ओम पुरी ने अभिनय करने के लिए छोड़ दी थी अपनी सरकारी नौकरी

Views : 747  |  4 minutes read
Om-Puri-Biography

हिंदी सिनेमा में अपने समय के जाने-माने अभिनेता ओम पुरी को फिल्म जगत में उनकी धाकड़ संवाद अदायगी और दमदार अभिनय के लिए जाना जाता था। पुरी की धाक न केवल हिंदी सिनेमा में थी, बल्कि वो ऐसे अभिनेता थे जिसने देश के बाहर भी अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया। उनका शुरुआती ​जीवन मुफ़लिसी में बीता, लेकिन बाद में उन्होंने खुद के दम पर सिनेमाई दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाईं। पुरी आज भले ही हमारे बीच नहीं है, लेकिन उन्होंने अपने किरदारों को जीवंत बना दिया। उन्होंने कुछ पाकिस्तानी फिल्मों में भी अभिनय किया था। ओम पुरी की 71वीं बर्थ एनिवर्सरी के मौके पर जानिए उनके जीवन के बारे में कुछ अनुसनी बातें…

Om-Puri-Wife-Seema

हरियाणा के अंबाला शहर में हुआ जन्म

अभिनेता ओम पुरी का जन्म 18 अक्टूबर 1950 को हरियाणा के अंबाला शहर में हुआ था। घर की आर्थिक हालत ठीक नहीं होने के कारण ओम अपनी मां के साथ पंजाब स्थित अपने ननिहाल रहे। उनकी प्रारंभिक शिक्षा पंजाब के पटियाला शहर में हुईं। एक्टिंग की तरफ रुझान होने के कारण ओम ने भारतीय फ़िल्म और टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) में दाखिला लिया। यहां तीन साल तक अध्ययन करने के बाद ओम पुरी नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा यानि एनएसडी में आगे पढ़ने ​करने के लिए चले गए।

जिस कॉलेज में पढ़ते.. उसी में नौकरी करते थे पुरी

एक दिलचस्प बात ये है कि अभिनेता ओमपुरी ने अभिनय की दुनिया में कदम रखने के लिए कॉलेज के असिस्टेंट लाइब्रेरियन की नौकरी को छोड़ दिया था। दरअसल, उन्हें स्कूल के समय से ही अभिनय करना पसंद था। वह अपने स्कूल फंक्शन में हिस्सा लिया करते थे। इसके बाद ओम पुरी अपने कॉलेज के थिएटर से जुड़ गए। इस दौरान उन्होंने कॉलेज के लिए कई थिएटर किए थे। पुरी जिस कॉलेज में पढ़ते थे, उसी में असिस्टेंट लाइब्रेरियन की नौकरी भी किया करते थे।

Actor-Om-Puri

जब टिवाना ने थिएटर ग्रुप से जुड़ने की पेशकश की

एक बार ओम पुरी ने अपने कॉलेज में ड्रामा प्ले किया। उनके प्ले को देखने पंजाब के मशहूर थिएटर कलाकार हरपाल टिवाना पहुंचे। पुरी के अभिनय को देखने के बाद हरपाल टिवाना ने उन्हें अपने थिएटर ग्रुप से जुड़ने की पेशकश की। टिवाना ने उनसे कहा कि रोज शाम को वह उनका थिएटर ग्रुप ज्वॉइन कर सकते हैं, लेकिन ओम पुरी ने कहा कि शाम को वह कॉलेज जाते हैं इसलिए ज्वॉइन करना मुश्किल होगा।

पुरी की बात सुनकर हरपाल टिवाना ने कहा कि तो वह दिन में उनका थिएटर ज्वॉइन कर सकते हैं। इस पर ओम पुरी कहते हैं कि वह दिन में असिस्टेंट लाइब्रेरियन की नौकरी करते हैं। इस पर टिवाना उनसे पूछते हैं कि इस नौकरी में उन्हें कितने रुपये मिलते तो ओमपुरी कहते हैं कि 125 रुपये प्रति माह। यह सुनने के बाद हरपाल टिवाना उन्हें 150 रुपये प्रति माह वेतन देने की पेशकश करते हैं। जिसके बाद ओम पुरी कॉलेज के असिस्टेंट लाइब्रेरियन की नौकरी छोड़ हरपाल टिवाना के थिएटर ग्रुप से जुड़ जाते हैं।

पुरी की ऐसे हुई फिल्मी सफर की शुरुआत

ओम पुरी ने अपने फिल्मी सफ़र की शुरुआत मराठी फिल्म ‘घासीराम कोतवाल’ से की थी। ओम के सिने करियर में वर्ष 1980 बेहद महत्वपूर्ण साल रहा। इस साल उनकी फिल्म ‘आक्रोश’ सिने करियर की पहली हिट फिल्म रहीं। अपने दमदार अभिनय की बदौलत ओमपुरी ने हिंदी सिनेमा को कई शानदार फिल्में दीं। हालांकि, पुरी के लिए बॉलीवुड में सफ़लता हासिल करना आसान नहीं रहा। एक नॉन-फिल्मी बैकग्राउंड से होने के कारण उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ा। मगर, संघर्षों के बावजूद अपनी जबरदस्त एक्टिंग के दम पर वह बॉलीवुड में एक मुकाम हासिल करने में कामयाब रहे।

फिल्म ‘आरोहण’ और ‘अर्ध सत्य’ के लिए ओम पुरी को श्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला। एक साक्षात्कार के दौरान पुरी ने कहा, ‘अमिताभ बच्चन महान एक्टर हैं और मैं उनका शुक्रगुजार हूं, क्योंकि उन्होंने ‘अर्ध सत्य’ फिल्म करने से इंकार कर दिया था। पुरी ने समानांतर सिनेमा में काम करने के साथ ही कई व्यावसायिक फिल्मों में भी काम किया, जिसमें ‘मिर्च मसाला’, ‘जाने भी दो यारों’, ‘चाची 420’, ‘हेराफेरी’, ‘मालामाल वीकली’ आदि फिल्में शामिल हैं।

Om-Puri-Family

पुरी ने दो शादियां की मगर, दोनों ही रही असफ़ल

अभिनेता ओम पुरी की निजी जिंदगी की बात करें तो उन्होंने कुल दो शादियां कीं। उन्होंने पहली शादी वर्ष 1991 में अभिनेता अन्नू कपूर की बहन सीमा कपूर से की थी। मगर, दोनों का ये रिश्ता कुछ महीनों बाद ही टूट गया। वर्ष 1993 में ओम पुरी ने पत्रकार नंदिता पुरी से दूसरी शादी की। इस शादी से इन दोनों को एक बेटा ईशान पुरी है। हालांकि, ओम की दूसरी शादी भी कुछ सालों बाद ही बिखर गईं। साल 2013 में ये दोनों आधिकारिक रूप से अलग हो गए। 6 जनवरी, 2017 का वो दिन था जब ओमपुरी का दिल का दौरा पड़ने की वजह से अंधेरी स्थित उनके घर में निधन हो गया। वहीं, कुछ लोग ओम पुरी की मौत को आजतक भी रहस्यमयी मानते हैं।

हेमा मालिनी को बॉलीवुड में इस फिल्म ने दिलाई थी असल पहचान, शादीशुदा धर्मेंद्र से की शादी

COMMENT