भारत में रोजाना कोरोना के औसतन 44 हजार मामले सामने आ रहे: स्वास्थ्य मंत्रालय

Views : 1842  |  3 minutes read
Corona-Update-India

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को एक प्रेसवार्ता आयोजित कर देश में कोरोना की वर्तमान स्थिति की जानकादी दी। इस दौरान मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने देश में कोरोना संक्रमण के हालात, टीकाकरण और ठीक होने की दर आदि को लेकर कई अहम जानकारियां साझा कीं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों से अपील की है कि कोरोना वायरस की दूसरी लहर खत्म नहीं हुई है, इसलिए लापरवाही न बरतें। केंद्रीय मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि कोरोना वायरस के मामलों की पीक के बाद सक्रिय मामलों में 86 फीसदी की गिरावट देखी गई है। क्लीनिकल प्रबंधन पर ध्यान देने से रिकवरी रेट अब 97 फीसदी के आस-पास आ गया है। तीन मई को यह 81.1 फीसदी था। उन्होंने बताया कि देश के 71 जिले ऐसे हैं, जहां पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से अधिक है।

34 करोड़ से ज्यादा लोगों को दी कोरोना रोधी टीके की खुराक

स्वास्थ्य मंत्रालय संयुक्त सचिव अग्रवाल ने बताया कि हमने पिछले सप्ताह के मुकाबले कोविड-19 के मामलों में 13 फीसदी की कमी दर्ज की है। देश में औसतन कोरोना वायरस संक्रमण के रोजाना 44 हजार मामले सामने आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश में अभी तक 34 करोड़ से ज्यादा लोगों को कोरोना रोधी टीके की डोज दी जा चुकी है। हमारे बाद अमेरिका 32.8 करोड़ खुराकें और ब्रिटेन 7,79 करोड़ डोज का नंबर हैं।

उन्होंने कहा कि देश में 21 जून से औसतन 50 लाख लोगों को टीके की रोज खुराक दी जा रही है, जो कि दैनिक तौर पर नार्वे की समूची आबादी के टीकाकरण के समान है। लव अग्रवाल ने कहा कि देश में करीब 80 फीसदी स्वास्थ्यकर्मी, अग्रिम मोर्चे के 90 फीसदी कर्मी टीके की दोनों खुराकें ले चुके हैं। उन्होंने कहा कि देश के 71 जिलों में 23 से 29 जून के के बीच कोरोना संक्रमण दर 10 फीसदी से अधिक थी।

12 राज्यों में डेल्टा ए प्लस से संक्रमण के 56 मामले: डॉ. पॉल

वहीं, नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल ने बताया कि देश के 12 राज्यों में डेल्टा ए प्लस यानि डेल्टा एवाई.1 से संक्रमण के कुल 56 मामले हैं। उन्होंने कहा कि हम जॉनसन एंड जॉनसन की एक खुराक वाले टीके को लेकर उनसे बातचीत कर रहे हैं। उनकी वैक्सीन का उत्पादन बाहर हो रहा है। सरकार की योजना के अनुसार, इस वैक्सीन का उत्पादन भी हैदराबाद के बायोलॉजिकल-ई में किया जाएगा।

DCGI ने स्पूतनिक लाइट के तीसरे चरण के ट्रायल को नहीं दी मंजूरी, डॉ. रेड्डीज लैब का आवेदन खारिज

COMMENT