कोरोना से वित्त वर्ष 2020 में जीडीपी 4.5 फीसदी रहने का अनुमान: वित्त मंत्रालय

Views : 1027  |  3 minutes read
India-GDP-FY-2020

कोरोना वायरस महामारी के कारण देश दुनिया की अर्थव्यवस्था में मंदी आ गई है। भारत में भी इस खतरनाक वायरस की रोकथाम के लिए लागू किए गए लॉकडाउन की वजह से अर्थव्यवस्था सुस्त है। केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने सोमवार को एक रिपोर्ट जारी की और बताया कि वित्त वर्ष 2020 में भारत का सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी 4.5 फीसदी रहेगी। बता दें, कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देश में दो महीने का पूर्ण लॉकडाउन रहा। इसके बाद धीरे धीरे लॉकडाउन में छूट दी जा रही है, लेकिन अब तक भी आर्थिक गतिविधियां पहले की तरह शुरू नहीं हो पाई हैं। इसके साथ ही देश पर वैश्विक अर्थव्यवस्था का भी प्रभाव पड़ेगा।

अप्रैल में जारी अनुमान के मुकाबले 6.4 फीसदी कम

वित्त मंत्रालय ने कहा कि यह अनुमान केंद्र सरकार द्वारा अप्रैल माह में जारी किए गए जीडीपी अनुमान के मुकाबले 6.4 फीसदी कम है। केंद्र सरकार ने अपनी आर्थिक रिपोर्ट में कहा कि कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ एक वैक्सीन की अनुपस्थिति के कारण होने वाली अनिश्चितता अर्थव्यवस्था के लिए गंभीर चुनौती है। चालू वित्त वर्ष में अब तक राजस्व प्राप्तियों में साल-दर-साल आधार पर 68.9 फीसदी की गिरावट आई है। रिपोर्ट में कहा गया कि महामारी के दौरान देश का निर्यात बढ़ा है। इसके अलावा महंगाई दर कोरोना के अनुरूप रहने रहेगी।

अर्थव्यवस्था चार से पांच फीसदी नीचे आ सकती है: आईएमएफ

भारत की जीडीपी के बारे में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने कहा है कि एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था यानी भारतीय अर्थव्यवस्था​ वित्त वर्ष 2020 में चार से पांच फीसदी नीचे आ सकती है। हालांकि, भारत सरकार के संरचनात्मक सुधारों और सामाजिक कल्याण उपायों से अर्थव्यवस्था को थोड़ी मदद मिली है।

150 अरब डॉलर का बाजार पूंजीकरण हासिल करने वाली पहली भारतीय कंपनी बनी रिलायंस

केंद्र सरकार ने 20 लाख करोड़ से अधिक के आत्मनिर्भर भारत पैकेज का ऐलान किया था, जिसमें देश के हर वर्ग को लाभ पहुंचाने का ध्यान रखा गया। आपको बता दें कि वित्त वर्ष 2020 की पहली तिमाही में उभरते हुए बाजारों में जैसे भारत, चीन, मलेशिया और थाइलैंड व उन्नत अर्थव्यवस्था वाले देशों में जैसे ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी और जापान के अतिरिक्त अन्य देशों की जीडीपी उम्मीद से काफी नीचे रही।

COMMENT