‘क्‍वीन ऑफ काटवे’ की बाल कलाकर का 15 साल की उम्र में निधन, ये बनी मौत की वजह

Views : 2038  |  2 minute read

2016 में आई स्पोर्ट्स ड्रामा “क्वीन ऑफ़ काटवे” में अभिनय करने वाली निकिता पर्ल वलिग्वा अब इस दुनिया में नहीं रही। महज 15 साल की उम्र में उनका निधन हो गया। वलिग्वा ब्रेन ट्यूमर से ग्रसित थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वलिग्वा ब्रेन ट्यूमर से ग्रसित थी।

भारतीय-अमेरिकी फिल्म निर्माता मीरा नायर ने निकिता की अचानक मौत पर दुख व्यक्त करते हुए सोशल मीडिया पर इमोशनल पोस्ट साझा की है। बता दें कि वो मीरा ही थी जिसकी वजह से यूगांडा की रहने वाली निकिता पर्ल को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली।

साल 2016 में ट्यूमर का पता चला

वलिग्वा को साल 2016 में अपने ब्रेन ट्यूमर होने का पता चला था। जिसके बाद उनका भारत में इलाज चला था।  उसने एक साल बाद  रिकवरी होने लगी, लेकिन ट्यूमर 2019 में वापस आ गया।

उन्‍होंने लिखा अलविदा प्रिय निकिता। इतनी जल्दी, इतनी कम उम्र में तुम्‍हारे जाने की खबर से दिल टूट गया है। तुम योद्धा थी लेकिन यह बीमारी लाइलाज थी।  फिल्‍म क्‍वीन ऑफ काटवे के जरिये तुम हमेशा याद की जाओगी।

मीरा नायर की फिल्म ने दिलाई पहचान

निकिता को उनकी फिल्‍म क्‍वीन ऑफ काटवे में बेहतरीन अभिनय के लिए जबरदस्त तारीफें मिली थी। फिल्म का निर्देशन मीरा नायर ने किया था। मीरा की ये फिल्‍म बायोपिक फिल्म थी जो युगांडा के स्‍लम में रहने वाली प्रतिभाशाली शतरंज खिलाड़ी फिओना मुटेसी के जीवन पर आधारित थी। यह फिल्म साल 2016 में आई थी। फिल्म में निकिता ने ग्लोरिया का किरदार निभाया था।

 

 

COMMENT