कोरोना के बीच सितंबर के दूसरे हफ्ते में शुरू होगा संसद का मानसून सत्र

Views : 2057  |  3 minutes read
Parliament-Monsoon-Session

वैश्विक महामरी कोरोना वायरस के बीच सितंबर के दूसरे हफ्ते से संसद का मानसून सत्र शुरू करने को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं। इस बार कोरोना संक्रमण की वजह से संसद के मानसून सत्र का नजारा अलग होगा। यह बताया जा रहा है कि इस बार संसद सत्र में लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही वैकल्पिक दिनों के आधार पर होगी। इसका मतलब है कि एक दिन लोकसभा तो वहीं दूसरे दिन राज्यसभा की कार्यवाही होगी।

कोरोना के प्रसार को रोकने के उठाया जा रहा कदम

संसद के मानसून सत्र के सितंबर के दूसरे हफ्ते से शुरू होने की उम्मीद है। लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही वैकल्पिक दिनों के आधार पर होगी यह कदम सामाजिक दूरी और कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के मद्देनजर उठाया जा रहा है। इस बार दोनों सदन वर्चुअली नहीं बल्कि फिजिकली मिलेंगे। लोकसभा की कार्यवाही लोकसभा हॉल, राज्यसभा हॉल और सेंट्रल हॉल से चलने की संभावना है। वहीं, राज्यसभा की कार्यवाही राज्यसभा और लोकसभा हॉल और लॉबी में आयोजित की जाएगी। हालांकि अभी तक बैठने की व्यवस्था के बारे में अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है।

चार हफ्ते तक चल सकता है संसद का मानसून सत्र

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि इस बार संसद के मानसून सत्र के चार हफ्ते तक चलने की उम्मीद है। हर प्रवेश और निकास द्वार पर हैंड सैनिटाइटर उपलब्ध कराए जाएंगे। आपको बता दें कि इससे पहले आनन-फानन में संसद के बजट सत्र को स्थगित कर दिया गया था। संविधान के तहत एक संसद सत्र के अंत और अगले की शुरुआत के बीच छह महीने से ज्यादा का अंतर नहीं हो सकता। इसी वजह से मानसून सत्र शुरू करने के लिए संसद के पास आखिरी तारीख 23 सितंबर है।

पूर्व सपा नेता अमर सिंह के निधन से खाली हुई राज्यसभा सीट पर 11 सितंबर को होगा उपचुनाव

बता दें कि 23 मार्च को बजट सत्र खत्म होने से दो दिन पहले ही देश में 68 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की घोषणा हुई थी। पहले प्रस्ताव था कि दोनों सदनों को सेंट्रल हॉल से चलाया जाए। चार-चार घंटे की दो शिफ्ट में रोजाना लोकसभा और राज्यसभा को चलाया जाता। हालांकि, स्वच्छता को ध्यान में रखते हुए ऐसा नहीं हो पाया।

COMMENT