वर्षों पहले जुदा होकर भी एक्ट्रेस राखी ने आज तक नहीं लिया गीतकार गुलज़ार से डिवोर्स!

04 minutes read
chaltapurza.com

बीते जमाने की पॉपुलर एक्ट्रेसेज में एक राखी गुलज़ार आज अपना 72वां जन्मदिन सेलिब्रेट कर रही हैं। राखी का जन्म 15 अगस्त, 1947 को पश्चिम बंगाल के रानाघाट में हुआ था। ठीक उसी दिन जिस दिन देश आज़ाद हुआ।उनका जन्म नदिया जिले के एक कारोबारी परिवार में हुआ। उनका शादी से पहले का नाम राखी मजूमदार था। राखी की पहली शादी अजय विश्वास के साथ वर्ष 1963 में हुई थी। यह विवाह ज्यादा समय तक नहीं चल सका और दो साल बाद वर्ष 1965 में दोनों अलग हो गए। वर्ष 1967 में फिल्मों में राखी ने एक्टिंग की दुनिया में कदम रखा। उन्होंने बंगाली फिल्म ‘बधू बरन’ से डेब्यू किया। बॉलीवुड में आने के बाद गीतकार गुलज़ार से शादी करने वाली राखी अपने समय में कई मर्तबा अलग-अलग कारणों से सुर्खियों में छाई रहीं। ऐसे में राखी गुलज़ार के जन्मदिन पर हम आपको उनके बारे में कई ख़ास बातें बताने जा रहे हैं..

chaltapurza.com

‘जीवन मृत्यु’ से की बॉलीवुड में एक्टिंग की शुरुआत

राखी गुलजार ने साल 1970 में धर्मेंद्र के साथ ‘जीवन मृत्यु’ से बॉलीवुड कॅरियर की शुरुआत की। उसके बाद शशि कपूर के साथ उन्होंने वर्ष 1971 में ‘शर्मीली’ की। साल 1971 राखी के लिए लकी साबित हुआ था, क्योंकि इस साल रिलीज हुई उनकी ‘शर्मीली’, ‘लाल पत्थर’ और ‘पारस’ तीनों फिल्में सुपरहिट रही थीं। उसके बाद उन्होंने वर्ष 1972 में ‘शहजादा’, वर्ष 1973 में ‘हीरा पन्ना’, ‘दाग’ और साल 1980 में ‘आंचल’ जैसी बड़ी हिट फिल्में दीं। बकौल, राखी गुलज़ार वे वर्ष में आई ‘ब्लैकमेल’ और साल 1976 में रिलीज हुई ‘तपस्या’ में दी अपनी परफॉर्मेंस को श्रेष्ठ मानती हैं।

chaltapurza.com

1973 में शायर गुलज़ार से की थी दूसरी शादी

70 के दशक में फिल्ममेकर, गीतकार व शायर गुलज़ार और एक्ट्रेस राखी के प्यार भरे किस्सों की फिल्मी दुनिया में खूब चर्चा हुआ करती थी। इन दोनों को एक-दूसरे के साथ अच्छा लगने लगा। राखी, मल्टी-टैलेंटेड गुलज़ार की शानदार पर्सनैलिटी से उन पर मोहित थीं। वहीं, गुलज़ार भी राखी की सुंदरता और बंगाली कल्चर से प्रभावित हुआ करते थे। इन दोनों ने 15 मई, 1973 को शादी कर ली थी। इनकी शादी के कुछ वक़्त बाद दोनों की एक बेटी मेघना गुलज़ार (बोस्की) का जन्म हुआ, लेकिन बेटी के जन्म के 1 साल बाद ही राखी और गुलज़ार दोनों अलग हो गए। कथित रूप से ऐसा कहा जाता है कि इन दोनों ने बेटी की वजह से आज तक तलाक़ नहीं लिया है। राखी अब भी गुलज़ार को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं देने जाती हैं।

chaltapurza.com
क्या दोनों के अलग होने की वजह थीं मीना कुमारी?

कई मीडिया रिपोर्ट्स में राखी गुलज़ार और गुलज़ार दोनों के अलग होने की वजह मीना कुमारी बताई जाती है। प्रसिद्ध एक्ट्रेस मीना कुमारी, गुलज़ार की अच्छी दोस्त हुआ करती थीं। मीना कुमारी का गुलज़ार के करीब आने का वजह उर्दू शायरी के प्रति उनका प्रेम था। मज़े की बात यह है कि मीना कुमारी ने मरने से पहले गुलज़ार को अपनी कविताओं की डायरी सौंप दी थीं। बाद में कुछ कविताओं का गुलज़ार ने प्रकाशन भी कराया था। गुलज़ार नहीं चाहते थे कि शादी बाद भी राखी फिल्मों में काम करे। गुलज़ार की यह बात मानने के बाद राखी चाहती थीं कि गुलज़ार उन्हें अपनी निर्देशित फिल्मों में काम दें। लेकिन गुलज़ार ने राखी को एक भी फिल्म में नहीं लिया। वहीं राखी गुलज़ार के पास आए दिन कई फिल्ममेकर्स के ऑफर आ रहे थे।

Read: तिरंगे के अपमान के कारण मिली थी जॉनी लीवर को यह सज़ा, बेहद मुफ़लिसी में बीता था बचपन

राखी जब भी गुलज़ार से फिल्मों के आ रहे ऑफर्स के बारे में बात करना शुरु करती थीं तो वह राखी को डांट देते थे। जिस कारण उनके रिश्तें में झगड़े शुरू हो गए थे। एक रात गुलजार और राखी के बीच कुछ ऐसा हुआ जिसने इनकी हमेशा लिए दोनों की ज़िंदग़ी बदल दी। गुलज़ार निर्देशित फिल्म ‘आंधी’ की शूटिंग के बाद फिल्म की यूनिट पार्टी कर रही थी। इस फिल्म में मुख्य कलाकार सुचित्रा सेन और संजीव कुमार थे।

chaltapurza.com
पार्टी के दौरान गुलज़ार ने राखी पर उठाया था हाथ?

पार्टी के दौरान संजीव कुमार नशे की हालत में सुचित्रा को आकर्षित करने की कोशिश कर रहे थे। जिस कारण गुलज़ार ने सुचित्रा को उनके कमरे तक सुरक्षित पहुंचाने का जिम्मा उठाया। इस दौरान राखी ने गुलज़ार को सुचित्रा को उसके कमरे तक छोड़ते हुए देख लिया और वह बहुत गुस्सा हो गई थीं। राखी ने फिल्म की यूनिट के सामने ही गुलजाऱ से सवाल शुरु कर दिए थे। ऐसा भी कहा जाता है कि यूनिट के सामने अपनी इज्ज़त पर उठाए सवालों से गुस्से में गुलज़ार ने राखी के ऊपर हाथ उठा दिया था। जिसके बाद दोनों के रिश्ते में कड़वाहट पैदा हो गई। इतनी की फिर दोनों को अलग होना पड़ा।

chaltapurza.com

हालांकि, राखी ने गुलज़ार के मना करने के बाद भी यश चोपड़ा की फिल्म ‘कभी-कभी’ में काम करने का ऑफर स्वीकार कर लिया था। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया कि राखी गुलज़ार के यश की फिल्म को साइन करने के बाद गुलज़ार ने भी राखी को जलाने के लिए फिल्म ‘मौसम’ में शर्मिला टैगोर को साइन कर लिया था। बतौर हीरोइन राखी की आखिरी फिल्म वर्ष 1895 में आई ‘पिघलता आसमान’ थी। इस फिल्म में उनके अपोजिट शशि कपूर थे। उसके बाद उन्होंने कई फिल्मों में मां और कई अन्य किरदार निभाए। लास्ट टाइम वे ‘शुभो मूहुर्त’ 2003 और क्लासमेट्स 2009 में नज़र आई थीं। राखी गुलज़ार मुंबई के बाहरी इलाके पनवेल स्थित अपने फार्महाउस में रहती हैं।

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.