टीम इंडिया का फ़िर टाइटल स्पॉन्सर बना पेटीएम, जानें बीसीसीआई को कितने करोड़ रुपए देगा?

Views : 2025  |  0 minutes read
chaltapurza.com

भारतीय ई-वॉलेट कंपनी पेटीएम लगातार दूसरी बार टीम इंडिया की टाइटल स्पॉन्सर बन गई है। पेटीएम ने देश में होने वाले अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू क्रिकेट मैचों की टाइटल स्पॉन्सरशिप राइट्स खरीद लिए हैं। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने बुधवार को इसकी घोषणा की। इससे पहले वर्ष 2015 में भी पेटीएम ने अगले चार साल के लिए टाइटल स्पॉन्सरशिप का करार किया था। अब पेटीएम ने अगले चार साल यानि 2023 तक के लिए ये राइट्स खरीद लिए हैं।

chaltapurza.com

2015 में से करीब 120 करोड़ रुपए ज्यादा देगा पेटीएम

देश के भीतर होने वाले मैचों की टाइटल स्पॉन्सरशिप के लिए पेटीएम अगले चार साल में बीसीसीआई को 326.80 करोड़ रुपए देगा। साल 2015 में किए गए करार से करीब 123 करोड़ रुपए ज्यादा हैं। पेटीएम ने तब 203.28 करोड़ रुपए में राइट्स खरीदे थे। टीम इंडिया को देश में अगली सीरीज दक्षिण अफ्रीका के ख़िलाफ़ सितम्बर में खेलेगा। इस दौरान दोनों टीमों के बीच 3 टी-20 और 3 टेस्ट मैचों की सीरीज खेली जाएगी। ये सीरीज 15 सितम्बर को शुरू होकर 23 अक्टूबर तक चलेगी।

बीसीसीआई को प्रति मैच करीब 3.80 करोड़ रुपए देगा पेटीएम

पेटीएम इस कॉन्ट्रैक्ट के तहत बीसीसीआई को लगभग 3.80 करोड़ रुपए प्रति मैच देगा। यह पिछली बार के कॉन्ट्रेक्ट से प्रति मैच 58 फीसदी ज्यादा रकम है। पिछली बार पेटीएम हर मैच के 2 करोड़ 40 लाख रुपए देता था। आपकी जानकारी के लिए बता दें, इससे पहले जुलाई 2019 में टीम इंडिया का जर्सी स्पॉन्सर ओप्पो से बदलकर बायजू हो गया था। यह कॉन्ट्रैक्ट मार्च 2022 तक मोबाइल कंपनी ओप्पो के पास था। लेकिन उसने कंपनी की आर्थिक हालात कमजोर होते देख राइट्स बायजू को ट्रांसफर कर दिए थे।

Read More: स्वरा भास्कर की ज़िदग़ी में फ़िर प्यार की बारिश, जानें अब किसे कर रही हैं डेट!

चाइनीज ब्रांड ओप्पो ने मार्च 2017 में बीसीसीआई से जर्सी स्पॉन्सर के रूप में 5 साल के लिए 1079 करोड़ रुपए का कॉन्ट्रैक्ट किया था। लेकिन वह जुलाई 2019 में हट गया। कॉन्ट्रैक्ट के अनुसार अब बायजू भी बोर्ड को उतनी ही धन राशि देगा, जितनी जुलाई 2019 के बाद ओप्पो को देनी थी। उल्लेखनीय है कि टीम इंडिया की किट स्पॉन्सर नाइकी के साथ बीसीसीआई का वर्ष 2020 तक के लिए 370 करोड़ रुपए का कॉन्ट्रैक्ट है। साल 2016 में बोर्ड और नाइकी के बीच यह कॉन्ट्रैक्ट हुआ था।

COMMENT