहे और स्थिति तनावपूर्ण है। इसलिए सेना को बुलाकर कर्फ्यू लगाना चाहिए और मैं गृहमंत्री को पत्र लिख रहा हूं।

 

COMMENT