राजस्थान विधानसभा चुनाव: थम गया चुनावी शोर, अब जनता के हाथ होगा फैसला

Views : 2364  |  0 minutes read

राजस्थान में विधानसभा चुनाव प्रचार का शोर बुधवार शाम 5 बजे के बाद से बंद हो जाएगा। वैसे तो मतदान दिवस 7 तारीख को है लेकिन दो दिन पहले ही प्रशासन द्वारा चुनाव प्रचार को रोक देता है और हमारी रोजमर्रा की जिंदगी पर भी इसका काफी फर्क पड़ता है। आईये बताते हैं क्या होता है चुनाव से दो दिन पहले।

शराबबंदी: बुधवार शाम 5 बजे के बाद से पूरे राजस्थान में शराब के ठेके और बारों को पूरी तरह से बंद करा दिया जाएगा। इसके बाद शराब के ठेके मतदान दिवस के दिन शाम 6 बजे बाद ही खुल पाएंगे वहीं कमोबेश बार भी करीब 8 बजे के बाद ही खुलेंगे। मतदान दिवस से दो दिन पहले शराबबंदी इसलिए की जाती है क्योंकि चुनावों में शराब बांटे जाने का कल्चर काफी पुराना रहा है वहीं शराब का लोभ देकर अपने हक में वोट मांगने की अपील भी कई पार्टियां कर चुकि है।

परिवहन सेवा: प्रदेश में दो दिनों तक परिवहन सेवा भी थोड़ी बहुत चरमरा सकती है। सरकारी और निजी बसों को चुनाव ड्यूटी में लगाने के चलते परिवहन व्यवस्था पर चुनावों का काफी असर पड़ता है।

ज्यादा पैसे लेकर ना घूमें: चुनावों के दौरान ज्यादा पैसों को अपने साथ लेकर चलने पर भी पाबंदी लगी रहती है। बकायदा शक होने पर पुलिस आपको या आपकी गाड़ी को रोककर तलाशी ले सकती है और आपका रूपया जब्त किया जा सकता है।

संगठित होकर घूमने पर पाबंदी: धारा 144 लागू होने के कारण संगठित होकर बेवजह यहां वहां घूमने पर पूरी तरह पाबंदी लगी होती है जिसके लिए आपको जेल में भी डाला जा सकता है।

अब केवल घर घर जाकर कर सकेंगे प्रचार: बुधवार शाम 5 बजे के बाद से नेता केवल घर घर जाकर ही वोट देने की अपील कर सकते हैं और इस दौरान संगीत-समारोह, नाट्य-अभिनय, मनोरंजन से भी नहीं होगा प्रचार, बल्क मैसेजेस से प्रचार पर रोक लगी रहेगी वहीं सिनेमा, दूरदर्शन या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से प्रचार पर भी पूरी तरह से रोक लगी रहेगी। इसके अलावा प्रदेश में बाहरी राजनीतिक व्यक्ति राजस्थान में बिलकुल नहीं ठहर सकते हैं और ना ही कोई यहां आ सकता है।

COMMENT