B’day: कौन है चंदा कोचर, यहां समझिए लोन के किन आरोपों में फंसी हैं?

Views : 1481  |  0 minutes read
chanda-kochhar

चंदा कोचर भारत की प्रमुख बिजनेस लेडी में से एक मानी जाती है। चंदा कोचर आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व सीईओ हैं। 17 नवंबर को चंदा कोचर 57 वर्ष की हो जाएंगी। चंदा कोचर का जन्म 17 नवंबर 1961 को जोधपुर, राजस्थान में हुआ था। उनके 57वें जन्मदिन पर पढ़िए उनकी कहानी और उनसे जुड़े विवाद….

चंदा कोचर आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ हैं। भारत में खुदरा बैंकिंग क्षेत्र को आकार देने में उनकी भूमिका के लिए उन्हें पहचाना जाता है। वह 1984 में ICICI Limited में शामिल हुईं और 1990 के दशक के दौरान ICICI बैंक की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाईं।

उन्होंने इस अवधि के दौरान बुनियादी ढांचे के वित्त और कॉर्पोरेट बैंकिंग व्यवसाय के प्रमुख के रूप में कार्य किया। 2001 में, कोचर को निदेशक मंडल में एक पद दिया गया।

2006-07 के दौरान कोचर ने बैंक के कॉर्पोरेट और अंतर्राष्ट्रीय बैंकिंग व्यवसायों का नेतृत्व किया। 2007 और 2009 के बीच कोचर कंपनी के संयुक्त प्रबंध निदेशक और मुख्य वित्तीय अधिकारी के पद पर थीं। 2009 में, वह कंपनी की प्रबंध निदेशक और सीईओ बन गईं।

वह भारत और विदेशों में बैंक के कार्यों की देखरेख करती थीं। कंपनियों के बोर्डों की भी अध्यक्षता कोचर द्वारा ही की जाती हैं। कोचर को 2011 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। उनका नाम फोर्ब्स की ‘वर्ल्ड की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं’ में लगातार सात वर्षों तक और फॉर्च्यून इंडिया की ‘बिजनेस की सबसे शक्तिशाली महिलाओं में लगातार पांच साल’ तक रहा। उन्हें 2015 में टाइम पत्रिका के ‘दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगों’ में भी नामित किया गया था।

इसके अलावा, कोचर भारत-जापान बिजनेस लीडर्स फोरम, यूएस-इंडिया सीईओ फोरम और व्यापार मंडल के सदस्य भी रह चुकी हैं। वह इंडियन बैंक्स एसोसिएशन की उपाध्यक्ष भी रह चुकी हैं।

कोचर IIIT वडोदरा में बोर्ड ऑफ गवर्नर्स के अध्यक्ष रह चुकी हैं। वह नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सिक्योरिटीज मार्केट्स और इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनेशनल फाइनेंस के बोर्ड में भी थीं। वह पहले अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा सम्मेलन की अध्यक्ष थीं।

chanda kochar
chanda kochar

कोचर व्यापार और उद्योग पर प्रधान मंत्री परिषद के सदस्य रही हैं। वह 2011 में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की वार्षिक बैठक की सह-अध्यक्ष भी थीं।

अब क्यों हैं चर्चा में-

केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने ICICI बैंक की पूर्व प्रमुख चंदा कोचर, उनके पति दीपक कोचर, वीडियोकॉन के प्रमुख वेणुगोपाल धूत और अन्य के खिलाफ 2012 में दिए गए लोन में कथित अनियमितता को लेकर मामला दर्ज किया है। उस समय चंदा कोचर ही प्रमुख थीं। जांच एजेंसी ने मामले के संबंध में गुरुवार को मुंबई और महाराष्ट्र के औरंगाबाद में वीडियोकॉन मुख्यालय की तलाशी ली।

चंदा कोचर के खिलाफ मामले को यहां समझिए

यह मामला वीडियोकॉन को दिए गए कर्ज और उसके प्रमोटर वेणुगोपाल धूत और उनके पति दीपक कोचर के बीच कारोबारी गठजोड़ से जुड़ा है।

वेणुगोपाल धूत ने कथित तौर पर नुओवर रिन्यूएबल्स में करोड़ों रुपये का निवेश किया जो कि चंदा कोचर के पति द्वारा स्थापित एक कंपनी थी और ऐसा वीडियोकॉन समूह को लॉन देने के बाद किया गया था।

40,000 करोड़ का कर्ज जो वीडियोकॉन को भारतीय स्टेट बैंक के नेतृत्व में 20 बैंकों के एक संघ से मिला था। 3,250 करोड़ का लोन ICICI बैंक के लिए एक गैर-निष्पादित परिसंपत्ति बन गया है।

पिछले साल यह मामला सामने आया था जब एक व्हिसिलब्लोअर ने आरोप लगाया था कि चंदा कोचर के पति दीपक कोचर और उनके परिवार के सदस्यों को इस सौदे से फायदा हुआ।

प्रारंभ में, चंदा कोचर ने बोर्ड का पूरा समर्थन किया लेकिन बाद में आरोपों की सूची में रुइया के एक कथित एस्सार समूह शेल कंपनी जैसे नाम भी सामने आए और उन लोगों के बीच भी कोचर परिवार का रिश्ता था।

इन आरोपों के कारण सीबीआई, ईडी और एसएफआईओ सहित कई एजेंसियों ने जांच की और कोचर के परिवार के सदस्यों से पूछताछ भी की।

chanda kochar
chanda kochar

आईसीआईसीआई बैंक ने पिछले साल रिटायर्ड न्यायाधीश बीएन श्रीकृष्ण और चंदा कोचर द्वारा एक स्वतंत्र जांच शुरू की थी। जांच लंबित होने पर चंदा कोचर अनिश्चितकालीन अवकाश पर चली गईं। इसके चलते संदीप बख्शी को दिन-प्रतिदिन के कार्यों की देखरेख के लिए मुख्य परिचालन अधिकारी बनाया गया। चंदा कोचर ने पिछले साल अक्टूबर में इस्तीफा दे दिया था।

सीबीआई की पहली सूचना रिपोर्ट में चार कंपनियों का नाम दिया गया है जिसमें नूपावर रिन्यूएबल्स, सुप्रीम एनर्जी, वीडियोकॉन इंटरनेशनल इलेक्ट्रॉनिक्स और वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज शामिल हैं।

COMMENT