युवराज सिंह: वो क्रिकेटर जिसने एक ओवर में लगाए छ: छक्के

Views : 986  |  0 minutes read

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर युवराज 12 दिसंबर को अपना 38वां बर्थडे सेलिब्रेट करेंगे। जब क्रिकेट में छक्कों की बात हो तो युवराज सिंह का नाम खुद ब खुद क्रिकेट प्रेमियों की जुबां पर आ जाता है। उनके नाम टी—20 क्रिकेट में एक ओवर में छ: गेंदों पर 6 छक्के लगाने का रिकॉर्ड है। युवी ने क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में भारतीय टीम के लिए योगदान दिया है। वह टी—20 विश्व कप 2007 और वनडे क्रिकेट विश्व कप 2011 की विजेता टीम का सदस्य रहा है। वह वर्ष 2011 के विश्व कप में ‘प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट’ चुने गए। इन दोनों विश्व कप जीताने में उनके योगदान का हमेशा याद रखा जाएगा।

जब पिता ने केवल क्रिकेट खेलने को कहा

युवराज सिंह का जन्म 12 दिसंबर, 1981 को पंजाब में हुआ था। वह एक सिख परिवार से हैं। उनके पिता पूर्व क्रिकेटर और पंजाबी फिल्म एक्टर योगराज सिंह और माता शबनम सिंह हैं। युवराज का बचपन में स्केटिंग करने का शौक था, यही नहीं उन्होंने स्केटिंग में गोल्ड मेडल भी जीता। उनके पिता को जब युवी ने मेडल दिखाया तो पिता ने उसे गले से निकाल कर फेंक दिया और सख्त शब्दों में कहा कि तुम्हें केवल क्रिकेट खेलना है।

भारतीय टीम के लिए वर्ष 1976 में केवल एक टेस्ट मैच खेलने वाले योगराज ने युवी को क्रिकेट सिखाने के लिए अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया।

क्रिकेट कॅरियर

युवी पहली बार चर्चा में तब आए जब उन्होंने कूच-बिहार ट्राफी में पंजाब क्रिकेट टीम की ओर से खेलते हुए 358 रन बनाए। उसके बाद उन्हें वर्ष 2000 के अंडर 19 विश्व कप में खेलने का मौका मिला और भारतीय टीम ने टूर्नामेंट में जीत दर्ज की। इसमें उनके हरफनमौला प्रदर्शन के लिए उन्हें ‘प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट’ का खिताब मिला और राष्ट्रीय टीम में चयन हुआ।

उनका भारतीय क्रिकेट टीम में चयन वर्ष 2000 में हुआ। इस दौरान उन्होंने आईसीसी नॉक-आउट ट्राफी में केन्या के खिलाफ वनडे में डेब्यू किया। इस टूर्नामेंट के दूसरे मैच में युवी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विस्फोटक बल्लेबाजी करते हुए 82 गेंदों पर 84 रन बनाए।

टी—20 विश्व कप में लगाए एक ओवर में छ: छक्के

वर्ष 2007 में दक्षिण अफ्रीका में हुए पहले टी—20 विश्व कप में इग्लैण्ड के खिलाफ एक ओवर में छह छक्के लगाने का कारनामा किया। उन्होंने स्टुअर्ट ब्रॉड को अपना शिकार बनाया। यही नहीं इस मैच में ही उन्होंने 12 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया जो सबसे तेज अर्धशतक था।

वनडे विश्व कप में रहे मैन ऑफ द टूर्नामेंट

वर्ष 2011 में भारत ने विश्व कप जीता था। जिसके हीरो युवराज सिंह रहे। इस दौरान उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। वह विश्व कप में 5 विकेट और अर्धशतक बनाने वाले पहले खिलाड़ी बने।

कैंसर को दी मात

वर्ष 2011 के विश्व कप के बाद वह फेफड़ों में कैंसर हो गया। इन संकट की घड़ी में उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और वह किमोथेरेपी के लिए बोस्टन और इंडिआनापलिस गए। मार्च 2012 में युवराज की 3 कीमोथेरेपी की साइकिल ख़त्म हुई और वह भारत वापस ठीक होकर लौट आए।

शादी

युवी ने वर्ष 2016 में बॉलीवुड एक्ट्रेस हेजल कीच से की शादी ।

COMMENT