स्पेशल: ‘ड्रीमगर्ल’ हेमा मालिनी का अभिनेत्री से सांसद बनने तक का ऐसा रहा सफ़र

Views : 2668  |  4 minutes read
Hema-Malini-Biography

बॉलीवुड की ‘ड्रीम गर्ल’ कही जाने वाली हेमा मालिनी को भला कौन नहीं जानता। हिंदी सिनेमा का ये चर्चित नाम आज किसी पहचान का मोहताज नहीं है। 16 अगस्त को हेमा मालिनी अपना 72वां जन्मदिन मना रही हैं। एक बेहतरीन अभिनेत्री होने के अलावा हेमा बेहतरीन भरतनाट्यम डांसर भी हैं। इस खास मौके पर आइए एक नजर डालते हैं उनकी जिंदगी से जुड़ी अनकही दिलचस्प बातों पर…

हेमामालिनी का जन्म 16 अक्टूबर 1948 को अम्मनकुडी तमिलनाडु में एक तमिल परिवार में हुआ। उनके पिता का नाम वीएसआर चक्रवर्ती और माँ का नाम जया चक्रवर्ती है। हेमा की मां उस दौर में फिल्म निर्माता थी। हेमा ने स्कूली शिक्षा आंध्र महिला सभा और दिल्ली केतमिल एजुकेशन एसोसिएशन सीनियर सेकेंडरी स्कूल से की है। घर में फिल्मी माहौल होने के कारण हेमा का रुझान भी एक्टिंग की तरफ हो गया। यही वजह है कि अभिनेत्री बनने की चाहत ने उन्हें कभी कॉलेज नहीं जाने दिया।

हेमा के फिल्मी सफर की शुरुआत

हेमा मालिनी के लिए अभिनेत्री बनने का सफर आसान नहीं था। एक्टिंग की दुनिया में हेमा को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा था। कॅरियर के शुरुआती दौर में हेमा की फिल्में बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाई। हेमा ने साल 1961 में एक तमिल फिल्म में नर्तकी के रूप नजर आईं। इसके बाद हेमा ने साल 1963 में तमिल फिल्म Idhu Sathiyam  से अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत की। साल 1968 में आई फिल्म सपनों का सौदागर हेमा की बॉलीवुड डेब्य फिल्म थी। बॉक्स ऑफिस पर भले ही फिल्म असफल साबित हुई मगर हेमा इस फिल्म से दर्शकों का दिल जीतने में कामयाब रही। बॉलीवुड में हेमा मालिनी को असल पहचान साल 1970 में आई फिल्म जॉनी मेरा नाम से मिली। फिल्म में हेमा देवानंद के अपोजिट थी। सिने पर्दे की इस जोड़ी को दर्शकों का बेशुमार प्यार मिला। फिल्म टिकट खिड़की पर सुपरहिट साबित हुई।

बॉलीवुड में हेमा की ये पहली सफल फिल्म थी। इस फिल्म के बाद हेमा ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। अंदाज(1971), सीता और गीता (1972) फिल्में उनके करियर की टर्निंग पॉइंट साबित हुई और फिल्म इंडस्ट्री में हेमा को बतौर सफल अभिनेत्री के रुप में पहचाना जाने लगा। साल 1977 में आई फिल्म “ड्रीम गर्ल” में हेमा का अभिनय दर्शकों को इस कद्र पसंद आया कि इसके बाद उन्हें बॉलीवुड में ड्रीमगर्ल के नाम से जानाजाने लगा।

हेमा-धर्मेद्र की जोड़ी पर्दे पर सुपरहिट रही

फिल्मी पर्दे पर हेमा मालिनी और धर्मेंद्र की जोड़ी को दर्शकों ने खूब पसंद किया। पहली बार धर्मेंद्र और हेमा फिल्म सराफत में एक साथ नजर आए। इसके बाद साल 1975 में फिल्म शोले में वीरु और बसंती के रुप में धर्मेंद्र और हेमा की जोड़ी ने सिने पर्दे पर हंगामा मचा दिया। पर्दे पर दोनों की केमिस्ट्री को दर्शकों ने खूब इंजॉय किया। इसका फायदा निर्माता निर्देशक ने भी खूब लिया। फिल्म शोले से ही धर्मेंद्र हेमा को पसंद करने लगे थे। फिल्मों में इस जोड़ी को चरस, , रजिया सुल्तान, अली बाबा और चालीस चोर, द बर्निंग ट्रेन, आसपास, प्रतिज्ञा बगावत, आतंक, और दोस्त जैसी कुल 35 फिल्मों में काम किया।

हेमा और धर्मेंद्र की लव स्टोरी

फिल्मों में साथ काम करते हुए हेमा और धर्मेद्र के बीच नजदीकियां बढ़ने लगी। मगर धर्मेंद्र पहले से शादीशुदा थे और दो बच्चों के पिता भी थे। इसके बावजूद दोनों के बीच का प्यार परवान चढ़ा। हेमा के लिए धर्मेंद्र ने अपनी पहली पत्नी प्रकाश कौर को तलाक देने का फैसला किया। हेमा और धर्मेंद्र ने साल 1979 में शादी कर ली। दोनों के दो बेटिंया ईशा औ आहना देओल है।

बॉलीवुड से राजनीति में रखा कदम

एक्टिंग की दुनिया में अपना दमखम दिखाने के बाद हेमा साल 2003 में भाजपा में शामिल हुई। आधिकारिक रूप से हेमा 2004 से 2009 तक राज्य सभा की सदस्य रहीं। मार्च 2010 में हेमा मालिनी बीजेपी की जनरल सेक्रेटरी बनाई गई। वर्तमान में हेमा मालिनी मथुरा से सांसद हैं।

हेमा मालिनी की अब तक की बेहतरीन फिल्में

जॉनी मेरा नाम (1970), तेरे मेरे सपने (1971), सीता और गीता (1972), प्रेम नगर (1974), प्रतिज्ञा (1975), शोले (1975), खुशबू (1975), किनारा (1977), त्रिशूल (1978), मीरा (1979), नसीब (1981), क्रांति (1981), सत्ते पे सत्ता (1982), रिहाई (1988), बाग़बान (2003) जैसी सुपरहिट फिल्में शामिल हैं।

Read More: प्रतिष्ठित ‘गोल्डन लॉयन अवॉर्ड’ पाने वाली पहली भारतीय महिला है मीरा नायर

COMMENT