नुसरत फ़तेह अली खान ने बचपन में टॉफी के लालच में सीखा था गायन, बाद में बने ख्यातनाम कव्वाल

Views : 6752  |  3 minutes read
Nusrat-Fateh-Ali-Khan-Bio

कव्वाली की दुनिया के महानतम कलाकारों में से एक और प्रसिद्ध सूफी गायक नुसरत फतेह अली खान की आज 73वीं जयंती है। परवेज फतेह अली खान के रूप में जन्मे नुसरत ने कव्वाली को नई पीढ़ियों के बीच लोकप्रिय बनाने का काम किया। नुसरत एक ऐसे गायक और संगीतकार थे, जिन्होंने अपनी जोशीली आवाज़ के दम पर दुनिया के हर कोनों में अपना नाम और प्रसिद्धि बनाई। खान साहब को संगीत की दुनिया में सबसे शक्तिशाली आवाज़ों में से एक माना जाता है, यही वजह है कि उन्हें ‘किंग ऑफ कव्वाली’ के रूप में भी जाना जाता है।

Nusrat-Fateh-Ali-Khan-

बॉलीवुड की कई फिल्मों के लिए गाए हिट नंबर्स

नुसरत फतेह अली खां का जन्म 13 अक्टूबर 1948 को फैसलाबाद में हुआ था। उनके पिता ‘फतेह अली खान’ भी अपने जमाने के मशहूर गायक थे। उनके परिवार ने 600 साल से चली आ रही कव्वाली संगीत की इस परंपरा को जीवंत रखते हुए इसे आगे बढ़ाने का काम किया। बॉलीवुड फिल्मों में भी उन्होंने कई गानों को अपनी आवाज दी। उनके कई बेहतरीन लोकप्रिय गानों को बॉलीवुड में रिक्रिएट किये गए हैं। ऐसे में इस ख़ास मौके पर सुनिए नुसरत साहब के सीधे दिल में उतर जाने वाले नगमें…

1. मेरे रश्के क़मर

2. तुम्हें दिल्लगी भूल जाने पड़ेगी…

3. ये जो हल्का-हल्का सुरूर है…

4. सानु इक पल चैन ना आवे…

5. आफरीन आफरीन…

 

Read Also: सिंगर शान ने अपने पिता के निधन के बाद बहुत छोटी उम्र में शुरू कर दी थी सिंगिंग

COMMENT