झूठी खबरों को रोकने के लिए अब केन्द्र सरकार ने उठाया ये कदम

Views : 901  |  3 minutes read
Fake-News-Govt-Step

देश में कोरोना महामारी के बढ़ते मामलों के बीच झूठी खबरों को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। अब आम जनता सरकार के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फेक न्यूज और मैसेज की जानकारी दे सकते हैं, जिसको सरकार की ओर से जांचा जाएगा। फेक न्यूज और मैसेज चेक करने के लिए केंद्र सरकार ने अपना एक व्हाट्सएप नंबर और ई-मेल आईडी जारी किया है। इस नंबर और ई-मेल पर कोई भी व्यक्ति फेक न्यूज को भेज सकता है। इसके बाद सरकार उस न्यूज या मैसेज को वेरीफाई करने का काम करेगी।

यहां भेज सकते हैं फेक न्यूज और मैसेज

केंद्र सरकार ने फेक न्यूज को जांच करने के लिए अपना एक व्हाट्सएप नंबर और ई-मेल एंड्रेस जारी किया है। देश का कोई भी व्यक्ति व्हाट्सएप नंबर 8799711259 पर फेक न्यूज भेज सकता हैं। वहीं, ई-मेल पता pibfactcheck@gmail.com पर ई-मेल भेजा जा सकता है। लोगों द्वारा भेजे गए फेक न्यूज या मैसेज को सरकार द्वारा जांचा जाएगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से पूरे देश में डर का माहौल बना हुआ है। भारत में कोरोना वायरस के 1972 मामले हो गए हैं और अब तक 54 लोगों की मौत हो चुकी है। केंद्र सरकार इसके बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए हर संभव कोशिश कर रही है, लेकिन इस लड़ाई में फेक न्यूज सरकार के लिए दूसरी बड़ी चुनौती बनती जा रही है। इससे न सिर्फ लोगों के बीच अफवाह फैल रही है, बल्कि लोगों में इससे खौफ़ भी बढ़ रहा है।

कोरोना वायरस के संकट पर पीएम मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों को दिया ये आश्वासन

केंद्र सरकार की तरफ से कहा गया है कि लोगों को संयम बरतना चाहिए। गलत सूचना और अफवाह फैलाने के लिए व्हाट्एप जैसे डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म के ग्रुप एडमिन को इसका जिम्मेदार ठहराया जाएगा। अगर कोई ऐसा करता है तो कानून के अनुसार उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

COMMENT