राजस्थान के ग्रामीण क्षेत्रों में एक जुलाई से खुलेंगे धार्मिक और उपासना स्थल

Views : 1535  |  3 minutes read
Ashok-Gehlot-Rajasthan-CM

लॉकडाउन के अगले चरण में जुलाई माह की शुरुआत से राजस्थान में ख़ासकर ग्रामीण क्षेत्रों में कई छूट मिलने जा रही है। दरअसल, राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हाल में कोरोना वायरस को लेकर हालात की समीक्षा की। मुख्यमंत्री आवास पर हुई समीक्षा बैठक के बाद गहलोत सरकार ने प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में धार्मिक और उपासना स्थलों को 1 जुलाई से खोलने की अनुमति देने का फैसला किया है। इसके साथ ही अब राजस्थान में बाहर से आने वाले लोगों के लिए 14 दिन के अनिवार्य होम क्वारनटीन की अनिवार्यता भी समाप्त कर दी गई है।

भारत सरकार द्वारा जारी एसओपी का पालन होगा अनिवार्य

समीक्षा बैठक के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओर से जारी एक वक्तव्य में कहा गया कि लॉकडाउन के कारण बंद किए गए ग्रामीण क्षेत्रों के ऐसे धार्मिक और उपासना स्थलों को 1 जुलाई से खोल दिया जाएगा, जहां सीमित संख्या में श्रद्धालु आते हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसे धार्मिक स्थल ही खोले जाएंगे, जहां हर रोज 50 या इससे कम श्रद्धालु आते हैं। इन धार्मिक स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही कोरोना से बचाव के लिए जरूरी सभी नियमों और भारत सरकार द्वारा धार्मिक स्थलों के लिए जारी एसओपी का पालन अनिवार्य होगा।

सीएम गहलोत ने अपने बयान में कहा गया है कि लॉकडाउन के कारण बंद हुए धार्मिक स्थलों को खोलने के लिए जिलाधिकारियों की अध्यक्षता में गठित समितियों के सुझाव के आधार पर यह निर्णय लिया गया है। शहरों में सभी और ग्रामीण क्षेत्रों में बड़े धार्मिक स्थलों को फिलहाल नहीं खोला जाएगा। मुख्यमंत्री ओर से जीवन की सुरक्षा को राज्य सरकार के लिए सर्वोपरि बताते हुए कहा गया है कि जनहित में ऐसा किया जाना आवश्यक है।

सरकार ने राज्यसभा कर्मियों के महंगाई भत्ते पर लगाई रोक, केंद्रीय कर्मियों को भी नहीं मिलेगा बकाया

14 दिन होम क्वारनटीन की अनिवार्यता भी समाप्त

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अन्य प्रदेशों से आने वाले व्यक्तियों के लिए 14 दिन होम क्वारनटीन की अनिवार्यता को भी समाप्त करने का ऐलान किया है। सीएम की ओर से कहा गया है कि अन्य प्रदेशों से आने वाले लोग खुद ही अपनी आवाजाही को सीमित रखें और संक्रमण से बचाव के लिए सभी जरूरी उपाय अपनाएं। कोरोना वायरस के लक्षण नजर आने पर बिना ​देरी किए तत्काल किसी डॉक्टर से परामर्श लें और अपना बचाव करें।

COMMENT