स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किए नए दिशा-निर्देश, कोरोना संक्रमित बच्चों का रेमडेसिविर से नहीं होगा इलाज

Views : 1384  |  3 minutes read
Health-Ministry-New-Guidelines

देश में कोरोना महामारी की तीसरी लहर में बच्चों के संक्रमण की चपेट में आने की आशंकाओं के बीच केंद्र सरकार ने उनके इलाज के लिए खास दिशा-निर्देश जारी किए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने साफतौर पर कहा है कि बच्चों के इलाज में रेमडेसिविर इंजेक्शन का इस्तेमाल नहीं किया जाए। साथ ही बच्चों के सीने में संक्रमण की जांच के लिए सीटी स्कैन का भी तर्कसंगत तरीके से उपयोग किया जाए। बता दें कि बच्चों के इलाज के लिए विस्तृत दिशा-निर्देश केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत आने वाले स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय यानि डीजीएचएस की ओर से जारी किए गए हैं।

चिकित्सकों की निगरानी में ही स्टेरॉयड का उपयोग हो

डीजीएचएस ने बच्चों में लक्षण रहित और मध्यम संक्रमण वाले मामलों में स्टेरॉयड के इस्तेमाल को भी बेहद हानिकारक बताया है। स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय ने अस्पताल में भर्ती गंभीर और मध्यम संक्रमण से पीड़ित बच्चों के इलाज के लिए भी विशेषज्ञ चिकित्सकों की निगरानी में ही स्टेरॉयड का उपयोग करने के लिए कहा है, ताकि इसका सही समय पर, सही मात्रा में और पर्याप्त खुराक का ही उपयोग किया जाए।

डीजीएचएस ने रेमडेसेविर इंजेक्शन के इस्तेमाल के लिए स्पष्ट कहा है कि 3 साल से 18 साल के आयुवर्ग में इसके इस्तेमाल से सफलता मिलने के पर्याप्त आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं। ऐसे में बच्चों में रेमडेसिविर का इस्तेमाल न किया जाए। हाई रेजोल्यूशन सीटी (एचआरसीटी) स्कैन के तर्कसंगत उपयोग की सलाह देते हुए महानिदेशालय ने कहा है कि सीने के स्कैन से उपचार में बेहद कम मदद मिलती है। ऐसे में चिकित्सकों को चुनिंदा मामलों में ही कोरोना मरीजों में एचआरसीटी कराने का निर्णय लेना चाहिए।

उचित कोविड व्यवहार के प्रोटोकॉल का उपयोग करें

डीजीएचएस ने कोविड-19 को एक वायरल संक्रमण बताते हुए कहा है कि हल्की बीमारी के मामले में एंटीमाइक्रोबायल्स से इसकी रोकथाम या उपचार में कोई मदद नहीं मिलती है। इसलिए हल्के संकमण वाले बच्चे या बड़े, सभी को कोई दवाई लेने के बजाय मास्क लगाने, हाथ धोने, सामाजिक दूरी बनाने जैसे उचित कोविड व्यवहार के प्रोटोकॉल का उपयोग करना चाहिए। साथ ही पोषक तत्वों को खाने में शामिल करना चाहिए। ऐसे मरीज 10 मिलीग्राम की पैरासीटामोल की खुराक हर 4 से 6 घंटे पर ले सकते हैं। इसके अलावा उन्हें गर्म पानी का पीने और गरारे करने में इस्तेमाल करना चाहिए।

Read: केंद्र सरकार ने 74 करोड़ वैक्सीन का ऑर्डर दिया, पीएम मोदी के ऐलान के बाद दिख रहा एक्शन

COMMENT