45 केंद्रीय विश्वविद्यालयों में कॉमन एंट्रेस एग्जाम की मेरिट से मिलेगा प्रवेश

Views : 702  |  3 minutes read
Common-University-Entrance-Exam.

शैक्षणिक सत्र 2022-23 से 45 सेंट्रल यूनिवर्सिटी में स्नातक और स्नातकोत्तर प्रोग्राम में सीट कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेस एग्जाम (सीयूईटी) 2022 के मेरिट स्कोर से मिलेगी। स्नातक प्रोग्राम में सीयूईटी अनिवार्य रूप से लागू हो रहा है। जबकि स्नातकोत्तर प्रोग्राम में इस बार सीयूईटी के साथ-साथ विश्वविद्यालय अपनी प्रवेश परीक्षा से दाखिला दे सकते हैं, लेकिन अगले शैक्षणिक सत्र से अनिवार्य रूप से सीयूईटी से ही दाखिले होंगे। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) सीयूईटी को आयोजित करेगी।

13 भारतीय भाषाओं में आयोजित होगी सीयूईटी

सीयूईटी 13 भारतीय भाषाओं में आयोजित होगी। सीयूईटी के मेरिट स्कोर से निजी, डीम्ड और स्टेट यूनिवर्सिटी चाहें तो स्नातक और स्नातकोत्तर प्रोग्राम में दाखिला दे सकती हैं। एनटीए सीयूईटी को लेकर अप्रैल के पहले हफ्ते में ऑनलाइन आवेदन पत्र भरने की विंडो ओपन करेगा। जबकि जुलाई के पहले हफ्ते में देशभर के परीक्षा केंद्रों में सीयूईटी आयोजित होगी।

मंगलवार को नोटिफिकेशन जारी करेगा यूजीसी

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के अध्यक्ष प्रो. एम जगदीश कुमार ने बताया कि नई शिक्षा नीति के तहत इस सत्र से स्नातक और स्नातकोत्तर प्रोग्राम में सीयूईटी से दाखिले होंगे। यूजीसी मंगलवार को इसे लेकर नोटिफिकेशन जारी करेगा। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी(एनटीए) इसी हफ्ते परीक्षा को लेकर सिलेबस, पैटर्न समेत अन्य जानकारियों का शेड्यूल जारी करेगा। अप्रैल के पहले हफ्ते में एनटीए स्नातक और स्नातकोत्तर प्रोग्राम में दाखिले की सीयूईटी को लेकर ऑनलाइन आवेदन पत्र भरने की विंडो ओपन करेगा।

जामिया, एएमयू समेत सेंट स्टीफन भी मानेंगे नियम

यूजीसी अध्यक्ष ने कहा कि सभी सेंट्रल यूनिवर्सिटी और उनके अधीनस्थ कॉलेजों को सीयूईटी से स्नातक और स्नातकोत्तर प्रोग्राम में अनिवार्य रूप से दाखिले करने हैं। यूजीसी का यह नियम अल्पसंख्यक शिक्षण संस्थानों पर भी लागू होगा। इसमें जामिया मिल्लिया इस्लामिया, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और दिल्ली विश्वविद्यालय का सेंट स्टीफन भी शामिल है।

यह संस्थान अपने जिन आरक्षण नियमों के तहत सीट आवंटित करते हैं, वह जारी रख सकते हैं। सीयूईटी से किसी भी संस्थान के आरक्षण नियम में कोई बदलाव नहीं होगा। किसी भी आरक्षण को इससे दिक्कत नहीं होगी। मसलन जामिया 50 फीसदी सीट अल्पसंख्यक समुदाय यानी मुस्लिम के लिए आरक्षित रखता है तो उन्हीं को मिलेगी, लेकिन यहां पर सीट सीयूईटी के मेरिट स्कोर के आधार पर ही आवंटित होगी।

Read Also: शरद यादव ने एलजेडी का RJD में किया विलय, तेजस्वी बोले- निर्णय समय की मांग

COMMENT