हेल्थ वर्कर्स के साथ हिंसा और दुर्व्यवहार बर्दाश्त नहीं: पीएम मोदी

Views : 864  |  3 minutes read
PM-Modi-India

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वास्थ्यकर्मियों पर हो रहे हमलों को लेकर चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि मैं यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि कोरोना वायरस महामारी की इस घड़ी में प्रथम पंक्ति में खड़े होकर वायरस से लड़ रहे स्वास्थ्यकर्मियों के साथ हिंसा या किसी भी तरीके का दुर्व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। पीएम मोदी ने सोमवार को कर्नाटक के राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के रजत जयंती समारोह के उद्घाटन कार्यक्रम के संबोधन में यह बात कही। जानकारी के लिए बता दें, कोरोना वायरस महामारी के कारण इस कार्यक्रम का आयोजन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए किया गया।

पीएम बोले, हमारे चिकित्साकर्मी योद्धा अपराजेय

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 25 साल का मतलब राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय अपनी युवावस्था में है। यह उम्र और भी बड़ा सोचने और बेहतर करने की है। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि विश्वविद्यालय आने वाले समय में उत्कृष्टता की नई ऊंचाइयों को छूता रहेगा। पीएम मोदी ने कहा कि अगर वैश्विक महामारी नहीं हुई होती तो मैं आप सभी लोगों के साथ बेंगलुरु में इस विशेष दिन शामिल होता। इस समय दुनिया डॉक्टर, नर्स, चिकित्सा कर्मियों और वैज्ञानिक बिरादरी की तरफ आशा और कृतज्ञता के साथ देख रही है। दुनिया को आपके देखभाल और इलाज दोनों की जरूरत है।

Read More: केरल में दक्षिण पश्चिम मानसून की दस्तक, 9 जिलों में येलो अलर्ट जारी

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि कोरोना वायरस हमारा अदृश्य दुश्मन हो सकता है, लेकिन हमारे चिकित्साकर्मी योद्धा अपराजेय हैं। उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के रूप में हमारे पास दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना है। दो साल से कम समय में एक करोड़ लोगों को इस योजना का लाभ उठा चुके हैं। पीएम मोदी ने कहा कि महिलाएं और गांव में रहने वाली भारत की जनता को इससे सबसे ज्यादा लाभ मिला है। उन्होंने कि देश ने 22 और एम्स स्थापित करने में तेजी से प्रगति देखी है। बता दें, देश में पिछले मोदी सरकार के कार्यकाल में नए स्वास्थ्य संस्थानों और चिकित्सा सुविधाओं के विस्तार की दिशा में काफी काम हुआ है।

COMMENT