स्पेशल: प्रथम श्रेणी क्रिकेट में सर डॉन ब्रैडमैन के बराबर के खिलाड़ी थे विजय मर्चेंट

Views : 1989  |  4 minutes read
Vijay-Merchant-Biography

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानि बीसीसीआई जिसके नाम पर हर साल अंडर-16 विजय मर्चेंट ट्रॉफी का आयोजन करती है, उनकी 12 अक्टूबर को 109वीं जयंती है। भारत के पूर्व क्रिकेटर विजय मर्चेंट का जन्म वर्ष 1911 में मुंबई में हुआ था। उनका पूरा नाम विजय सिंह माधवजी मर्चेंट था। मर्चेंट अपने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट कॅरियर में मात्र 10 मैच ही खेल पाए थे। इसमें भी उन्होंने कुल मिलाकर 18 ओवर ही खेले, लेकिन उनके नाम एक ऐसा रिकॉर्ड दर्ज है जो आज तक कोई क्रिकेटर नहीं तोड़ पाया है। इसके अलावा घरेलू क्रिकेट में भी उनके रिकॉर्ड्स के कोई आस-पास नहीं पहुंच पाया है। ऐसे में दिग्गज क्रिकेटर रहे मर्चेंट के जन्मदिन के ख़ास मौके पर जानते हैं उनके बारे में कई दिलचस्प बातें..

Vijay-Merchant

टीचर की वजह से मिला मर्चेंट नाम

विजय मर्चेंट एक भरे-पूरे परिवार से आते थे। उनकी फैमिली व्यापार का काम करती थी। मर्चेंट के परिवार की कई फैक्ट्रियां भी थीं। विजय मर्चेंट का बचपन में विजय ठाकरसे नाम हुआ करता था। एक बार बचपन में विजय से उनकी अंग्रेजी की टीचर ने उनका नाम और पिता के प्रोफेशन के बारे में सवाल पूछा था। विजय ने अपना नाम बताया और फिर पिताजी का प्रोफेशन ‘मर्चेंट’ बताया। इस पर उनकी टीचर नाम और प्रोफेशन में कंफ्यूज हो गई और उन्हें विजय मर्चेंट पुकारा। इस तरह उनका नाम बचपन के सरनेम ठाकरसे से बदलकर लास्ट नेम मर्चेंट हो गया था।

Vijay-Merchant

1933 में शुरु हुआ था इंटरनेशनल क्रिकेट कॅरियर

विजय मर्चेंट ने अपने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट कॅरियर की शुरुआत वर्ष 1933 में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ की थी। मर्चेंट के खेलने की शैली लाजवाब हुआ करती थी। इस कारण उनकी तकनीक की दुनिया दीवानी थी। मर्चेंट भारत के एक जबरदस्त बल्लेबाज रहे, लेकिन उनके 10 मैचों के कॅरियर में भारत एक भी मैच नहीं जीत सका था। साल 1936 में भारत का इंग्लैंड दौरा विजय मर्चेंट के इंटरनेशनल क्रिकेट कॅरियर का सबसे यादगार रहा।

इस टूर पर उन्होंने 51.32 की औसत से 1475 रन बनाए थे। मैनचेस्टर में खेेल गए एक टेस्ट में 114 रन की शतकीय पारी खेलते हुए मुश्ताक अली के साथ पहले विकेट के लिए 203 रनों की शानदार साझेदारी की थी। उनके जोड़ीदार मुश्ताक ने मैच में 112 रन की पारी खेली थी। इस दौरे पर शानदार प्रदर्शन के कारण विजय मर्चेंट को वर्ष 1937 का ‘विजडन क्रिकेटर ऑफ द ईयर’ चुना गया था।

प्रथम श्रेणी क्रिकेट में ब्रैडमैन के बराबर के खिलाड़ी

द्वितीय विश्व युद्ध के कारण विजय मर्चेंट का इंटरनेशनल कॅरियर मात्र 10 मैचों पर रुक गया, लेकिन उन्होंने भारत के लिए 47.72 की औसत से 859 रन बनाए थे। इस दौरान उन्होंने तीन शतक और तीन अर्धशतक जड़े थे। द्वितीय विश्व युद्ध की वजह से उनके कई साल बर्बाद हुए थे। उनका अंतर्राष्ट्रीय कॅरियर भले ही लंबा नहीं रहा, लेकिन घरेलू क्रिकेट में उनके रिकॉर्ड्स बताते हैं वे कितने महान खिलाड़ी थे। प्रथम श्रेणी में विजय मर्चेंट ने मुंबई की ओर से 150 मैच खेले और 71.64 की बेहतर औसत से 13470 रन बनाए जो आज तक एक रिकॉर्ड है। प्रथम श्रेणी में उन्होंने 45 शतक और 52 अर्धशतक लगाए। मर्चेंट का सर्वोच्च स्कोर नाबाद 359 रन है।

Vijay-Merchant

प्रथम श्रेणी क्रिकेट में औसत के मामले में सर डॉन के अलावा कोई मर्चेंट के आस-पास भी नहीं फटकता है। उनसे आगे सिर्फ़ महान खिलाड़ी डॉन ब्रैडमैन हैं। प्रथम श्रेणी में विजय मर्चेंट ने केवल 6 सत्र ही खेले थे, जिसमें से पांच में उनका औसत 114, 123, 223, 285 और 117 रहा। कहा जाता है कि मर्चेंट को बचपन से ही बड़े-बड़े स्कोर बनाने का शौक था। रणजी में विजय मर्चेंट ने 47 पारियां खेलीं और 3639 रन बनाए। रणजी क्रिकेट में उनका औसत अविश्वसनीय रूप से 98.75 है।

सबसे ज्यादा उम्र में शतक मारने वाले खिलाड़ी

विजय मर्चेंट ने साल 1951 में इंग्लैंड के ख़िलाफ़ दिल्ली के फिरोज शाह कोटला स्टेडियम में खेले गए एक मैच में 40 साल की उम्र में शतक ठोका था। उन्होंने इस मैच में 154 रन की शानदार पारी खेली थी। मर्चेंट आज भी भारत की ओर से सबसे ज्यादा उम्र में इंटरनेशनल क्रिकेट में शतक लगाने वाले खिलाड़ी हैं। इंग्लैंड के विरूद्ध खेली गई यह शतकीय पारी विजय मर्चेंट के कॅरियर की आखिरी पारी साबित हुई। दरअसल, इस मैच में मर्चेंट को फील्डिंग के दौरान कंधे पर चोट लगी थी। इस चोट से वे कभी उबर नहीं पाए और एक दिन क्रिकेट से संन्यास का ऐलान करना पड़ा।

Read More: भारत को 1983 का क्रिकेट विश्व कप जीताने में मोहिंदर अमरनाथ की रही थी अहम भूमिका

विजय मर्चेंट के बारे में एक दिलचस्प वाक़या ये है कि एक बार उन्होंने अपने खराब स्वास्थ्य के कारण ऑस्ट्रेलिया टूर पर जाना कैंसिल कर दिया था। उनके इस फ़ैसले से ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी बड़े निराश हुए थे। क्रिकेट के दिग्गज सर डॉन ब्रैडमैन ने इसके बाद कहा था, ‘बहुत बुरा.. हमें विजय मर्चेंट की झलक भी देखने को नहीं मिली। जिसे सभी भारतीय खिलाड़ियों में सबसे महान माना जाता है। 27 अक्टूबर, 1987 को 76 साल की उम्र में विजय मर्चेंट का हृदय गति रुकने के कारण निधन हो गया।

COMMENT