कोरोना: राजस्थान में सार्वजनिक स्थानों पर 50 से अधिक लोगों के इकट्ठा होने पर पाबंदी

Views : 615  |  3 minutes read

देश में लगातार बढ रहे कोरोना वायरस के मामलों को देखते हुए राजस्थान सरकार और सचेत हो गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने देर रात सीएम आवास पर एक उच्च स्तरीय मीटिंग लेकर बीमारी के संक्रमण से बचाव के लिए प्रदेश में 31 मार्च तक अब सार्वजनिक जगहों पर 50 से ज्यादा लोगों के एकत्रित होने पर रोक लगाने के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

मीटिंग में अधिकारियों से यह बोले गहलोत

सीएम आवास पर आला अधिकारियों की बुलाई इस बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि आमजन के बीच जागरूकता की जाए और लोगों को भयभीत न होने व सचेत रहने की सलाह दी जाए। गहलोत ने कहा कि सरकार ने राज्य में सभी पर्यटन स्थल,सार्वजनिक मेले,पार्क,खेल आयोजन आदि पर भीड एकत्रित होने पर भी प्रतिबंध लगाने का फैसला लिया है। हालांकि मीटिंग में अधिकारियों ने सीएम को बताया कि राज्य में स्थिति नियंत्रण में है और आवश्यक कदम उठाए गए हैं। इस दौरान बैठक में चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा,राज्य मंत्री डॉ.सुभाष गर्ग,चीफ सचिव डी बी गुप्ता सहित अन्य आला अधिकारी मौजूद रहे।

गहलोत ने कोरोना पीडित मरीजों को ठीक करने वाले चिकित्सकों को दी बधाई

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने उन चिकित्सकों व स्टॉफ को भी बधाई दी है जिन्होंने कोरोना पीडित 3 मरीजों को ठीक किया है। गहलोत ने एक ट्वीट कर एसएमएस हॉस्पिटल के चिकित्सकों व स्टॉफ को बधाई दी है और यह भी कहा है कि ”प्रदेश के लोगों को अब भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है बल्कि सावधान रहने की जरूरत है। लोग भीड़ वाली जगहों पर जाने से बचें।” गौरतलब है कि कोरोना संक्रमित होने पर इटली के दो पर्यटकों व दुबई से जयपुर लौटे एक बुजुर्ग को एसएमएस अस्पताल में भर्ती कराया गया था जिनका अस्पताल में इलाज चलने के बाद रिपोर्ट नेगेटिव आई और यह तीनों अब इस बीमारी से मुक्त हो चुके हैं।

Read More: राजस्थान: कोरोना वायरस से पीड़ित तीनों मरीज हुए ठीक, एक अफवाह फैलाने वाले को किया गिरफ्तार

कोरोना ने मंदिरों में भी भक्त व भगवान के बीच बढाई दूरियां

कोरोना वायरस का असर अब मंदिरों में भी देखा जाने लगा है। इसलिए देश के कई प्रमुख मंदिरों में भक्तों के लिए अब दर्शनों पर रोक लगा दी गई है। राजस्थान के मेंहदीपुर बालाजी में कुछ दिनों के लिए दर्शनों पर रोक लगाई गई है और मंदिर ट्रस्ट ने भक्तों से आगामी कुछ दिनों तक इंतजार करने के लिए कहा है। इधर मध्यप्रदेश में उज्जैन के सुप्रसिद्व श्री महाकालेश्वर मंदिर में भी सुबह की भस्म आरती में दर्शनों पर रोक लगा दी गई है और भक्त टीवी लाईव के माध्यम से महाकाल की आरती के दर्शन कर सकेंगे। इधर मुंबई स्थित सिद्वि विनायक मंदिर में भी कुछ दिनों के लिए भक्तों के दर्शन करने पर रोक लगाई गई है।

COMMENT