हिंदी फिल्मों के लिए 1500 से अधिक गीत लिखने वाले अंजान को इस बात का हमेशा रहा मलाल

Views : 5815  |  4 minutes read
Lyricist-Anjaan-Biography

बॉलीवुड सिनेमा को क्षेत्रियों बोलियों की महक से रू-ब-रू कराने वाले अज़ीम फ़नकार गीतकार अंजान की 13 सितंबर को 24वीं पुण्यतिथि है। अंजान का असल नाम लालजी पांडेय था। उनके पिता का नाम शिवनाथ पांडेय और माता का नाम इंदिरा देवी था। तंगहाली में बीएचयू से एम.कॉम करने वाले लालजी को पढ़ाई के दौरान ही कविता और गीत लिखने का शौक लग गया था। धीरे-धीरे वो अपनी शायरी के कारण दोस्तों में काफ़ी लोकप्रिय हो गए और दोस्तों ने ही उन्हें ‘अंजान’ नाम दिया था। उन्हें गीतकार बनने के लिए काफ़ी संघर्ष करना पड़ा था। ऐसे में इस ख़ास मौके पर जानते हैं उनके जीवन से जुड़े कई अनसुने किस्से…

Lyricist-Anjaan

मुकेश ने दी थी फ़िल्मों में गीत लिखने की सलाह

गीतकार अंजान का जन्म उत्तर प्रदेश में बनारस शहर के पास ओदार गांव में 28 अक्टूबर, 1930 को हुआ था।कॉलेज के दिनों में युवा अंजान बनारस में होने वाले लगभग हर कवि सम्मेलनों-मुशायरों में भाग लिया करते थे। एक बार प्रसिद्ध गायक मुकेश बनारस आए हुए थे। अंजान के एक मित्र शशी बाबू (डी पेरिस होटल के मालिक) क्लार्क होटल में एक संगीत कार्यक्रम में अपने साथ समीर को भी लेकर गए थे। शशी बाबू ने यहां मुकेश से उनकी मुलाक़ात करवाई। मुकेश ने जब कविता सुनी तो वह इस युवा शायर से काफ़ी प्रभावित हुए। उन्होंने उसी वक़्त अंजान को हिंदी फ़िल्मों के लिए गीत लिखने की सलाह दीं। हालांकि, उस दौरान अस्थमा बीमारी से जूझ रहे अंजान ने मुकेश की सलाह पर अमल नहीं किया।

लेकिन एक दिन उन्हें इस बीमारी की वजह से ही बनारस को छोड़कर मुंबई जाना पड़ा था। अंजान को डॉक्टरों ने अस्थमा के ख़तरों को देखते हुए कहा कि अगर ज़िंदा रहना है तो आपको यह शहर हर हाल में जल्द छोड़ना होगा। जब अस्थमा बहुत बढ़ गया और उन्हें काफ़ी तकलीफ़ होने लगी थी। तब डॉक्टरों ने उन्हें सलाह दी कि अगर किसी सागर के तट पर रहोगे, तभी अस्थमा कंट्रोल हो पाएगा। फ़िर वे अपनी बीमारी और बेहतर आबो-हवा की ख़ातिर सन् 1953 में मुंबई आ गए। यहां आकर उन्होंने मुकेश से मुलाक़ात की।

जिसके बाद मुकेश ने उन्हें डायरेक्टर प्रेमनाथ से मिलवाया, जो अपनी फ़िल्म के लिए किसी नए गीतकार की तलाश में थे। उन्होंने अंजान को अपनी फिल्म ‘प्रिजनर ऑफ गोलकोंडा’ के लिए गाने लिखने का ऑफर दिया। लेकिन अपनी पहली फिल्म के लिए लिखे गाने ख़ास चल नहीं पाए। इस फिल्म के गाने लिखने पर उन्हें 500 रुपये बतौर मेहनताना मिला था।

Lyricist-Anjaan

फिल्म ‘डॉन’ के गाने ने दिलाई अंजान को शोहरत

अपने कॅरियर की शुरुआत में वे फिल्मों के म्यूजिक डायरेक्टर्स के पास जाया करते थे, लेकिन काम नहीं मिल पा रहा था। यहां तक कि उनके पास रहने की जगह भी नहीं थी। कुछ दिनों तक वे अपने चार दोस्तों के साथ एरोमा गेस्ट हाउस का एक रूम लेकर रहे थे। बाद में उनके दोस्त भी चले गए जिससे अंजान अकेले रह गए थे। वे काफ़ी समय तक लोकल ट्रेनों में रात गुजारते रहे। इसके लिए उन्होंने कम पैसे में रेलवे का पास बनवा रखा था। एक समय वे अपार्टमेंट्स की सीढ़ियों के नीचे अपना बिस्तर लगाकर रात गुजारा करते थे। मुकेश से मिलने के बाद अंजान को पहली फ़िल्म में काम मिला, लेकिन उन्हें शोहरत काफ़ी देरी से मिली थी। उन्हें सफ़लता की सारी ऊंचाईयों पर अमिताभ बच्चन स्टारर फिल्म ‘डॉन ने पहुंचाया था।

Lyricist-Anjaan

कल्याणजी-आनंदजी के साथ जमी अंजान की जोड़ी

अंजान ने अपने कॅरियर में उस समय के लगभग सभी दिग्गज संगीतकारों के साथ काम किया था, लेकिन कल्याणजी-आनंदजी के साथ उनकी जोड़ी खूब जमीं। बनारस से होने के कारण अमिताभ बच्चन से भी उनका एक ख़ास रिश्ता बन गया था। उन्होंने अमिताभ की कई फ़िल्मों के लिए गाने लिखे। जिनमें ‘डॉन’, ‘मुकद्दर का सिकंदर’, ‘शराबी’, ‘नमक हलाल’ और ‘याराना’ जैसी बड़ी हिट फिल्में शामिल हैं। अंजान के लिखे यादगार गीतों में फिल्म ‘डॉन’ का गीत ‘ओ खाइके पान बनारस वाला, खुल जाए बंद अकल का ताला’, ‘मुझे नौ लखा मंगा दे रे’, ‘तेरे जैसा यार कहां’, ‘छू कर मेरे मन को’, ‘मेरे अंगने में तुम्हारा क्या काम है’ ‘इंतहा हो गई इंतज़ार की’, और ‘गोरी हैं कलाईयां तू ला दे मुझे हरी हरी चूड़ियां’, जैसे यादगार गीत हैं।

Lyricist-Anjaan

करीब 300 फिल्मों के लिए डेढ हजार से अधिक गाने लिखे

करीब 300 फिल्मों में 1500 गीत लिखने वाले अंजान को एक बात का हमेशा मलाल रहा। एक से बढ़कर एक सदाबहार हिट नग़मे लिखने के बावजूद उन्हें कभी फ़िल्म-फेयर अवॉर्ड नहीं मिला। 13 सितंबर, 1997 को 66 वर्ष की उम्र में गीतकार अंजान इस दुनिया को अलविदा कह गए। लेकिन गीतों के रूप में उनका बेशक़ीमती ख़ज़ाना आज भी लोगों की जुबां पर ताज़ा है। अंजान के परिवार में दो बेटे शेखर पांडेय और शीतला पांडेय (गीतकार समीर) हैं। उनके छोटे बेटे समीर भी गीतकार है और सबसे ज्यादा गाने लिखने के मामले में ‘गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड’ में अपना नाम दर्ज करा चुके हैं।

Read Also: प्यारेलाल ने अपने जोड़ीदार के साथ सात बार जीता सर्वश्रेष्ठ संगीतकार का फिल्मफ़ेयर

COMMENT