बर्थडे: प्रतिष्ठित ‘गोल्डन लॉयन अवॉर्ड’ पाने वाली पहली भारतीय महिला है मीरा नायर

Views : 1835  |  3 minutes read
Mira-Nair-Biography

भारतीय मूल की अमेरिकन फिल्ममेकर मीरा नायर की फिल्में दुनियाभर में अपनी विशिष्ट शैली के लिए जानी जाती हैं। फिल्मी दुनिया से ताल्लुक रखने वाली मीरा आज किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं। बॉलीवुड में उन्होंने ‘सलाम बॉम्बे’, ‘मॉनसून वेडिंग’ जैसी फिल्मों का निर्माण किया है। यही नहीं हिंदी सिनेमा को इरफान खान जैसा बेहतरीन अभिनेता देने का श्रेय भी मीरा को ही जाता हैं। इरफान ने अपने फिल्मी सफ़र की शुरुआत मीरा नायर की फिल्म ‘सलाम बॉम्बे’ से की थी। आज 15 अक्टूबर को मीरा अपना 63वां जन्मदिन मना रही हैं। ऐसे में इस ख़ास मौके पर आइए जानते हैं उनकी ज़िंदगी से जुड़े कई दिलचस्प किस्से..

ओडिशा के राउरकेला में हुआ था जन्म

फिल्म निर्माता-निर्देशक मीरा नायर का जन्म 15 अक्टूबर, 1957 को ओडिशा राज्य के राउरकेला में हुआ था, लेकिन वे भुवनेश्वर में पली-बढ़ीं। उनके पिता अमिृत लाल नायर भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी और माता परवीन नायर सामाजिक कार्यकर्ता थीं। 11 साल की उम्र में पिता के ट्रांसफर के साथ ही उनका परिवार दिल्ली आ गया। 13 साल की आयु में मीरा ने शिमला के कैथेलिक मिशनरी स्कूल लॉरेटो कॉन्वेंट में दाखिला लिया। इसके बाद कॉलेज की पढ़ाई के लिए मीरा दिल्ली के मिरांडा हाउस चली गईं। कॉलेज के दौरान ही मीरा का रूझान थियेटर की ओर हो गया। कॉलेज की पढ़ाई के साथ उन्होंने थियेटर भी किया। इसके बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई के लिए हावर्ड विश्व विद्यालय का रुख किया।

मीरा ने बतौर निर्देशक ऐसे की फिल्मों की शुरुआत

हावर्ड यूनिवर्सिटी में रहते हुए मीरा नायर की दिलचस्पी डॉक्यूमेंट्री की दुनिया में होती चली गईं। इसके बाद उन्होंने कई डॉक्यूमेंट्री फिल्मों का निर्माण किया। मीरा ने कई भारतीय समाज के परिदृश्य को दिखाती डॉक्यूमेंट्री का निर्माण किया। उन्होंने वर्ष 1979 में ‘जामा मस्जिद स्ट्रीट जर्नल’, साल 1982 में ‘सो फार फ्रॉम इंडिया’ डॉक्यमेंट्री का निर्माण किया।

Filmmaker-Mira-Nair

फिल्म ‘सलाम बॉम्बे’ से रखा बॉलीवुड में कदम

वर्ष 1989 में रिलीज़ हुई फिल्म ‘सलाम बॉम्बे’ मीरा नायर की डेब्यू फीचर फिल्म थीं। इस फिल्म से उन्होंने बॉलीवुड में बतौर निर्देशक कदम रखा। हिंदी सिनेमा में मीरा को अपनी पहली ही फिल्म से काफी लोकप्रियता मिलीं। उनकी इस फिल्म से इरफान खान ने बॉलीवुड में बतौर अभिनेता अपने कॅरियर की शुरुआत की थी। आपको जानकर हैरानी होगी, मगर उनकी पहली ही फिल्म ने 23 इंटरनेशनल अवार्ड जीते थे।

इस फिल्म के बाद मीरा नायर ने वर्ष 1996 में विवादित फिल्म ‘कामसूत्र: अ टेल ऑफ लव’ बनाई, जो उस दौर की बेहद बोल्ड फिल्म मानी गई थी। सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म को सर्टिफिकेट नहीं देने के साथ ही इसे पूरे भारत में बैन कर दिया था। साल 2001 में मीरा के निर्देशन में बनी फिल्म ‘मॉनसून वेडिंग’ रिलीज़ हुई, जिसे फिल्म क्रिटिक्स की खूब तारीफें मिलीं। इसके बाद वर्ष 2007 में उनकी फिल्म ‘द नेमसेक’ आईं।

‘मॉनसून वेडिंग’ के लिए मिला गोल्डन लॉयन पुरस्कार

बॉलीवुड में मीरा नायर ने भले ही बेहद कम फिल्मों का निर्देशन किया हो, मगर उनकी इन फिल्मों ने ढेरों अवॉर्ड अपने नाम किए हैं। वर्ष 2001 में मीरा को उनकी फिल्म ‘मॉनसून वेडिंग’ के लिए प्रतिष्ठित ‘गोल्डन लॉयन पुरस्कार’ से सम्मानित किया गया था। इसी के साथ मीरा यह अवॉर्ड पाने वाली पहली भारतीय महिला बनीं। हाल में उनकी एक पीरियड ड्रामा सीरीज ‘ए सूटेबल बॉय’ रिलीज़ हुई है।

Read More: फिल्मों में मां का पर्याय बन गई थी निरूपा रॉय, देवी समझ पैर छूते थे लोग

COMMENT