सरदार भगत सिंह ने अंग्रेजों की असेंबली में बम फेंककर मचा दिया था तहलका

Views : 6651  |  4 minutes read
Bhagat-Singh-Biography

देश को आज़ादी दिलाने के लिए महज 23 वर्ष की उम्र में बलिदान देने वाले शहीद सरदार भगत सिंह का नाम इतिहास के सुनहरे पन्नों में दर्ज़ हैं। भगत सिंह का जन्म आज ही के दिन यानि 28 सिंतबर, 1907 को ब्रिटिश शासनकाल के दौरान भारत के पंजाब प्रांत के बंगा (अब पाकिस्तान) में हुआ था। बहुत ही कम उम्र में भगत भारत के लिए वो काम कर के गए, जो आज देश के लाखों युवाओं की प्रेरणा हैं। देशभक्ति के जज्बे से खुद को लबालब करने के लिए भगत सिंह नाम ही काफी है। सिंह ने अंग्रेजों की असेंबली में बम फेंककर तहलका मचा दिया था, जिसके बाद उन्हें फांसी की सजा सुनाई गईं। ऐसे में सरदार भगत सिंह की जयंती के मौके पर जानते हैं उनके जीवन के बारे में कुछ अनसुनी बातें…

Bhagat-Singh

असेंबली भवन आने से साथी को दे दी थी अपनी जेब घड़ी

एक दिलचस्प बात ये है कि 3 अप्रैल 1929 को भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने उन्हीं कपड़ो में कश्मीरी गेट के रामनाथ फोटोग्राफर की दुकान पर अपनी तस्वीरें खिचाई थीं, जिन कपड़ों में वो बम फेंकने असेंबली हॉल जाने वाले थे। वो 6 अप्रैल को उन तस्वीरों को लेने दोबारा उस दुकान पर भी गए थे। असेंबली भवन आने से पहले भगत सिंह ने अपनी एक जेब घड़ी अपने एक साथी जयदेव को दे दी थी। इस घड़ी का भी एक इतिहास रहा है। सबसे पहले ये घड़ी ग़दर पार्टी के एक सदस्य ने फ़रवरी 1915 में खरीदी थी। इसके बाद रास बिहारी बोस ने वो घड़ी ‘बंदी जीवन’ के लेखक शचींद्रनाथ सान्याल को दे दी।

सान्याल ने वो घड़ी भगत सिंह को भेंट में दी थी। उस समय सदन में सर जॉन साइमन के अलावा मोतीलाल नेहरू, मोहम्मद अली जिन्ना, एन सी केल्कर और एम आर जयकर भी मौजूद थे। भगत सिंह को यह अच्छी तरह पता था कि उनके बम इस विधेयक को क़ानून बनने से नहीं रोक पाएंगे। कारण था कि नेशनल असेंबली में ब्रिटिश सरकार के समर्थकों की कमी नहीं थी और दूसरे वायसराय को क़ानून बनाने के असाधारण अधिकार मिले हुए थे।

बम फेंकते समय ध्यान रखा कि कोई चपेट में न आए

युवा क्रांतिकारी भगत सिंह ने बम फेंकते समय इस बात का ध्यान रखा कि वो उसे कुर्सी पर बैठे हुए सदस्यों से थोड़ी दूर पर फ़र्श पर लुढ़काएं, ताकि सदस्य उसकी चपेट में न आ सकें। जैसे ही बम फटा ज़ोर की आवाज़ हुई और पूरा असेंबली हॉल अँधकार में डूब गया। दर्शक दीर्घा में अफरातफरी मच गई। तभी बटुकेश्वर दत्त ने दूसरा बम फेंका। दर्शक दीर्घा में मौजूद लोगों ने बाहर के दरवाज़े की तरफ़ भागना शुरू कर दिया।

ये बम कम क्षमता के थे और इस तरह फेंके गए थे कि किसी की जान न जाए। बम फ़ेंकने के तुरंत बाद दर्शक दीर्घा से ‘इंकलाब ज़िदाबाद’ के नारों के साथ पेड़ के पत्तों की तरह पर्चे नीचे गिरने लगे। उसका मज़मून ख़ुद भगत सिंह ने लिखा था। हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन पार्टी के लेटरहेड पर उसकी 30-40 प्रतियां टाइप की गईं थीं। हिंदुस्तान टाइम्स के पत्रकार दुर्गादास ने अपनी सजगता का परिचय देते हुए वो पर्चा वहां से उड़ा लिया और हिंदुस्तान टाइम्स के सांध्यकालीन विशेष संस्करण में छाप कर सारे देश के सामने रख दिया था।

बहरे कानों को सुनाने के लिए धमाकों की जरूरत

इस पर्चे का पहला शब्द था नोटिस। उसमें फ़्रेंच शहीद अगस्त वैलां का उद्धरण था कि ‘बहरे कानों को सुनाने के लिए धमाकों की जरूरत पड़ती है।’ अंत में कमांडर इन चीफ बलराज का नाम दिया गया था।
जैसे ही बम का धुआं छंटा असेंबली के सदस्य अपनी अपनी सीटों पर लौटने लगे। दर्शक दीर्घा में बैठे हुए भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने भागने की कोशिश नहीं की। जैसा कि उनकी पार्टी ने पहले से तय कर रखा था, वो अपनी जगह पर ही खड़े रहे। वहां मौजूद पुलिसकर्मी इस डर से उनके पास नहीं गए कि कहीं उनके पास हथियार न हों।

फांसी के वक्त लाहौर जेल की हर आंख थी नम

शहीद-ए-आज़म भगत सिंह के जेल के दिनों के कई किस्से काफी प्रचलित हैं। वो जेल में दुनिया के महान क्रांतिकारियों की किताबें पढ़ा करते थे तो वहीं से देश के नाम उन्होंने कई खत लिखे थे। कहा जाता है कि जब भगत सिंह को फांसी दी जाने वाली थी तो लाहौर जेल की हर आंख रो रही थी। जेल के अधिकारियों के हाथ भारत मां के इस लाल को फांसी देने से पहले कांप रहे थे। आखिरकार फांसी का दिन आया और अंग्रेजों ने अपने नियम अनुसार, सरदार भगत सिंह और उनके अन्य साथियों को पहले नहलाया गया और इसके बाद उन्हें पहनने के लिए नए कपड़े दिए गए।

सरदार भगत सिंह और उनके अन्य साथी जब जल्लाद के सामने आए तो उसने तीनों से आखिरी ख़्वाहिश पूछी, जिस पर तीनों ने कहा कि हम आपस में एक-दूसरे से गले मिलना चाहते हैं। भगत के कई खत आज भी पढ़े जाते हैं, लेकिन उनको फांसी दिए जाने से पहले जो आखिरी ख़त उन्होंने लिखा उसका जिक्र हर जगह मिलता है।

Bhagat-Singh

भगत सिंह ने फांसी के तख्त पर चढ़ने से पहले लिखा–

“साथियों स्वाभाविक है जीने की इच्छा मुझमें भी होनी चाहिए। मैं इसे छिपाना नहीं चाहता हूं, लेकिन मैं एक शर्त पर जिंदा रह सकता हूं कि कैद होकर ना रहूं। मेरा नाम हिन्दुस्तान की क्रांति का प्रतीक बन चुका है, क्रांतिकारी दलों के आदर्शों ने मुझे बहुत ऊंचा उठा दिया है, इतना ऊंचा कि जीवित रहने की स्थिति में मैं इससे ऊंचा नहीं हो सकता था।

मेरे हंसते-हंसते फांसी पर चढ़ने की सूरत में देश की माताएं अपने बच्चों के भगत सिंह की उम्मीद करेंगी। इससे आजादी के लिए कुर्बानी देने वालों की तादाद इतनी बढ़ जाएगी कि क्रांति को रोकना नामुमकिन हो जाएगा. आजकल मुझे खुद पर बहुत गर्व है। अब तो बड़ी बेताबी से अंतिम परीक्षा का इंतजार है. कामना है कि यह और नजदीक हो जाए।”

Read Also: युवा अवस्था में ही ब्रह्म समाज में शामिल हो गए थे क्रांतिकारी भूपेंद्रनाथ दत्त

COMMENT