क्यों बॉलीवुड स्टार्स हर मुद्दे पर सेफ रहना चाहते हैं?

Views : 2592  |  0 minutes read

रणवीर सिंह और आलिया भट्ट फिलहाल अपनी फिल्म गली बॉय के प्रमोशन में लगे हुए हैं। इसी के चलते दोनों ही लीड एक्टर्स अनुपमा चोपड़ा को इंटरव्यू देने पहुंचे। फिल्म में एक गाना है “आजादी” जिसमें JNU में हुए प्रोटेस्ट के दौरान दिए गए नारों को शामिल किया गया है। इसी को लेकर दोनों से सवाल किया गया। इंटरव्यू के दौरान अभिनेता रणवीर सिंह और आलिया भट्ट से आज़ादी के गली बॉय एडिशन से कुछ लाइनों के की आलोचना और इसके आस पास के मामले को लेकर सवाल किया गया।

इस पर दोनों ने तुरंत गाने से खुद को दूर कर लिया। रणवीर सिंह ने फिल्म में ज्यादातर गाने खुद गाए हैं। और इस सवाल पर उन्होंने बात फिल्म की डायरेक्टर जोया अख्तर और म्यूजिक पर्सन डिवाइन को पास कर दी और कहा कि वे गाने से सीधे तौर पर नहीं जुड़े हैं। जब प्रधान मंत्री मोदी के साथ सिंह की तस्वीर के बारे में सवाल पूछा गया तो अभिनेता ने बस इतना कहा कि वह ‘अराजनीतिक’ हैं और कहा कि गाना काफी कैची है।

स्क्रॉल के साथ एक अन्य इंटरव्यू में फिल्म के म्यूजिक सुपरवाइजर अंकुर तिवारी ने स्पष्ट रूप से कहा कि “इस गाने में निश्चित रूप से सामाजिक-राजनीतिक ओवरटोन हैं लेकिन विवादास्पद जेएनयू विरोध प्रदर्शनों से इसका कोई लेना-देना नहीं है। हमने अपनी फिल्म में आर्थिक विषमता से लड़ने के संदर्भ में इस गाने का उपयोग किया, और इसका जेएनयू से कोई लेना-देना नहीं है”

ऐसे में “आजादी” बहुत ही सेलेक्टिव नजर आती है। जिस प्लॉट पर फिल्म बन रही है जिस प्लॉट पर ये “आजादी” गाना बनाया गया है उस पर रणवीर और आलिया बचते नजर आते हैं। ये दोहरा रवैया क्यों? क्यों रणवीर कपूर जैसा एक्टर सेफ रहना ही उचित समझता है?

गाने को दुबारा बनाया गया है और एक तरह से लिरिक्स भी बदल दिए गए हैं। कन्हैया कुमार के उस “आजादी” गाने में संघवाद, ब्राह्मणवाद, जातिवाद का विरोध किया गया था उसकी जगह दूसरे बोल लिए गए हैं।

खैर इस पर बहस की जा सकती है। रणवीर सिंह और आलिया जहां ऐसे मुद्दों में सेफ रहना चाहते हैं वहीं इंडस्ट्री के बहुत से लोग यही चुनते हैं। नसीरूद्दीन शाह ने जब कुछ बयां किया तो उन्हें मौत की धमकियां तक दी गईं।

COMMENT