31 अक्टूबर तक नहीं किया ये काम तो इन 7 करोड़ मोबाइल यूजर्स के नबंर होंगे बंद

Views : 869  |  0 minutes read
Aircel-Users

देश में 31 अक्टूबर बाद करीब 7 करोड़ मोबाइल यूजर्स के नंबर बंद हो सकते हैं। मोबाइल यूजर्स को टेलीकॉम रेग्युलेटरी ऑथिरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) की डेडलाइन से पहले अपना मोबाइल नंबर पोर्ट कराना होगा। ट्राई के कहा है कि 7 करोड़ यूजर्स को 31 अक्टूबर तक अपना नंबर किसी अन्य ऑपरेटर में हर हाल में पोर्ट करवाना होगा। अगर ये यूजर्स डेडलाइन तक किसी अन्य ऑपरेटर में पोर्ट नहीं करवाते हैं तो उनका नंबर हमेशा के लिए बंद हो जाएगा। ये नंबर आगे किसी भी कीमत पर एक्टिवेट नहीं होंगे। दरअसल, ये मामला साल 2018 में बंद हुई टेलिकॉम कंपनी एयरसेल से जुड़ा हुआ है। इसी साल रिलायंस जियो एवं अन्य टेलिकॉम कंपनियों से मिलने वाली कड़ी चुनौती के बाद घाटे में चल रहे एयरसेल को अपनी वायरलेस सर्विस बंद करनी पड़ी।

क्या है 7 करोड़ यूजर्स का पूरा मामला

टेलीकॉम कंपनी एयरसेल ने देश में साल 2018 के फ़रवरी माह में अपनी नेटवर्क सर्विस पूरी तरह से बंद कर दी। उस वक़्त एयरसेल के देश में करीब 9 करोड़ यूजर्स थे।कंपनी ने ट्राई से इन नौ करोड़ यूजर्स के लिए यूनिक पोर्टिंग कोड यानि यूपीसी देने के लिए कहा था, ताकि इस कंपनी के यूजर्स अपने मोबाइल नंबर को किसी अन्य नेटवर्क में पोर्ट करा सकें। ट्राई की रिपोर्ट की मानें तो इन 9 करोड़ यूजर्स में से करीब 2 करोड़ यूजर्स ने तो अपने नंबर किसी अन्य नेटवर्क प्रदाता कंपनी में पोर्ट करवा लिए थे, लेकिन अभी तक 70 मिलियन यानि कि 7 करोड़ यूजर्स ऐसे हैं जिन्होंने अपना नंबर किसी अन्य नेटवर्क में पोर्ट नहीं करवाया है। ट्राई ने इन 7 करोड़ यूजर्स के लिए मोबाइल नंबर पोर्ट कराने की आखिरी तारीख़ 31 अक्टूबर, 2019 रखी है।

अब तक 19 मिलियन यूजर्स ने कराया पोर्ट

एयरसेल ने फ़रवरी 2018 में अपनी मोबाइल नेटवर्क सर्विस बंद करने के बाद ट्राई से अपने यूजर्स के लिए एडिशनल यूपीसी देने का आग्रह किया था। इसके बाद दूरसंचार प्राधिकरण ने एयरसेल के इस आग्रह पर 28 फ़रवरी को इसके यूजर्स के लिए एडिशनल कोड जारी किया था। जानकारी के अनुसार, 28 फ़रवरी 2018 से लेकर 31 अगस्त 2019 के बीच करीब 19 मिलियन यानि कि लगभग 2 करोड़ यूजर्स ने अपने नंबर को किसी अन्य मोबाइल ऑपरेटर सेवा प्रदाता कंपनी में पोर्ट करवा लिया था। बांकि के करीब बचे 7 करोड़ यूजर्स ने अभी तक अपने नंबर को पोर्ट नहीं करवाया है। इन सात करोड़ यूजर्स में एयरसेल के साथ डिशनेट के ग्राहक शामिल हैं।

2019 में अब तक की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली हिंदी फिल्म बनीं ‘वॉर’, ख़ास क्लब में हुई शामिल

एयरसेल ग्राहक ऐसे कर सकते हैं यूपीसी जनरेट

जब नेटवर्क प्रदाता कंपनी एयरसेल ने अपनी सर्विस बंद करने की घोषणा की थी, तब उसने अपने यूजर्स को वेबसाइट के जरिए नंबर पोर्ट कराने के लिए कहा था। हालांकि, कुछ समय बाद एयरसेल के वेबसाइट ने काम करना बंद कर दिया। ऐसे में यूजर्स को मैनुअली अपना नंबर पोर्ट करवाना होता है। मैनुअली नंबर पोर्ट कराने के लिए यूजर्स को सबसे पहले यूपीसी पोर्ट जनरेट करना होगा।

इसे जनरेट करने के लिए मोबाइल यूजर्स को अपने मैसेज बॉक्स मे जाकर PORT और अपना मोबाइल नंबर लिखना होगा। इसके बाद उसे 1900 नंबर पर भेजना होगा। इस नंबर पर मैसेज भेजने के कुछ समय बाद ही यूजर्स को यूपीसी कोड एक एसएमएस के जरिए प्राप्त होगा। इस कोड की मदद से एयरसेल यूजर्स किसी अन्य ऑपरेटर के नेटवर्क में अपना नंबर पोर्ट करा सकते हैं।

COMMENT