कोरोना: डेल्टा प्लस वैरिएंट के भारत में 40 मामले मिले, बढ़ते केस बढ़ा रहे सरकार की चिंता

Views : 2075  |  3 minutes read
Delta-Plus-Variant-India

भारत में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में संक्रमण के मामलों में भले ही कमी आ गई हो, लेकिन वायरस के डेल्टा प्लस वैरिएंट के बढ़ते मामले अब चिंता बढ़ा रहे हैं। देश में कोरोना वायरस के डेल्टा प्लस वैरिएंट के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है और ताजा आंकड़ों के मुताबिक, भारत में इस वैरिएंट के 40 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। सरकार की माने तो देश में कोरोना के डेल्टा प्लस वैरिएंट के 40 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। इस वैरिएंट के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र से सामने आए हैं।

देश के चार राज्यों में डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि हुई

जानकारी के मुताबिक, देश में अब तक चार राज्यों में कोरोना के डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि हुई है, जिसमें महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, तमिलनाडु और केरल शामिल हैं। भारत सरकार का कहना है कि मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र और केरल में डेल्टा प्लस वैरिएंट में कोई उल्लेखनीय वृद्धि नहीं हुई है। सरकार ने बताया कि इन राज्यों को निगरानी बढ़ाने के निर्देश दे दिए हैं। वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने चारों राज्यों के मुख्य सचिवों को लिखा कि जहां पर भी डेल्टा प्लस वैरिएंट के मामले मिले हैं, वहां उसे रोकने के लिए जल्द कदम उठाएं। इसके अलावा सरकार ने स्पष्ट किया है कि डेल्टा प्लस वैरिएंट चिंता का विषय बना हुआ है।

उधर, डेल्टा प्लस वैरिएंट से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा, ‘मैंने सभी अधिकारियों को निर्देश दे दिया है कि डेल्टा प्लस वैरिएंट की नजदीकी से निगरानी करें। शोध के लिए इस वैरिएंट की सूचना को इकट्ठा और रिकॉर्ड किया जाए।’ उन्होंने कहा कि हम हर जिले से 100 सैंपल इकट्ठा कर रहे हैं।

अब तक 10 देशों में डेल्टा प्लस वैरिएंट की हो चुकी पुष्टि

जानकारी के अनुसार, भारत दुनिया के उन 10 देशों में शामिल हैं, जहां डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि हुई है। वहीं दुनिया के करीब 80 देश ऐसे हैं, जहां डेल्टा स्वरूप के बारे में जानकारी मिली है। कोरोना के इस वैरिएंट को लेकर सबसे चिंताजनक बात यह है कि यह डेल्टा प्लस वैरिएंट वैक्सीन और इम्यूनिटी दोनों को ही चकमा दे सकता है।

Read More: कोरोना टीका लगवाने के बाद कुछ लोगों को हो रहे त्वचा संबंधी दुष्प्रभाव

COMMENT