सीमा पर तनाव के बीच 12 सुखोई और 21 मिग-19 विमान खरीदेगा भारत

Views : 2112  |  3 minutes read
Indian-Navy-MiG-29K

गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई झड़प के बाद भारत अपने हवाई युद्धक बेड़े में बढ़ोतरी करने जा रहा है। चीन के साथ सीमा पर लगातार बढ़ रहे तनाव के बीच भारत ने वायुसेना की क्षमता को बढ़ाने का फैसला किया है। एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत जल्द ही 12 नए सुखोई और 21 नए मिग-19 विमान खरीद सकता है। भारतीय वायुसेना ने इन विमानों की खरीद के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी है और इस संबंध में जल्द से जल्द कार्रवाई के लिए भारत सरकार को प्रस्ताव भी भेज दिया है।

युद्धक विमानों की खरीद का प्रस्ताव रक्षा मंत्रालय को भेजा

एक ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार, सुखोई और मिग-19 विमानों की खरीद का प्रस्ताव रक्षा मंत्रालय को भेज दिया गया है। अब रक्षा मंत्रालय अगले सप्ताह तक इस अनुमानित पांच हजार करोड़ रुपए की डिफेंस डील पर फैसला लेगा। प्रस्ताव की प्रति में यह उल्लेख किया गया है कि रूस से अतिरिक्त मिग-29 खरीदने के लिए वर्तमान सौदे में संशोधन किए जाएंगे। बता दें कि 36 राफेल विमानों के लिए वर्ष 2016 में हुए सौदे के बाद वायु सेना द्वारा अधिग्रहण किए जाने वाले 33 नए विमानों के लिए यह दूसरा सौदा होगा।

ऐसा माना जा रहा है कि भारत सरकार ने यह फैसला चीन के साथ लगातार बढ़ रहे सैन्य तनाव को देखते हुए लिया गया है। हाल ही में पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी क्षेत्र में हुई भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक वीरगति को प्राप्त हो गए थे। वहीं, दूसरी ओर चीन के 40 से 50 सैनिक इसमें मारे गए। इस घटना के बारे में भारत का कहना है कि यह झड़प चीन की एक सोची-समझी योजना के तहत हुई थी। दूसरी ओर खबरें आ रही हैं कि भारत-चीन तनाव के बीच पाकिस्तान ने भी एलओसी (नियंत्रण रेखा) पर सैन्य आवाजाही तेज कर दी है, जो चीन और पाकिस्तान की एक साज़िश भी साबित हो सकती है। हालांकि, दुश्मन देशों की किसी भी हरकत का माकूल जवाब देने के लिए भारतीय सेना तैयार हैं।

Read More: भारत-चीन तनाव को लेकर पीएम मोदी ने 19 जून को बुलाई सर्वदलीय बैठक

200 से ज्यादा ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल का दिया ऑर्डर

लड़ाकू विमानों की खरीद के अलावा भारतीय वायुसेना ने 216 ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल का ऑर्डर दे दिया है। हवा से हवा में मार करने वाली ये मिसाइलों की मारक क्षमता 400 किलोमीटर से भी ज्यादा है। आपको बता दें कि इन मिसाइलों को 42 सुखोई एसयू-30एमकेआई विमानों में लगाया जाएगा। ब्रह्मोस मिसाइल को युद्ध में इस्तेमाल करने की मंजूरी पहले ही मिल गई थी। ताज़ा जानकारी के मुताबिक, आगामी समय में भारतीय वायुसेना और मिसाइलों की भी बड़ी मात्र में खरीद कर सकती है।

COMMENT