उस्ताद विलायत ख़ां ने ऑल इंडिया रेडियो को चलाने के तरीके की लंबे समय तक की थी आलोचना

Views : 5111  |  4 minutes read
Vilayat-Khan-Biography

भारतीय शास्त्रीय संगीत की दुनिया में अपनी एक बेमिसाल छाप छोड़ने वाले उस्ताद विलायत ख़ां अपने दौर के महान सितार वादक हुआ करते थे। उस्ताद विलायत की आज 94वीं जयंती है। उनका जन्म 28 अगस्त, 1928 को बंगाल प्रांत के गौरीपुर (अब बांग्लादेश) गाँव में एक संगीत से जुड़े परिवार में हुआ था। विलायत खान 20वीं शताब्दी के सबसे प्रभावशाली संगीतकारों में से एक बनकर उभरे थे। ऐसे में इस मौके पर जानते हैं उनके जीवन के बारे में कुछ अहम बातें…

Ustad-Vilayat-Khan-

संगीतकारों के परिवार में हुआ था पालन-पोषण

उस्ताद विलायत ख़ां का पालन-पोषण संगीतकारों के परिवार में हुआ था। उनके पिता उस्ताद इनायत हुसैन खान साहब अपने दौर के एक प्रसिद्ध सितारवादक थे। वहीं उनके दादा उस्ताद इमदाद हुसैन खान साहब प्रसिद्ध रुद्र वीणा वादक थे। बहुत कम उम्र में उस्ताद विलायत ख़ां पर पारिवारिक जिम्मेदारियां आ गईं, जब महज 13 साल की उम्र में उन्होंने अपने पिता को खो दिया था। इसके बाद परिवार की देखभाल का जिम्मा उनके कंधों पर आ गया।

Ustad-Vilayat-Khan

मामा ज़िंदा हुसैन खान से सीखी सितार की कला

1930 के दशक में उस्ताद विलायत ख़ां ने अपने मामा ज़िंदा हुसैन खान से सितार की कला सीखी थी। इस अवधि के दौरान ही उन्होंने ‘गायकी अंग’ विकसित किया, जो उनका ट्रेडमार्क बन गया। विलायत खान का पेशेवर करियर काफी अच्छा रहा। उन्होंने अपने जीवन में कई अंतरराष्ट्रीय दौरे किए। उस्ताद विलायत के पास कई रिकॉर्डिंग थीं। उन्होंने अपने करियर में कई फिल्मों के लिए संगीत दिया, जिसमें सत्यजीत रे की फिल्म ‘जलसागर’ भी शामिल है।

हालांकि, उस्ताद विलायत ख़ां का जीवन काफी विवादित रहा। इसमें से अधिकांश उनके सिद्धांतों के प्रति दृढ़ विश्वास का परिणाम था। वह भारत के कई सम्मानों को प्रदान करने के पीछे राजनीतिक तंत्र की लंबे समय से आलोचना कर रहे थे। उन्होंने ‘पद्मभूषण’ (भारत के शीर्ष नागरिक सम्मानों में से एक) लेने से इनकार कर दिया था। उस्ताद विलायत ने ऑल इंडिया रेडियो को चलाने के तरीके की लंबे समय तक आलोचना की। उनके पास एकमात्र उपाधि ‘आफताब-ए-सितार’ (सितार का सूर्य) थीं।

Ustad-Vilayat-With-Bismillah

फेफड़ों के कैंसर से हुआ था उस्ताद विलायत का निधन

आज के कई प्रमुख संगीतकारों को उस्ताद विलायत ख़़ा ने सितार सिखाया और उन्हें खूब प्रभावित भी किया। इनमें विलायत खान के दो बेटे उस्ताद शुजात खान और हिदायत खान और साथ ही पंडित अरविंद पारिख भी शामिल हैं। यहां तक कि विलायत खान के छोटे भाई उस्ताद इमरत खान (सितार और सुरबहार) को वह बचपन में पढ़ाया करते थे। विलायत के भतीजे रईस खान भी प्रसिद्ध सितारवादक हैं। 13 मार्च, 2004 को उस्ताद ​विलायत ख़ां की 75 साल की उम्र में मुंबई के जसलोक अस्पताल में फेफड़ों के कैंसर से मृत्यु हो गई। इस तरह उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया।

Read Also: सरकार के ख़िलाफ़ बोलने पर गिरफ़्तार कर लिए गए थे मशहूर शायर अहमद फ़राज़

COMMENT