उम्मीदें टूटती हैं तो बुरा लगता है लेकिन जिंदगी वहीं खत्म नहीं होती

Views : 2181  |  0 minutes read

पूरा देश ​चंद्रयान 2 मिशन के पूरे होने की खुशी मनाना चाहता था और इतिहास के पन्नों पर भारत का नाम देखना चाहता था लेकिन जब चंद कदम दूर विक्रम लैंडर से सम्पर्क टूटा तो इसरो टीम के साथ लाखों लोगों की उम्मीदें कांच की तरह टूट गईं। हर दिल यह उम्मीद लगाए बैठा था​ कि सालों की मेहनत सफल होगी और भारत चांद के दक्षिणी ध्रुव पर कदम रखने वाला पहला देश बन जाएगा लेकिन ऐसा हो नहीं सका।

इसरो अध्यक्ष भी इतने आहत हुए कि अपने आंसू नहीं रोक पाए। जिंदगी में भी अक्सर हमारे साथ ऐसा ही होता है। रिश्तों के जाल के बीच हम कई तरह की उम्मीदें लगाए रखते हैं। कई बार हद से ज्यादा किसी बात पर उम्मीद लगाए बैठ जाते हैं और फिर जब वह पूरी नहीं होती है तो दिल दुखना लाज़मी है।

उम्मीद रखना और उनका टूटना एक तरह से जिंदगी का हिस्सा है लेकिन कई लोग उम्मीद टूटने के बाद अपने जीवन में एक ठहराव सा ले आते हैं। उम्मीद करना स्वा​भाविक प्रकृति है लेकिन उससे जिंदगी को जोड़ लेना सही नहीं है। जिंदगी उम्मीद से आगे भी है। उम्मीदों के टूटने के बाद सकारात्मक रवैया अपनाना बहुत जरूरी है। इस बात को समझना जरूरी है कि जिंदगी में आगे बहुत कुछ है और कई अच्छी बातें इंतजार में हैं। उम्मीद टूटने पर गम मनाइए लेकिन फिर आगे का सोचिए।

यह मानकर चलिए कि हर मुश्किल, हर संघर्ष, हर कठिनाई, हमें कुछ नया सिखाकर जाती है। अगली बार उम्मीद टूटने पर एक उम्मीद और रखिए कि आगे और कुछ अच्छा होने वाला है….।

COMMENT