अगले साल फरवरी तक आ सकती है कोरोना की स्वदेशी वैक्सीन

Views : 672  |  3 minutes read
Corona-Indigenous-Covaxin

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस दुनियाभर में लाखों लोगों की जान ले चुका है। इस वायरस के मामले पिछले के अंत में पहली बार चीन में सामने आए थे। उसके बाद से ही अब तक दुनियाभर के लोगों को कोरोना की एक सुरक्षित और कारगर वैक्सीन का इंतजार है। भारत में फिलहाल तीन वैक्सीन इस रेस में आगे चल रही हैं और कामयाबी से बस कुछ ही कदम दूर हैं। तीनों वैक्सीन कैंडिडेट्स अंतिम चरणों के ट्रायल में हैं। भारत की देसी कोरोना वैक्सीन ‘Covaxin’ से बड़ी उम्मीदें हैं। भारत बायोटेक कंपनी ने भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) और राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (NIV) के साथ मिलकर यह वैक्सीन तैयार की है।

शुरुआती ट्रायल में वैक्सीन ने दिखाया अच्छा असर

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो भारत बायोटेक की देसी कोरोना वैक्सीन अगले साल फरवरी में आ सकती है। कहा जा रहा है कि यह वैक्सीन फरवरी 2021 में आती है तो इसकी लॉन्चिंग अनुमानित समय से काफी पहले होगी, क्योंकि अबतक कहा जा रहा था कि यह वैक्सीन अगले साल की दूसरी तिमाही यानी 2021 के अप्रैल से जून के बीच आएगी। शुरुआती चरणों के ट्रायल में ‘Covaxin’ ने अच्छा असर दिखाया है। बता दें कि देशभर में बड़ी संख्या में लोग इस स्वदेशी वै​क्सीन का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।

वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल पर पूरा फोकस

उल्लेखनीय है कि इससे पहले भारत बायोटेक के अंतर्राष्ट्रीय कार्यकारी निदेशक साई प्रसाद ने एक समाचार एजेंसी से बातचीत में कहा था कि आखिरी चरण के ट्रायल्स में वैक्सीन की प्रभावकारिता और सुरक्षित होने का मजबूत डेटा स्थापित करने के बाद अगर हमें अप्रूवल मिल जाता है तो हमारा लक्ष्य साल 2021 की दूसरी तिमाही तक वैक्सीन लॉन्च करने का है। अधिकारी ने कहा था कि कंपनी का फोकस फिलहाल देशभर में वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल को सफलतापूर्वक पूरा करने पर है।

ICMR ने कोरोना के इलाज के लिए एंटीसेरा किया विकसित, क्लीनिकल परीक्षण को मिली मंजूरी

आपको जानकारी के लिए बता दें कि भारत बायोटेक ने ‘Covaxin’ को राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान में विकसित SARS-Cov-2 के इनएक्टिवेटेड स्ट्रेन से तैयार किया है। इसके सभी ट्रायल पूरे होने पर नियामक की मंजूरी ली जाएगी और इसके बाद वैक्सीन को देशभर में लॉन्च किया जाएगा।

COMMENT