JEE Main 2021 साल में चार बार आयोजित की जाएगी, पहला चरण 23 से 26 फरवरी तक

Views : 1224  |  3 minutes read
Education-Minister-Nishank

संयुक्त प्रवेश परीक्षा यानि जेईई मेन 2021 को लेकर केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने बुधवार को विद्यार्थियों को संबोधित किया। शिक्षा मंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि जेईई (मेन) के संबंध में प्राप्त सुझावों के आधार कई बड़े बदलाव किए गए है। उन्होंने बताया कि परीक्षा साल में चार बार आयोजित की जाएगी। चारों चरणों में से सर्वश्रेष्ठ प्राप्तांकों के आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार की जाएगी। निशंक ने कहा कि JEE Main 2021 एक वर्ष में चार बार आयोजित करने के पैटर्न से स्टूडेंट्स को उनकी गलतियों और कमजोर क्षेत्रों को जानने का मौका मिलेगा। यह बदलाव उन्हें उनके स्कोर में सुधार के लिए कई अवसर प्रदान करेगा जिससे परीक्षा के अगले चरण में अच्छी तरह से तैयारी कर सकेंगे।

मार्च, अप्रैल और मई में होंगे अगले तीन सत्र

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ​निशंक ने कहा कि इस बार JEE Main 2021 साल में चार बार आयोजित की जाएगी। इसका पहला चरण 23 से 26 फरवरी, 2021 तक आयोजित किया जाएगा। इसके बाद मार्च, अप्रैल और मई 2021 में अगले तीन सत्र होंगे। परीक्षा का आयोजन राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी यानि एनटीए द्वारा किया जाएगा। उन्होंने बताया कि हर साल लगभग 8-9 लाख उम्मीदवार आईआईटी, एनआईटी, अन्य केंद्रीय वित्तपोषित तकनीकी संस्थानों (सीएफटीआई), संस्थानों/ विश्वविद्यालयों द्वारा वित्त पोषित/ मान्यता प्राप्त/ राज्य सरकारों में दाखिले के लिए जेईई मेन के लिए पंजीकरण करते हैं।

13 क्षेत्रीय भाषाओं में होगा पेपर, नेगेटिव मार्किंग नहीं होगी

शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने बताया कि NTA ने जेईई मेन के लिए नया परीक्षा पैटर्न तैयार किया है। अभ्यर्थियों को 90 प्रश्नों में से केवल 75 का उत्तर देना होगा। इसमें 15 वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न होंगे जिनके लिए कोई नकारात्मक मूल्याकंन नहीं होगा। जेईई मेन 2021 का पेपर हिंदी, अंग्रेजी समेत कई भारतीय भाषाओं में उपलब्ध कराया जाएगा। विद्यार्थी अपनी सुविधानुसार प्रश्न पत्र की भाषा का चयन कर सकेंगे। पेपर प्रमुख भाषाओं में शामिल हिंदी, अंग्रेजी, असमी, गुजराती, बंगाली, कन्नड़, मराठी, उड़िया, पंजाबी, मलयालम, तमिल, तेलुगू और उर्दू में उपलब्ध होगा। हालांकि, सभी सभी क्षेत्रीय भाषाओं के साथ प्रश्न अंग्रेजी भाषा में भी रहेंगे।

Read More: केंद्र सरकार ने किसान आंदोलन के बीच गन्ना किसानों को दी बड़ी सौगात

COMMENT