#33yearsoftogetherness: बड़ा दिलचस्प था अबू जानी और संदीप खोसला का मिलना, एक ही डिजाइनर से सिखे फैशन के गुर

5 min. read

डिजाइनर्स अबू जानी और संदीप खोसला ने फैशन की दुनिया में 33 साल पूरे कर लिए हैं। इस जश्न को मनाने के लिए डिजाइनर ने मुंबई में एक फैशन शो का आयोजन किया। जिसमें कई नामचीन हस्तियों ने शिरकत की। आज अबू जानी और संदीप खोसला का नाम फैशन की दुनिया में फेमस डिजाइनर्स की लिस्ट में शामिल हैं। 33 सालों की इनकी ये जर्नी आसान नहीं थी। काफी उतार-चढ़ाव के बाद इन्होंने ये मुकाम पाया है। दिलचस्प बात है कि मशहूर डिजाइनर अबू और संदीप ने किसी भी डिजाइनिंग कॉलेज से पढ़ाई नहीं की। दो अलग-अलग शहरों के रहने वाले अबू जानी और संदीप खोसला के मिलने से लेकर फेमस डिजाइनर बनने का कुछ इस तरह रहा इनका सफरनामा।

जब डिजाइनिंग कॉलेज में नहीं हुआ अबू का एडमिशन

अबू जानी का जन्म मुंबई में एक मुस्लिम परिवार में हुआ। बचपन से ही उनका रुझान आर्ट में था। आर्ट को लेकर उनका जूनून इस कद्र था कि वे अपनी स्कूल की बुक्स को स्कैचेस और डूडल्स से भर देते थे। यही वजह रही कि उन्होंने अपने शौक को पूरा करने के लिए जे.जे स्कूल ऑफ आर्ट्स में अप्लाई किया लेकिन उनका एडमिशन नहीं हो पाया। अबू ने यहीं हार नहीं मानी वे अपने सपने को पूरा करने के लिए अलग तरीके खोजने लगे और आखिरकार उन्होंने खुद को फैशन की दुनिया से जोड़ लिया। शुरुआती दौर में अबू ने फेमस डिजाइनर Xerxes Bhartena के साथ करीब 5 साल तक काम किया। अबू ने फ्रीलासिंग के रुप में भी कई सालों तक काम किया। अबू एक्सपोर्ट हाउस से भी जुड़े। जहां उन्होंने एंब्रॉयडरी और डिजाइनिंग के तरीके सीखे। इसके बाद अबू ने अपना बुटिक शुरु किया।

ऐसे हुई अबू और संदीप की मुलाकात

15 अगस्त 1986 को अबू संदीप खोसला से मिले। जो डिजाइनर Xerxes Bhartena के असिस्टेंट के रुप में काम कर चुके थे। दोनों के बीच दोस्ती हुई और दोनों ने अपना लेबल खोलने का फैसला किया। संदीप खोसला का जन्म पंजाब के कपूरतला में पंजाबी परिवार में हुआ। संदीप ने स्कूली पढ़ाई उतराखंड के द दून स्कूल से की है। वहीं कॉलेज की पढ़ाई जलंधर से की। बचपन से ही उनकी रुचि फैशन की दुनिया में थी। कॉलेज की पढ़ाई पूरी करने के बाद संदीप ने फैमिली बिजनेस ज्वॉइन किया लेकिन इसमें उनकी कुछ खास दिलचस्पी नहीं थी। संदीप ने अपने सपनों को पूरा करने के लिए दिल्ली जाने का फैसला किया जहां उन्होंने अपना बुटिक लाइमलाइट खोला। कुछ साल बाद ही उन्होंने मुंबई का रुख किया और फेमस डिजाइनर Xerxes Bhartena की डिजाइनिंग टीम में शामिल हो गए। यहां रहते हुए उन्होंने कई तरह के फ्रैब्रिक्स और आउटफिट्स बनाने की बारीकियां सीखीं।

फैशन की दुनिया में रखा साथ कदम

अबू और संदीप ने मुंबई में मथारी बुटिक शुरु किया। शुरुआत में दोनों ने नेचुरल फ्रैब्रिक्स का इस्तेमाल किया। जो कम समय में ही बॉलीवुड स्टार्स के बीच फेमस हो गया। साल 1987 में उन्होंने तरुण तहलानी के मल्टीब्रैंड बुटिक एनसेंबल से जुड़े। जिसके बाद जया बच्चन, डिंपल कपाड़िया और परमेश्वर गोदरेज, श्री देवी, अमृता सिंह जैसे सेलिब्रिटी इनकी क्लाइंट लिस्ट में शामिल हो गए।

फैशन के अलावा इंटीरियर डिजाइनिंग में भी रखा कदम

ना सिर्फ फैशन की दुनिया में बल्कि इस जोड़ी ने इंटिरियर की दुनिया में भी अपना रुतबा बनाया है। कॉस्ट्यूम डिजाइनिंग के अलावा इस जोड़ी की इंटिरियर डिजाइनिंग लाइन पहली बार साल 1993 में मुंबई में आयोजित हुई बजाज गैलेरी में पब्लिक के सामने आई। दोनों ने कई तरह के इंटीरियर डिजाइनिंग प्रोजेक्ट में साथ काम किया है इसमें कई होटल्स भी शामिल हैं। उनकी क्रिएटिवीटी कई सेलिब्रिटी के घर पर भी नजर आती है। दोनों ने अमिताभ बच्चन, डिंपल कपाड़िया, श्वेता नंदा जैसी हस्तियों के घर का इंटीरियर डिजाइन कर चुके हैं। संदीप और अबू के दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु में डिजाइनिंग स्टोर चल रहे हैं। अब और संदीप लेबल खूबसूरत ब्राइडल आउटफिट्स के लिए जाना जाता है।

अबू और संदीप ने कई बॉलीवुड फिल्मों के लिए आउटफिट्स डिजाइन किए हैं। इनमें ‘देवदास’, ‘उमराव’ ‘जान’, ‘वीरे दी वेडिंग’, ‘प्यार का साया’, ‘द हिरो’ जैसी फिल्में शामिल हैं।

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.