कौन थे विद्यासागर जो बंगाल वासियों के लिए किसी पवित्र गाय से कम नहीं!

कल रात कोलकाता में भारतीय जनता पार्टी की रैली के दौरान भड़की हिंसा का शिकार एक तरह से ईश्वर चंद्र विद्यासागर भी हुए। 19 वीं सदी के शिक्षाविद् और सुधारक की मूर्ति पर विद्यासागर कॉलेज में भाजपा समर्थकों द्वारा हमला किया गया। (भाजपा आरोपों से इनकार करती है)

यहां तक कि बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने तो ट्वीटर पर अपनी डीपी भी बदली और विद्यासागर की तस्वीर लगाई है।

मंगलवार को कोलकाता में भड़की हिंसक झड़पों के दौरान ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति के टूटने ने बंगाल के प्रसिद्ध दार्शनिक और प्रमुख व्यक्ति को सुर्खियों में ला दिया है। लेखक और सुधारक के बारे में हम सभी को पता होना जरूरी है। जिसने महिला को सशक्त और शिक्षा को बढ़ावा देने का काम किया।

उनका जन्म 26 सितंबर 1820 को पश्चिम बंगाल में ब्राह्मण परिवार में हुआ था। कम उम्र से ही उनमें सीखने की एक उत्सुकता थी। बचपन में वे सड़क किनारे रोडलाइट के पास बैठकर ही अपनी पढ़ाई किया करते थे क्योंकि घर इतना खर्चा सहन नहीं कर सकता था।

वे बचपन से ही प्रतिभाशाली थे और उन्होंने गाँव के पाठशाला में संस्कृत की मूल बातें सीखीं जिसके बाद वे 1826 में अपने पिता के साथ कलकत्ता चल दिए। विद्यासागर के साथ कई कहानियां जुड़ी हैं।

उन्होंने 1829 से 1841 के दौरान संस्कृत कॉलेज में वेदांत, व्याकरण, साहित्य, साहित्यिक, स्मृति और नैतिकता सीखी। उन्होंने 1839 में संस्कृत में एक प्रतियोगिता परीक्षण ज्ञान में भाग लिया और ‘विद्यासागर’ की उपाधि प्राप्त की।

1839 में, विद्यासागर ने सफलतापूर्वक अपनी लॉ की परीक्षा पास की और 1841 में, 21 वर्ष की आयु में, उन्होंने संस्कृत विभाग के प्रमुख के रूप में फोर्ट विलियम कॉलेज में प्रवेश लिया।

वह जल्द ही एक प्रसिद्ध लेखक, दार्शनिक और मानवता के कट्टर समर्थक के रूप में जाने जाने लगे। अपने समय के ब्रिटिश अधिकारियों से सम्मानित, विद्यासागर ने बंगाली शिक्षा प्रणाली में क्रांति लाई और जिस तरह से बंगाली भाषा लिखी और सिखाई जाती थी उसे ठीक किया। उनकी पुस्तक, book बोर्नो पोरिचोय ’(पत्र से परिचय) अभी भी बंगाली अक्षर सीखने के लिए परिचयात्मक पाठ के रूप में उपयोग की जाती है।

विद्यासागर को शिक्षा का कारण बनने का श्रेय दिया जाता है, विशेषकर लड़कियों के लिए। उन्होंने साथी सुधारकों रामगोपाल घोष और मदन मोहन तारालंकार के साथ मिलकर 19 वीं सदी की शुरुआत में लड़कियों के लिए कई स्कूलों की स्थापना की। उनका दृढ़ विश्वास था कि हर कोई, चाहे उनकी जाति या लिंग कुछ भी हो, उन्हें शिक्षा का अधिकार है और इसलिए उन्होंने निचली जातियों के लोगों के लिए संस्कृत कॉलेज का परिसर खोल दिया।

वे विधवा पुनर्विवाह के कारण के बारे में विशेष रूप से मुखर थे और 1856 के विधवा पुनर्विवाह अधिनियम XV के लिए काफी प्रयास किए। उन्होंने बंगाली वर्णमाला को भी पुन: निर्मित किया और बंगाली टाइपोग्राफी की 12 स्वर और 40 व्यंजन के वर्णमाला में सुधार किया।

उन्होंने कई किताबें लिखीं जिससे बंगाली शिक्षा प्रणाली को काफी मदद मिली। उनका निधन 29 जुलाई, 1891 को 70 साल की उम्र में कोलकाता में हुआ था। उनकी मृत्यु के बाद रवींद्रनाथ टैगोर ने कहा कि एक चमत्कार है कि कैसे भगवान ने चालीस करोड़ बंगाली बनाने की प्रक्रिया में एक ऐसे आदमी का उत्पादन किया।

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.