सोमवार से ग्राहकों के लिए बदल जाएगा ऑनलाइन ट्रांजैक्‍शन का नियम, ये होंगे फायदे

Views : 1747  |  0 minutes read
chaltapurza.com

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बुधवार को ऑनलाइन ट्रांजैक्‍शन करने वाले लोगों के लिए एक अच्छी खबर दी। आरबीआई ने ग्राहकों द्वारा रियल टाइम ग्रास सेटलमेंट (आरटीजीएस) के माध्यम से लेन—देन करने की समय सीमा में परिवर्तन किया है। जिसका फायदा इसी माह की 26 तारीख से मिलना शुरू हो जाएगा।

आरटीजीएस के जरिए जो ग्राहक बड़ी रकम भेजना चाहते हैं उन्हें यह सुविधा 26 अगस्त से सुबह 8 बजे के बजाय 7 बजे से उपलब्ध होगी। इससे ग्राहकों को 1 घंटा पहले पैसा ट्रांजैक्शन करने का फायदा होगा। फिलहाल ग्राहकों को आरटीजीएस के जरिए पैसे की लेन-देन की सुविधा सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक उपलब्ध होती है। वहीं बैंकों के बीच लेन-देन के लिए सुबह 8 बजे से शाम 7.45 मिनट तक उपलब्ध होती है। आरबीआई ने इस संबंध में एक नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया है।

भारतीय रिजर्व बैंक ने अपनी अधिसूचना में कहा, आरटीजीएस प्रणाली की उपलब्धता बढ़ाने के लिए आरटीजीएस परिचालन के लिए समय अवधि बढ़ाने का निर्णय किया गया है। इसके माध्यम से ग्राहकों और बैंकों के लिए यह सुबह 7 बजे से शुरू होगा।

क्या है आरटीजीएस

रियल टाइम ग्रास सेटलमेंट (आरटीजीएस) एक ऑनलाइन ट्रांजैक्‍शन का एक ऐसा माध्यम है जिसके उपयोग से मुख्यत: बड़ी राशि को ट्रांसफर करने की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। इसके माध्यम से न्यूनतम 2 लाख रुपए ट्रांसफर कर सकते हैं और अधिकतम राशि भेजने की कोई सीमा नहीं है। पिछले दिनों आरबीआई ने आरटीजीएस पर लगने वाले चार्ज को हटा दिया था। रविवार और छुट्टी वाले दिनों में आरटीजीएस की सर्विस उपलब्ध नहीं होती है।

इसके अलावा ग्राहकों की सुविधा के लिए हाल में आरबीआई ने नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (एनईएफटी) के माध्यम से 24 घंटे ऑनलाइन ट्रांजैक्‍शन की अनुमति का निर्णय लिया है। इस सुविधा का लाभ इसी साल दिसंबर से लागू किया जाएगा। वर्तमान में एनईएफटी दूसरे और चौथे शनिवार को छोड़कर ग्राहकों के लिए सुबह 8 बजे से शाम 7 बजे तक के लिए उपलब्ध है। इसके जरिए 2 लाख रुपए तक की राशि भेजी जा सकती है।

COMMENT