World Heart Day : अपने दिल की हैल्थ का भी रखें ध्यान, उसकी खुशी में छिपी है आपकी खुशी

Views : 1383  |  0 minutes read
Heart Day

शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंग की यदि बात करें तो सबसे पहले ‘दिल’ का ही नाम आता है। दिल से हर चीज जुड़ी हुई है, भले ही वह हमारे ​इमोशंस हों या फिर हैल्थ हो। यही कारण है कि हमेशा दिल का खयाल रखने की बात कही जाती है। दूसरी तरफ आंकड़ों को देखा जाए तो भारत में हर पांचवा व्यक्ति दिल से संबंधित बीमारी से पीड़ित है। इसके अलाव विश्व भर में भी दिल से जुड़ी कई गंभीर बीमारियां सामने आ चुकी हैं।

यही कारण है कि लोगों को दिल से जुड़े रोगों के प्रति जागरूक करने के लिए वर्ल्ड हार्ट डे मनाया जाता है। वर्ल्ड हार्ट डे हर साल सितंबर के आखिरी हफ्ते में मनाया जाता है। साल 2000 के बाद से वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन द्वारा आयोजिक किया जाता है। इस साल 29 सितम्बर को हार्ट डे मनाया जा रहा है और इस बार की थीम ‘माय हार्ट, यॉर हार्ट’ (MY Heart, Your Heart) रखी गई है।

क्यों लग जाता है दिल को रोग

दिल की परेशानी का सबसे बड़ा कारण पिछले कुछ समय में लाइफ स्टाइल को माना गया है। अव्यवस्थित जीवन शैली के कारण सबसे ज्यादा असर दिल पर पड़ता है और इस कारण कई बीमारियां होने लगती हैं। बाहर का खाना, फास्ट-फूड, जंक फूड, शराब का सेवन, एक्स्ट्रा फैट फूड, हैल्थ एक्टिविटी ना होना, मोटापा आदि दिल के लिए काफी नुकसानदायक हैं। इन्हीं के कारण दिल से जुड़ी बीमारियां होने लगती हैं।

इसलिए आता है अटैक

जब ह्रदय ठीक से पंप नहीं कर पाता है तो हमें ह्रदय की बीमारी घेरने का खतरा बन जाता है। इसमें कोरोनरी धमनियों में ब्लाकेज हो जाता है जिसकी वजह से रक्त को ऑक्सीजन का प्रवाह होना कम हो जाता है और हार्ट अटैक आ जाता है।

Heart Day

खदु से करें ये वादे, हैल्दी रहेगा आपका दिल

अगर आप दिल की बीमारियों से बचना चाहते हैं तो अपने आप से कुछ वादे कर लें ताकि आपका दिल भी खुश रहे सके।

1. भोजन में हेल्दी चीजें जैसे बादाम, ताजे फल, ओट्स आदि को शामिल करें और अनहेल्दी फूड से बचें।

2. अपने रूटीन में एक्सरसाइज को शामिल करें। चाहे वह तेज चलना हो, जॉगिंग हो, जिम जाना हो, तैराकी हो, जुंबा हो या योग हो। खुद को जितना एक्टिव रखेंगे उतना आपका दिल बेहतर काम करेगा।

3. एलडीएल यानी बैड कलेस्ट्रॉल लेवल को लेकर अधिक सावधान और जागरूक बनें जिससे कि आप अपने हृदय की बेहतर सेहत के लिए समय पर बदलाव कर सकें।

4. पेट की चर्बी का संबंध अक्सर बढ़े हुए बल्‍ड शुगर लेवल, हाई ब्‍लड प्रेशर और ट्राइग्लिसराइड्स के उच्च स्तर से होता है जो दिल के रोग को बढ़ाने का बड़ा कारण है। ऐसे में अपने वजन को लेकर हमेशा सावधान रहें।

5. मेडिटेशन करें, पेंटिंग करें, किताब पढ़ें, दोस्तों और परिवार वालों के साथ वक्त बिताएं ताकि आपका तनाव कम हो सके। बेवजह का स्ट्रेस भी दिल की बीमारी को बढ़ाता है।

6. स्मोकिंग की वजह से भी हार्ट डिजीज का खतरा कई गुना बढ़ जाता है क्योंकि सिगरेट के धुएं में मौजूद केमिकल्स हार्ट के ब्ल्ड वेसल्स की दीवार को नुकसान पहुंचाते हैं।

COMMENT