राजीव गांधी ने क्या कहा था उस भाषण में जिसका कांग्रेस को हमेशा डर रहता है?

chaltapurza.com

देश में 17वीं लोकसभा के लिए हो रहे चुनाव का अब अंतिम चरण और बाकी रह गया है। 19 मई को सातवां और आखिरी चरण का मतदान होगा, इसके बाद 23 मई को इस चुनाव का परिणाम घोषित होगा। इस लोकसभा चुनाव में राजनीतिक दलों की बयानबाजी और निजी हमले अब तक जारी है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी और प्रधानमंत्री पर नरेन्द्र मोदी पर कई बार निजी हमले किए हैं। इसके जवाब में बीजेपी ने भी कांग्रेस पर कई बार हमला किया है। बीजेपी ने इस बार वो किया जिसका डर कांग्रेस को हमेशा से बना हुआ था। कांग्रेस का डर पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी हैं। आइये हम आपको बताते हैं क्या था राजीव गांधी का वो भाषणा जिसका डर कांग्रेस को हमेशा सताता रहा है..

chaltapurza.com

बीजेपी ने शेयर किया राजीव गांधी का वो भाषण..

कांग्रेस के हमलों के बाद बीजेपी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से राजीव गांधी का वह भाषण शेयर किया गया है जिसमें वो कहते हैं, जब बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती में भूकंप आता है।’ राजीव का यह बयान हमेशा सिख दंगा मामले से जोड़ा जाता है। इन दंगों में देश में करीब 3 हजार सिखों को मौत के घाट उतार दिया गया था। सिख दंगा 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद भड़का था। इस घटना में कांग्रेस के कुछ नेताओं पर आरोप है कि वह दिल्ली में उस भीड़ की अगुवाई कर रहे थे जो सिखों की निशाना बना रही थी। इनमें से एमपी के वर्तमान मुख्यमंत्री कमलनाथ, सज्जन कुमार, जगदीश टाइटलर और एचकेएल भगत शामिल हैं। इन सभी का जिक्र बीजेपी की ओर से जारी वीडियो में भी किया गया है।

राजीव के उस भाषण की क्या है असल कहानी

19 नवम्बर, 1984 का दिन.. इंदिरा गांधी की हत्या के बाद उनका पहला जन्मदिन था। दिल्ली में सिख विरोधी दंगों को शुरू हुए पंद्रह दिन भी नहीं बीते थे और राजीव गांधी ने तमाम रस्मों-रिवाज के साथ इंदिरा गांधी का जन्मदिन मनाने की घोषणा कर दी। यह वो दौर था जब इंडिया गेट के पास बोट क्लब सियासत का प्रमुख केन्द्र हुआ करता था और इसको आज के रामलीला मैदान या जंतर-मंतर के बराबर माना जाता था। इंदिरा गांधी का जन्मदिन इस रूप में भी खास था कि प्रधानमंत्री के रूप में राजीव गांधी पहली बार किसी रैली को संबोधित करने जा रहे थे। कांग्रेस ने इस आयोजन को सफल बनाने के लिए बड़े स्तर पर तैयारी की थी। फिर वह दिन आ गया जब राजीव गांधी को यहां उपस्थित होना था। बोट क्लब में दिल्ली के अलावा पड़ोसी राज्यों से जुटी कार्यकर्ताओं की बड़ी भीड़ का पूरा ध्यान राजीव गांधी की तरफ था।

chaltapurza.comइस कार्यक्रम के दौरान जब राजीव गांधी बोलने के लिए खड़े हुए और उन्होंने जो कहा वह करीब चार दशक बाद अब भी रह-रहकर कांग्रेस को सालता है। उस रैली में राजीव गांधी का पूरा संबोधन इंदिरा गांधी की हत्या के आस-पास ही रहा था। राजीव के इस भाषण पर मनोज मित्ता और एचएस फुल्का ने अपनी किताब ‘व्हेन अ ट्री शुक डेल्ही’ में लिखा है कि, राजीव गांधी ने बोट क्लब की रैली में कहा था कि गुस्से में उठाया गया कोई भी कदम देश के लिए घातक होता है। कई बार गुस्से में हम जाने-अनजाने ऐसे ही लोगों की मदद करते हैं जो देश को बांटना चाहते है। लेकिन इसके बाद उन्होंने जो कहा वो चौंकाने वाला था। उन्होंने आगे कहा, ‘हमें मालूम है कि लोगों के अंदर कितना क्रोध है, लेकिन जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो आसपास की धरती हिलती है।’

Read More: भारतीय सेना की वर्दी में होगा बदलाव, जानें इंडियन आर्मी यूनिफॉर्म कितने प्रकार की है?

सिखों के खिलाफ दिए इस बयान के बाद सिख समुदाय में राजीव गांधी के प्रति नाराज़गी काफी बढ़ गई थी। ऐसा माना गया कि राजीव की दंगाइयों के प्रति हमदर्दी थी और उन्होंने सिखों पर हुए हमलों को उतनी गंभीरता से नहीं लिया जिस रूप में लिया जाना चाहिए था। कांग्रेस के विरोधी आज भी अक्सर राजीव गांधी के इस बयान को कोट करते हैं और कांग्रेस के खिलाफ हथियार के रूप में इस्तेमाल करते हैं। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का यह बयान कांग्रेस के गले की हड्डी बन चुका है। इससे पीछा छुड़ाना कांग्रेस के लिए बिल्कुल भी आसान नहीं है।

 

COMMENT

Chaltapurza.com, एक ऐसा न्यूज़ पोर्टल जो सबसे पहले, सबसे सटीक की भागमभाग के बीच कुछ अलग पढ़ने का चस्का रखने वालों का पूरा खयाल रखता है। हम देश-विदेश से लेकर राजनीतिक हलचल, कारोबार से लेकर हर खेल तो लाइफस्टाइल, सेहत, रिश्ते, रोचक इतिहास, टेक ज्ञान की सभी हटके खबरों पर पैनी नजर रखने की कोशिश करते हैं। इसके साथ ही आपसे जुड़ी हर बात पर हमारी “चलता ओपिनियन” है तो जिंदगी की कशमकश को समझने के लिए ‘लव यू जिंदगी’ भी कुछ अलग है। हमारी टीम का उद्देश्य आप तक अच्छी और सही खबरें पहुंचाना है। सबसे अच्छी बात यह है कि हमारे इस प्रयास को निरंतर आप लोगों का प्यार मिल रहा है…।

Copyright © 2018 Chalta Purza, All rights Reserved.