ब्रेकिंग: सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत बने देश के पहले सीडीएस

Views : 1667  |  0 minutes read
CDS Bipin Rawat

केन्द्र सरकार ने भारतीय सेना के वर्तमान चीफ जनरल बिपिन रावत को देश का पहला चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ यानि सीडीएस नियुक्त किया है। केन्द्र ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ का कार्यकाल भी 3 साल के लिए और बढ़ा दिया है। अब चीफ ऑफ डिफेंस के सेवानिवृत होने की उम्र 65 वर्ष होगी। किसी भी सेना अधिकारी के सीडीएस बनने पर उसकी रिटायर होने की उम्र 65 साल होगी। बता दें कि इससे पहले के नियमों में तीनों सेनाओं के प्रमुख का 62 साल में ही सेवानिवृत होने का प्रावधान था।

Bipin-Rawat-First-CDS

सीडीएस पद वाले देशों में शामिल हुआ भारत

दुनिया में यूके, इटली, फ्रांस, श्रीलंका, समेत करीब दस देशों में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ पद स्वीकृत है, अब भारत का नाम भी इस व्यवस्था से नाम जुड़ गया है। हर देश अपने यहां सीडीएस को अलग-अलग शक्तियां प्रदान करता है। भारत में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ की नियुक्ति से तीनों सेनाओं के बीच आपसी समन्वय मजबूत होगा।

भारत की तीनों प्रमुख सेनाओं से जुड़े मामलों में रक्षा मंत्री को सलाह देने का काम सीडीएस करेगा। अब चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ ही रक्षामंत्री का प्रधान सैन्य सलाहकार होगा। हालांकि सैन्य सेवाओं से जुड़े विशेष मामलों में तीनों सेनाओं के प्रमुख पहले की तरह रक्षा मंत्री को सलाह देते रहेंगे।

CDS-Bipin-Rawat

तीनों सेनाओं के बीच तालमेल की होगी जिम्मेदारी

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ सैन्य अभियान के दौरान भारत की सेना, नौसेना और वायुसेना तीनों के बीच तालमेल बैठाने का काम करेगा। सीडीएस के पद पर 4 स्टार यानि जनरल रैंक के सैन्य अधिकारी को नियुक्त किया जाएगा। चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ को तीनों सेनाओं के चीफ के बराबर सैलरी मिलेगी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हाल में केन्द्र सरकार ने सीडीएस पद को मंजूरी दी थी। चीफ ऑफ डिफेंस अब बिना रक्षा सचिव की मंजूरी के केन्द्रीय रक्षा मंत्री से सीधे मुलाक़ात कर सकेंगे।

करगिल युद्ध के बाद मिला था सुझाव, पीएम मोदी ने किया था ऐलान

साल 1999 में हुए करगिल युद्ध के दौरान तीनों सेनाओं में आपसी समन्वय की कमी को देखते हुए सीडीएस पद का सुझाव दिया गया था। वर्ष 2001 में तत्कालीन उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी की अध्यक्षता में गठित ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स ने समीक्षा की तो पाया कि युद्ध में तीनों सेनाओं के बीच समन्वय की कमी रही।

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ को कैबिनेट की मंजूरी, रक्षा मंत्री से सीधे कर सकेंगे मुलाकात

भारत ने पाकिस्तान को हराकर युद्ध जीता, लेकिन तीनों सेनाओं के बीच आपसी तालमेल कमजोर होने से का नुकसान भी उठाना पड़ा। अगर तीनों सेनाओं के बीच ठीक से तालमेल होता तो नुकसान को काफी कम किया जा सकता था। उस वक़्त ही चीफ ऑफ डिफेंस पद बनाने का सुझाव दिया था। करीब 18 साल बाद 15 अगस्त, 2019 को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सीडीएस पद जल्द सृजित करने की घोषणा की थी।

 

COMMENT