अमरावती से सांसद नवनीत राणा का जाति प्रमाण-पत्र हाईकोर्ट ने किया खारिज, दो लाख का जुर्माना भी लगाया

Views : 1924  |  3 minutes read
Navneet-Rana-Caste-Certificate-Case

एक्टिंग-मॉडलिंग छोड़कर राजनीति में आई व महाराष्ट्र के अमरावती से निर्दलीय सांसद नवनीत कौर राणा को बॉम्बे हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है। अदालत ने सांसद नवनीत राणा के जाति प्रमाण-पत्र को निरस्त कर दिया है और साथ ही दो लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है। दरअसल, नवनीत पर फर्जी दस्तावेज के आधार पर जाति प्रमाण-पत्र बनवाने का आरोप था। बता दें कि नवनीत राणा के जाति प्रमाण-पत्र को लेकर बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच में एक याचिका दायर की गई थी। इसमें आरोप लगाया गया था कि नवनीत कौर राणा पंजाबी हैं और वह लबाना जाति से आती हैं, जो कि महाराष्ट्र में एससी श्रेणी में नहीं आती हैं। ऐसे में उन्होंने फर्जी तरीके से अपना कास्ट सर्टिफिकेट बनवाया है। नवनीत पर स्कूल के फर्जी दस्तावेज दिखाकर जाति प्रमाण-पत्र बनाने का आरोप है। याचिकर्ताओं ने सांसद राणा पर कोर्ट से कार्रवाई करने की भी मांग की।

एंटीलिया केस में उन्होंने शिवसेना पर साधा था निशाना

मालूम हो कि सांसद नवनीत कौर राणा अक्सर सुर्खियों में बनी रहती हैं। देश के सबसे अमीर उद्योगपति मुकेश अंबानी से जुड़े एंटीलिया केस में उन्होंने शिवसेना पर निशाना साधा था। नववीत ने इसके बाद आरोप लगाया था कि उन्हें शिवसेना के नेताओं की ओर से एसिड अटैक की धमकी मिल रही है। सांसद राणा ने इस विषय को संसद में उठाया था, जहां लोकसभा स्पीकर ओम बिरला, गृह मंत्री अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद थे।

उल्लेखनीय है कि नवनीत राणा ने पिछले सत्र में लोकसभा में महाराष्ट्र में 100 करोड़ रुपये के वसूली कांड का मसला भी उठाया था। इस दौरान सांसद ने महाराष्ट्र की उद्धव सरकार को आड़े हाथ लिया था। इसके बाद उन्होंने आरोप लगाया कि शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने संसद की लॉबी में उन्हें धमकाया। उनके मुताबिक, शिवसेना सांसद ने उनसे कहा कि ‘तू महाराष्ट्र में कैसे घूमती है, मैं देखता हूं और तेरे को भी जेल में डालेंगे।’ इस मामले में सांसद नवनीत राणा ने पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखा था और कहा था कि उन्हें एसिड अटैक की धमकी दी जा रही है।

शादी करने बाद वर्ष 2014 में राजनीति में एंट्री ली

गौरतलब है कि नवनीत कौर राणा राजनीति में आने से पहले एक्टिंग और मॉडलिंग की दुनिया में काम किया करती थीं। साल 2011 में विधायक रवि राणा से शादी करने के बाद वो राजनीति में आई और उसने वर्ष 2014 में एनसीपी की टिकट पर अमरावती से चुनाव लड़ा था, लेकिन हार गईं। हालांकि, नवनीत साल 2019 के लोकसभा चुनाव में निर्दलीय ही मैदान में उतरीं और चुनाव जीतकर पहली बार संसद पहुंच गई। नवनीत राणा के पति रवि राणा महाराष्ट्र के अमरावती जिले की बडनेरा सीट से विधायक हैं।

Read: केंद्र सरकार ने 74 करोड़ वैक्सीन का ऑर्डर दिया, पीएम मोदी के ऐलान के बाद दिख रहा एक्शन

COMMENT